Thursday, Jul 18 2019 | Time 16:54 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • ईबे करेगी पेटीएम मॉल में निवेश,लेगी 5 5 प्रतिशत हिस्सेदारी
  • ट्रम्प पर महाभियोग चलाने का प्रस्ताव गिरा
  • 2020 में विश्व खिताब जीतना है लक्ष्य: विजेन्दर
  • फोटो कैप्शन पहला सेट
  • बाबा रामदेव मंदिर से मुकुट और नकदी चोरी
  • राज्यसभा में अंतरराष्ट्रीय मध्यस्थता एवं सुलह केन्द्र बनाने की मांग
  • एशिया को फतह करने लेबनान रवाना भारत की लड़कियां
  • दिल्ली में 8 सितंबर को होगा 7वीं पिंकाथॉन दौड़ का आयोजन
  • दिल्ली में 8 सितंबर को होगा 7वीं पिंकाथॉन दौड़ का आयोजन
  • गुरु नानक देव के 550वें प्रकाशोत्सव को समर्पित पंजाब खेल कैलेंडर जारी
  • मानसून सत्र के पहले दिन विपक्ष के हंगामे के बीच परिषद की कार्यवाही स्थगित
  • भ्रष्टाचार पर अंकुश लगाना सरकार की बड़ी सफलता : निशिकांत
  • चौतरफा बिकवाली से सेंसेक्स धड़ाम
विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी


अगले 82 साल तक नहीं लगेगा इतना लंबा चंद्रग्रहण

अगले 82 साल तक नहीं लगेगा इतना लंबा चंद्रग्रहण

नयी दिल्ली 13 जुलाई (वार्ता) इस सदी का सबसे लंबा पूर्ण चंद्रग्रहण 27-28 जुलाई की रात को लगेगा जो करीब पौने दो घंटे तक रहेगा। खास बात यह होगी इस बार देश के सभी हिस्सों से इसे देखा जा सकेगा।

पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय ने बताया कि एक घंटे 43 मिनट तक चंद्रमा पूरी तरह पृथ्वी की छाया में होगा जो न सिर्फ वर्ष 2001 से अब तक का सबसे लंबा पूर्ण चंद्रग्रहण होगा बल्कि अगले 82 साल यानी वर्ष 2100 तक इतना लंबा पूर्ण चंद्रग्रहण दुबारा नहीं लगेगा।

इसके अलावा 27 जुलाई को लाल ग्रह मंगल पृथ्वी के ठीक सामने होगा। इस प्रकार उस दिन पृथ्वी सूर्य और मंगल के बीच में होगी। इस प्रकार जुलाई के अंतिम और अगस्त के शुरुआती दिनों में सूर्यास्त से सूर्योदय तक पूरे समय मंगल दिखायी देगा तथा आम दिनों के मुकाबले ज्यादा चमकीला नजर आयेगा। यह 31 जुलाई को पृथ्वी के सबसे करीब होगा।

आंशिक चंद्रग्रहण 27 जुलाई की रात 11 बजकर 54 मिनट पर शुरू होगा और धीरे-धीरे चंद्रमा पर पृथ्वी की छाया बढ़ती जायेगी तथा (28 जुलाई) रात एक बजे यह पूर्ण चंद्रग्रहण में बदल जायेगा। रात दो बजकर 43 मिनट तक पूर्ण चंद्रग्रहण रहेगा जबकि आंशिक चंद्रग्रहण तड़के तीन बजकर 49 मिनट पर समाप्त होगा।

चंद्रग्रहण की रात मंगल की स्थिति चंद्रमा की रेखा के काफी करीब होगी और ग्रहण के दौरान इसे बिना किसी उपकरण के भी देखा जा सकेगा। मंगल औसतन हर 26 महीने में एक बार पृथ्वी से सूर्य के ठीक विपरीत आता है। यह 2003 के बाद पहली बार होगा जब मंगल पृथ्वी के इतना करीब होगा और इतना चमकीला दिखेगा। अगस्त 2003 में यह लगभग 60 हजार साल में पृथ्वी के सबसे निकट आया था।

चंद्रमा 27 जुलाई को अपनी कक्षा में पृथ्वी से सबसे ज्यादा दूरी पर होगा जिससे अपनी कक्षा में इसकी गति कम होगी। इन्हीं दो कारणों से यह चंद्रग्रहण इतना लंबा होगा। इससे लंबा पूर्ण चंद्रग्रहण 16 जुलाई 2000 को लगा था जब यह एक घंटे 46 मिनट रहा था। इसी तरह का पूर्ण चंद्रग्रहण 15 जून 2011 को लगा था जो एक घंटे 40 मिनट तक दिखा था।

भारत के अलावा यह चंद्रग्रहण एशिया के अन्य हिस्सों, ऑस्ट्रेलिया, रूस के कुछ हिस्सों, अफ्रीका, यूरोप, दक्षिण अमेरिका के पूर्वी हिस्सों और अंटार्कटिका में भी देखा जा सकेगा।

अजीत अरविंद

वार्ता

More News
स्मार्टफोन के ऐप के जरिए संचालित होने लगा हियरिंग एड

स्मार्टफोन के ऐप के जरिए संचालित होने लगा हियरिंग एड

02 Mar 2019 | 2:20 PM

वर्ल्ड हियरिंग डे पर विशेष (अशोक टंडन से ) नयी दिल्ली 02 मार्च (वार्ता) आंशिक अथवा पूर्ण रूप से सुन पाने में असमर्थ लोगों के लिए वरदान साबित हुए श्रवण यंत्र (हियरिंग एड) अब स्मार्ट फोन के ऐप के जरिए संचालित किये जा सकते हैं अौर उपभोक्ता स्वयं अपनी जरुरत के अनुरुप इसकी फ्रीक्वेंसी में बदलाव कर सकता है।

see more..
विदेशी डाक्टरों ने एम्स में मुर्दों के घुटने बदलने का लिया प्रशिक्षण

विदेशी डाक्टरों ने एम्स में मुर्दों के घुटने बदलने का लिया प्रशिक्षण

18 Feb 2019 | 2:39 PM

नयी दिल्ली 18 फरवरी (वार्ता) मुर्दो के घुटने का ऑपरेशन करके देश विदेश के डॉक्टरों ने अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) में मरीज़ों के घुटने बदलने की शल्य चिकित्सा का प्रशिक्षण लिया।

see more..
दिमाग में छिपा है ऑस्टियोपोरोसिस का इलाज

दिमाग में छिपा है ऑस्टियोपोरोसिस का इलाज

20 Jan 2019 | 5:56 PM

सैन फ्रांसिस्को, 20 जनवरी (शिन्हुआ) वैज्ञानिकों के एक बेहद अहम अनुसंधान में महिलाओं में बढ़ती उम्र में हड्डियों को कमजोर और भुरभुरा करने वाले रोग ‘ऑस्टियोपोरोसिस’ से निजात ही संभव नहीं है बल्कि उसे और मजबूत बनाने में ‘चमत्कारी’ सफलता भी मिल सकेगी।

see more..
image