Tuesday, Aug 20 2019 | Time 21:22 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • चिदम्बरम के घर से बैरंग लौटी सीबीआई और ईडी की टीम
  • सहारनपुर पत्रकार हत्याकाण्ड के मुख्य आरोपी समेत तीन गिरफ्तार
  • जम्मू-कश्मीर के लोगों को विश्वास में लिए बिना अनुच्छेद 370 हटाया गया: मुकुल संगमा
  • भारत के बारे में पर्यटकों की राय पता लगाने का निर्देश
  • वन महोत्सव के तहत कोविंद ने किया पौधारोपण
  • आजाद को जम्मू हवाई अड्डे से वापस किया गया
  • मजदूरी मांगने पर मजदूर की गोली मारकर हत्या
  • दिल्ली में बाढ़ का खतरा बढ़ा
  • डायमंड ब्लाक से निकले हीरों का अवलोकन करने पहुंची छह कंपनियां
  • राखी गढ़ी के बारे में हरियाणा सरकार के प्रस्ताव को केन्द्र की सहमति
  • झांसी में कांग्रेसियों ने किया राजीव गांधी को याद
  • भाखड़ा बांध का जल-स्तर दो फीट और बढ़ सकता है
  • धोनी के रिकॉर्ड की बराबरी करने से एक जीत दूर विराट
  • छपरा में अपराधियों के साथ मुठभेड़ में दो पुलिसकर्मी शहीद
  • हिमाचल में फंसी मलयालम फिल्म टीम को बचाया
दुनिया


अमेरिका-ईरान के बीच तनाव कम करने में मध्यस्थता के लिए पाकिस्तान तैयार

कुवैत सिटी, 19 मई (वार्ता) पाकिस्तान ने कहा है कि वह दक्षिण एशियाई क्षेत्र में शांति तथा स्थायित्व का पक्षधर है और अमेरिका तथा ईरान के बीच बढ़ते तनाव को कम करने के लिए मध्यस्थता करने के लिए तैयार है।
इराक के दो दिवसीय आधिकारिक दौरे पर रविवार को यहां पहुंचे पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने कुवैत न्यूज एजेंसी (कुना) को दिये साक्षात्कार में यह बात कही है।
श्री कुरैशी ने कहा, “अमेरिका और ईरान के बीच बढ़ते तनाव से हम चिंतित हैं। पाकिस्तान क्षेत्र में शांति एवं स्थिरता के पक्ष में है और दोनों देशों के बीच तनाव कम करने के लिए वह मध्यस्थता के लिए तैयार है।”
उन्होंने कहा कि कुवैत और पाकिस्तान में बीच सदियों से संबंध सौहार्दपूर्ण रहे हैं। विदेश मंत्री ने कहा,“ हमारे राजनीतिक संबंध बहुत बढ़िया रहे हैं और क्षेत्रीय स्तर पर हम एक दूसरे को हर क्षेत्र में समर्थन करते रहे हैं। कई वैश्विक मुद्दों पर हमारी नीतियां समान हैं और फलस्तीन समेत विभिन्न क्षेत्रीय मसलों पर भी हमारे विचार एक दूसरे से काफी मेल खाते हैं।”
श्री शाह ने कहा कि कुवैत यात्रा का मकसद दोनों देशों के बीच आर्थिक संबंधों को मजबूती देना है। उन्होंने कहा,“ मुझे लगता है कि कुशल और अर्ध कुशल श्रमिकों को कुवैत भेजकर आर्थिक विकास के ढ़ांचे को और मजबूत किया जा सकता है।”
आशा.श्रवण
वार्ता
image