Tuesday, May 26 2020 | Time 09:16 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • ठाणे में गोलीबारी की घटना में दोनों आरोपी गिरफ्तार
  • लेखकों, जन संगठनों ने हज़ारों मजदूरों को लॉकडाउन में घर पहुंचाया
  • दक्षिण अफ्रीका में एक दिन में कोरोना से 52 मौतें
  • आज का इतिहास (प्रकाशनार्थ 27 मई)
  • चीन में कोरोना के सात नए मामले दर्ज
  • कोरोना से अफ्रीका सबसे कम प्रभावित : डब्ल्यूएचओ
  • डब्ल्यूएचओ ने कोरोना के मरीजों पर एचसीक्यू का परीक्षण रोका
  • अफगानिस्तान में एक सप्ताह तक के लिए बढ़ा संघर्ष विराम
  • तुगलकाबाद में झुग्गी बस्तियों में लगी भीषण आग, कोई हताहत नहीं
  • विदेशी पर्यटकों के लिए जल्द खुल सकता है स्पेन
  • अमेरिका में कोरोना से करीब 98 हजार लोगों की मौत
  • ट्रम्प ने गोल्फ खेलने का किया बचाव
  • विदेशी पर्यटकों के लिए जल्द खुल सकता है स्पेन
  • नेपाल में कोरोना से चौथी मौत
राज्य » मध्य प्रदेश / छत्तीसगढ़


अच्‍छा इंटेलीजेंस अफसर बनने चुनौतियों से लें सीख: सिंह

भोपाल, 18 सितंबर (वार्ता) मध्यप्रदेश पुलिस के महानिदेशक विजय कुमार सिंह ने कहा है कि चुनौतियों से अनुभव लेकर और संबंधित विषयों के सतत् अध्‍ययन एवं चिंतन से ही अच्‍छा इंटेलीजेंस अफसर बना जा सकता है। इसलिए पुलिस अधिकारी अपने मन में सीखने की प्रवृ‍त्ति को सदैव जागृत रखें।
श्री सिंह मध्‍यप्रदेश पुलिस की विशेष शाखा संवर्ग के 10 वें बैच के प्रशिक्षु उप निरीक्षकों के दीक्षांत समारोह को बतौर मुख्‍य अतिथि संबोधित कर रहे थे। उन्‍होंने दिन-प्रतिदिन सामने आने वाली नई-नई चुनौतियों से निपटने के लिए लगातार रिफ्रेशर कोर्स आयोजित करने पर बल दिया। इस बैच में 13 महिला प्रशिक्षु उप निरीक्षकों सहित कुल 35 उप निरीक्षकों ने एक वर्ष का कठिन बुनियादी प्रशिक्षण लिया है, जिसमें आंतरिक एवं बाहृय प्रशिक्षण शामिल है।
कल शाम यहां विशेष शाखा के प्रशिक्षण संस्‍थान में आयोजित हुए दीक्षांत समारोह में अतिरिक्‍त पुलिस महानिदेशक गुप्‍तवार्ता कैलाश मकवाणा, पु‍लिस महानिरीक्षक कानून-व्‍यवस्‍था व सुरक्षा अनंत कुमार सिंह, पुलिस महानिरीक्षक गुप्‍तवार्ता मकरंद देउस्‍कर एवं उप पुलिस महानिरीक्षक कानून-व्‍यवस्‍था व सुरक्षा मनोज शर्मा भी मौजूद थे।
इस अवसर पर श्री सिंह ने कहा शासकीय सेवा के अंतिम दिन तक कुछ न कुछ सीखने की ललक मन में रहनी चाहिए। प्रशिक्षण एक सतत् प्रक्रिया है। सीखने की दृढ़ इच्‍छा शक्ति रखकर ही हम दक्ष अधिकारी बन सकते हैं। बुनियादी प्रशिक्षण से विभाग का परिचय मिलता है। दक्ष अफसर बनने के लिए सतत् प्रशिक्षण की जरूरत होती है।
प्रशिक्षण सत्र के दौरान किए गए उत्‍कृष्‍ट प्रदर्शन के आधार पर प्रशिक्षु उप निरीक्षक रूपाली रघुवंशी को मुख्‍य अतिथि एवं अन्‍य अतिथियों ने ओवर-ऑल प्रथम स्‍थान की सील्‍ड प्रदान की। साथ ही आंतरिक व बाहृय विषयों में दूसरे व तीसरे स्‍थान पर रहे उप निरीक्षक क्रमश: आकाश भदौरिया व रेणु पंवार सहित सात अन्‍य उप निरीक्षकों को विभिन्‍न विधाओं में सराहनीय प्रदर्शनक के लिए पुरस्‍कृत किया गया।
बघेल
वार्ता
image