Monday, Aug 3 2020 | Time 20:34 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • कोल्हापुर जिले में 447 लोग कोरोना से संक्रमित पाये गये
  • हरियाणा में फसल अवशेष प्रबंधन हेतु 1,304 95 करोड़ रुपये की योजना मंजूर
  • आंध्र प्रदेश में कोरोना के 7822 नए मामलों की पुष्टि
  • तमिलनाडु में कोरोना वायरस के 5609 नये मामलों की पुष्टि, 109 और मरीजों की मौत
  • संभल में 23 नये कोरोना संक्रमित मिले,संख्या 1011 पहुंची
  • मेघालय में काेरोना वायरस के 28 नये मामले
  • यूएस और फ्रेंच ओपन के समय क्वारंटीन को लेकर हो सकता है टकराव
  • औरैया में 37 नये कोरोना पॉजिटिव, संख्या हुई 482
  • बिहार विधानसभा में 22777 32 करोड़ का प्रथम अनुपूरक बजट पारित
  • संतकबीरनगर में नहीं थम रहा कोरोना संक्रमण, 92 नये पॉजिटिव मिले
  • बुलंदशहर में 19 नये संक्रमित मिले, 1423 हुई संख्या
  • जहरीली शराब से हुई मौतों के लिये भाजपा ने मांगा कैप्टन अमरिंदर का इस्तीफा
  • ऑनलाइन ठगी करने वाले गिरोह के तीन सदस्य झारखंड से गिरफ्तार
भारत


अयोध्या विवाद: शुक्रवार को छह पुनर्विचार याचिकाएं दायर

नयी दिल्ली, 06 दिसंबर (वार्ता) अयोध्या विवाद में उच्चतम न्यायालय के गत नौ नवंबर के फैसले के खिलाफ शुक्रवार को कुल छह पुनर्विचार याचिकाएं दायर की गयीं, जिनमें पांच याचिकाएं ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल बोर्ड (एआईएमपीएलबी) के समर्थन से दायर की गयी हैं।
एआईएमपीएलबी के समर्थन से मौलाना महफूजुर रहमान, मोहम्मद मिसबाहुद्दीन, मौलाना मुफ्ती हसबुल्ला, मोहम्मद उमर और हाजी महबूब ने पुनर्विचार याचिकाएं दायर कीं, जबकि छठी याचिका पीस पार्टी के मोहम्मद अयूब ने दाखिल की।
एआईएमपीएलबी के समर्थन से दायर याचिकाओं पर वरिष्ठ अधिवक्ता राजीव धवन के भी हस्ताक्षर हैं, इससे स्पष्ट है कि यदि इन याचिकाओं को ओपन कोर्ट में सुनवाई के लिए मंजूर किया जाता है तो मुस्लिम पक्ष की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता श्री धवन ही जिरह करेंगे।
आज दायर छह याचिकाओं के साथ ही अयोध्या के राम जन्मभूमि बाबरी मस्जिद जमीन विवाद में शीर्ष अदालत के फैसले के खिलाफ अब तक कुल सात समीक्षा याचिकाएं दायर की जा चुकी हैं। सबसे पहले जमीयत-उलेमा-ए-हिन्द ने पिछले दिनों याचिका दायर की थी।
याचिकाओं में कहा गया है कि हिन्दुओं को विवादित जमीन का मालिकाना हक दिया गया जबकि फैसले में कहा गया है कि मस्जिद को अवैध तरीके से तोड़ा गया और उसका लाभ हिन्दुओं को दे दिया गया।
याचिकाकर्ताओं ने कहा है कि फैसले के अनुसार हिन्दुओं का कभी भी पूरे विवादित इलाके पर कब्जा नहीं था। 16 दिसंबर 1949 तक मुस्लिम वहां नमाज पढने जाते थे। बाद में हिन्दुओं ने उन्हें रोक दिया और जबरन घुस गए थे।
साथ ही इन याचिकाओं में कहा गया है कि फैसले में यह स्वीकार किया जाना गलत है कि मूर्ति न्यायिक व्यक्ति हैं और बीच वाले गुंबद पर उनका अधिकार था जबकि यह भी माना गया है कि मूर्ति को जबरन बीच वाले गुंबद के नीचे रखा गया था। ऐसे में अवैध रूप से रखी गयी मूर्ति का कानूनी दावा नहीं किया जा सकता। यहां मामला यह है कि अवैध तरीके से मस्जिद ढहाया गया और जबरन कब्जा लिया गया तथा कानून का उल्लंघन किया गया।
याचिकाकर्ताओं ने कहा है कि हिन्दू बाहरी अहाते में पूजा का अधिकार रखते थे और मुस्लिम 16 दिसंबर 1949 तक नमाज के लिए वहां जाते थे। उनका कहना है कि मस्जिद को अवैध तरीके से तोड़ा गया और ऐसे में पूर्ण न्याय नहीं हुआ। इसलिए फैसले पर फिर से विचार किया जाना चाहिए।
सत्रह नवंबर को ही जमीयत उलेमा-ए-हिंद ने कहा था कि न्यायालय के फैसले की समीक्षा के लिए वह अपने संवैधानिक अधिकारों का इस्‍तेमाल करेगा।
इस बीच,अखिल भारतीय हिन्दू महासभा ने भी अयोध्या मामले में पांच सदस्यीय संविधान पीठ के फैसले के खिलाफ पुनर्विचार याचिका दायर करने का फैसला लिया है। महासभा सुन्नी वक्फ बोर्ड को पांच एकड़ जमीन दिए जाने का विरोध करेगी।
सुरेश आशा
वार्ता
More News
निशंक ने छठी से आठवीं कक्षा के छात्रों के लिए एकेडमिक कैलेंडर लांच किया

निशंक ने छठी से आठवीं कक्षा के छात्रों के लिए एकेडमिक कैलेंडर लांच किया

03 Aug 2020 | 7:54 PM

नयी दिल्ली, 03 अगस्त (वार्ता) केंद्रीय शिक्षा मंत्री डॉ. रमेश पोखरियाल निशंक ने छठी कक्षा से लेकर आठवीं कक्षा के छात्रों के लिए दो महीने का एकेडमिक कैलेंडर लांच किया।

see more..
देश में कोरोना रिकवरी दर 65.77 प्रतिशत

देश में कोरोना रिकवरी दर 65.77 प्रतिशत

03 Aug 2020 | 7:40 PM

नयी दिल्ली 03 अगस्त (वार्ता) देशभर में पिछले 24 घंटे में 40,474 कोरोना संक्रमित व्यक्ति के रोगमुक्त होने से कोरोना रिकवरी दर बढ़कर 65.77 प्रतिशत हो गयी है।

see more..
image