Tuesday, Aug 20 2019 | Time 21:55 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • उप्र में पर्यटन की 66 योजनाओं के लिए 398 49 करोड़ स्वीकृत
  • किसानों को नई सट्टा नीति के तहत गन्ने की पर्चियां होंगी जारी:चौहान
  • उत्तराखंड में भारी बारिश और बाढ़ से अब तक 59 लोगों की मौत
  • रामबिलास शर्मा ने केन्द्रीय मानव संसाधन मंत्री से बातचीत की
  • ई-वीजा शुल्क को बनाया गया आकर्षक-पटेल
  • चिदम्बरम के घर से बैरंग लौटी सीबीआई और ईडी की टीम
  • सहारनपुर पत्रकार हत्याकाण्ड के मुख्य आरोपी समेत तीन गिरफ्तार
  • जम्मू-कश्मीर के लोगों को विश्वास में लिए बिना अनुच्छेद 370 हटाया गया: मुकुल संगमा
  • भारत के बारे में पर्यटकों की राय पता लगाने का निर्देश
  • वन महोत्सव के तहत कोविंद ने किया पौधारोपण
  • आजाद को जम्मू हवाई अड्डे से वापस किया गया
  • मजदूरी मांगने पर मजदूर की गोली मारकर हत्या
  • दिल्ली में बाढ़ का खतरा बढ़ा
  • डायमंड ब्लाक से निकले हीरों का अवलोकन करने पहुंची छह कंपनियां
  • राखी गढ़ी के बारे में हरियाणा सरकार के प्रस्ताव को केन्द्र की सहमति
लोकरुचि


अक्षय तृतीया पर कान्हा को अलंकरित पोशाक धारण कराने की होड़

अक्षय तृतीया पर कान्हा को अलंकरित पोशाक धारण कराने की होड़

मथुरा, 5 मई (वार्ता) अक्षय तृतीया के पावन पर्व पर ब्रज के मंदिरों में ठाकुर को चंदन की अलंकरित पोशाक धारण कराने की मंदिर सेवायतों में होड़ सी लग जाती है। इस बार अक्षय तृतीया का पर्व सात मई को मनाया जाएगा।

मंदन मोहन मंदिर जतीपुरा (गोवर्धन) के महन्त ब्रजेश मुखिया ने रविवार को यूनीवार्ता को बताया कि ब्रज के मंदिरों में ठाकुर की सेवा यशोदा भाव या वात्सल्य भाव अथवा दास भाव या भक्त भाव या साख्य भाव से की जाती है। गर्मी बढ़ने के साथ मां यशोदा को लाला को गर्मी से बचाने की चिंता हो जाती है इसीलिए वे उसके शरीर में चन्दन लेप कर गर्मी के प्रभाव को कम करने का प्रयास करती हैं।

सप्त देवालयों में राधारमण मंदिर में इस दिन से राजभेाग आरती पहले बत्ती से फिर फूलों से होती है। इसके बाद शरद उत्सव तक फूलों की ही आरती होती है। मंदिर के सेवायत आचार्य दिनेशचन्द्र गोस्वामी ने बताया कि इस दिन चूंकि बहुत अधिक चंदन की आवश्यकता होती है इसलिए एक पखवारा पहले ही चन्दन का घिसना शुरू हो जाता है।

बालस्वरूप में सेवा होने के कारण ठाकुर को गर्मी से बचाने के लिए अक्षय तृतीया के दिन चन्दन में कपूर, केसर मिलाकर और फिर ठाकुर का चंदन के पैजामा, अंगरखी, पगड़ी, पटका बनाकर अद्भुत रूप श्रंगार किया जाता है। लाला को नजर लगने से बचाने के लिए इस दिन झांकी दर्शन होते हैं। इस दिन मंदिर में सतुआ के लड्डू और फलों का भोग लगता है। अक्षय तृतीया का पर्व नजदीक आने के कारण इस पोशाक के लिए ही मंदिरों में चन्दन की लुगदी बनाई जा रही है जहां अन्य मंदिरों में यह लुगदी मंदिर के किसी भाग में चन्दन घिस कर एकत्र की जाती है

सं प्रदीप

जारी वार्ता

More News
जौनपुर में कजगांव का ऐतिहासिक कजली मेला मनाया गया

जौनपुर में कजगांव का ऐतिहासिक कजली मेला मनाया गया

20 Aug 2019 | 12:40 PM

जौनपुर , 20 अगस्त(वार्ता)उत्तर प्रदेश के जौनपुर में स्थित कजगांव और राजेपुर के कजरी का ऐतिहासिक मेला सोमवार को हर्षोल्लास से मनाया गया।

see more..
वृंदावन के चार मंदिरों में दिन में मनाया जाता है कृष्ण जन्मोत्सव

वृंदावन के चार मंदिरों में दिन में मनाया जाता है कृष्ण जन्मोत्सव

18 Aug 2019 | 4:55 PM

मथुरा, 18 अगस्त (वार्ता) देश के अन्य देव स्थानों की तरह ब्रज के अधिसंख्य मंदिरों में श्रीकृष्ण जन्माष्टमी रात में मनाई जाती है वहीं यशोदा भाव से सेवा होने के कारण वृन्दावन के चार मंदिरों में दिन में ही कान्हा का जन्मोत्सव मनाया जाता है। इस बार ब्रज में जन्माष्टमी 24 अगस्त को मनाई जाएगी।

see more..
एक करोड़ से ज्यादा भक्तों ने किए अती वरदार भगवान के दर्शन

एक करोड़ से ज्यादा भक्तों ने किए अती वरदार भगवान के दर्शन

17 Aug 2019 | 4:49 PM

चेन्नई, 17 अगस्त (वार्ता) चेन्नई के कांचीपुरम में चल रहे भगवान अती वरदार उत्सव के आख़िरी दिन पाँच लाख से भी ज्यादा श्रद्धालु शामिल हुए। यह त्योहार 40 सालों में एक बार 48 दिनों तक मनाया जाता है।

see more..
आजादी के आंदोलन में इटावा स्थित चंबल के डाकुओं ने भी दिखाया देशप्रेम

आजादी के आंदोलन में इटावा स्थित चंबल के डाकुओं ने भी दिखाया देशप्रेम

16 Aug 2019 | 9:53 AM

इटावा, 14 अगस्त (वार्ता) शौर्य, पराक्रम और स्वाभिमान की प्रतीक उत्तर प्रदेश में इटावा स्थित चंबल घाटी के डाकुओं के आंतक ने भले ही देश की कई सरकारों को हिलाया हो लेकिन यह बहुत ही कम लोग जानते है कि यहां के डाकुओं ने अग्रेंजी हुकूमत के दौरान आजादी के दीवानों की तरह अपनी देशप्रेमी छवि से देशवासियो के दिलों में ऐसी जगह बनाई कि हम उन्हें स्वतंत्रता दिवस के दिन याद किये बिना रह नही पाते है।

see more..
image