Wednesday, Oct 28 2020 | Time 05:52 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • कनाडा में कोरोना से दस हजार से अधिक लोगों की मौत
  • जर्मनी में कोरोना के 11,409 नए मामले
  • इजरायल में कोरोना संक्रमितों की संख्या 310,851 हुई
  • बंगलादेश में कोरोना संक्रमितों की संख्या चार लाख के पार
  • गोवा में कोरोना रिकवरी दर 93 05 प्रतिशत पर पंहुचा
पार्लियामेंट


अनुबंध कृषि से कारपोरेट घरानों का जमीन पर कब्जा होगा :कांग्रेस

अनुबंध कृषि से कारपोरेट घरानों का जमीन पर कब्जा होगा :कांग्रेस

नयी दिल्ली 20 सितम्बर (वार्ता) कांग्रेस ने आज राज्यसभा में आरोप लगाया कि सरकार किसानों से विचार विमर्श किये बिना कृषि सुधारों से संबंधित विधेयक लायी है और अनुबंध कृषि की व्यव्स्था से किसानों की जमीन पर कारपोरेट घरानों कब्जा हो जायेगा ।

कांग्रेस के प्रताप सिंह बाजवा ने कृषक उपज व्यापार वाणिज्य (संवर्धन और सरलीकरण) विधेयक 2020 और कृषक (सशक्तिकरण और संरक्षण) कीमत आश्वासन और कृषि सेवा पर करार विधेयक 2020 तथा मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के के के रागेश एवं छह अन्य सदस्यों के इन विधेयकों से संबंधित अध्यादेशों को निरस्त करने के संकल्प पर एक साथ चर्चा की शुरुआत करते हुए कहा कि अनुबंध कृषि से किसान अपनी जमीन से बेदखल हो सकते हैं और उनकी जमीन पर कारपोरेट घरानों का कब्जा हो जायेगा ।

उन्होंने कहा कि अमेरिका में 30 प्रतिशत जमीन पर कारपोरेट घरानों ने कब्जा कर लिया है । उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ भी विधेयकों के पक्ष में नहीं है और विधेयकों के विरोध में पंजाब के मुख्यमंत्री ने केन्द्र सरकार को पत्र भेजा है । उन्होंने कहा कि सरकार की सहयोगी शिरोमणि अकाली दल ने भी विधेयकों का विरोध किया है और उसकी खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्री हरसिमरत कौर बादल ने मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया है ।

श्री बाजवा ने विधेयकों को किसान की आत्मा पर हमला करार देते हुए कहा कि शरीर के घाव तो भर जाते हैं लेकिन आत्मा का घाव भरने में बहुत वक्त लगता है । उन्होंने कृषि सुधार विधेयकों को किसानों के ‘डेथ वारंट’ पर हस्ताक्षर करने जैसा बताते हुए कहा कि कांग्रेस इसे पूरी तरह से खारिज करती है । उन्होंने कहा कि इन विधेयकों को ऐसे समय में लाया गया है जब देश में प्रतिदिन एक लाख लोग कोरोना संक्रमित हो रहे हैं ।

उन्होंने कहा कि शांता कुमार समिति की सिफारिश पर फसलों का न्यूनतम समर्थन मूल्य समाप्त करने का प्रयास किया जा रहा है । समिति ने कहा था कि न्यूनतम समर्थन मूल्य पर केवल छह प्रतिशत किसान ही फसलों की बिक्री करते हैं । उन्होंने कहा कि पंजाब में मंडी व्यवस्था समाप्त होने से लाखों लोग बेरोजगार हो जायेंगे ।

अरुण सत्या

जारी वार्ता

More News
संसद का ऐतिहासिक मानसून सत्र समय से पहले समाप्त

संसद का ऐतिहासिक मानसून सत्र समय से पहले समाप्त

23 Sep 2020 | 9:24 PM

नयी दिल्ली ,23 सितंबर (वार्ता) कोविड-19 महामारी की चुनौतियों के बीच आयोजित संसद का ऐतिहासिक मानसून सत्र आज तय समय से पहले समाप्त कर दिया गया।

see more..
लोकसभा की कार्यवाही अनिश्चितकाल के लिए स्थगित

लोकसभा की कार्यवाही अनिश्चितकाल के लिए स्थगित

23 Sep 2020 | 9:14 PM

नयी दिल्ली 23 सितम्बर (वार्ता) कोरोना महामारी से उत्पन्न असाधारण परिस्थितियों के मद्देनजर 17वीं लोकसभा के चौथे सत्र की कार्यवाही निर्धारित अवधि से पहले ही बुधवार को अनिश्चितकाल के लिए स्थगित कर दी गयी।

see more..
प्रह्लाद जोशी ने ओम बिरला का व्यक्त किया आभार

प्रह्लाद जोशी ने ओम बिरला का व्यक्त किया आभार

23 Sep 2020 | 9:03 PM

नयी दिल्ली, 23 सितंबर (वार्ता) मॉनसून सत्र में लोकसभा की बैठकों के सुचारु संचालन के लिए संसदीय कार्य मंत्री प्रह्लाद जोशी ने सरकार की तरफ से लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला का आभार व्यक्त किया।

see more..
image