Tuesday, Jan 21 2020 | Time 14:26 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • नेपाल में तीर्थ यात्रा के लिए गये छह भारतीय पर्यटकों की मौत
  • अगले वित्त वर्ष में बढ़ेगी ग्रामीण माँग : रिपोर्ट
  • आईसीआईसीआई की ‘कार्डलेस कैश निकासी’ की पेशकश
  • राजीव हत्याकांड: सुप्रीम कोर्ट ने तमिलनाडु सरकार से मांगी यथास्थिति रिपोर्ट
  • भारत को सर्बिया में हुये नेशंस कप में 6 पदक
  • केजरीवाल के नामांकन के दौरान हंगामा
  • शाहजहांपुर में बस पलटी,13 घायल
  • बिजली परियोजनाओं में विलंब पर संगमा ने जतायी चिंता
  • जेम सिलेक्शंस की किश्तों में भुगतान पर रत्न खरीदने की पेशकश
  • ट्रेन में महिला के साथ सामूहिक दुष्कर्म, एक गिरफ्तार
  • भिलाई में अबोध बच्चे सहित तीन लोगो की हत्या कर शव को जलाया
  • गोंडा में नाव पलटने से 11 के डूबने की आशंका
  • कनाडा और आॅस्ट्रेलिया ने कोरोनावायरस को लेकर चेताया
  • बैंककर्मी को गोली मारकर 80 हजार की लूट
  • अक्षय कुमार ने ली 120 करोड़ की फीस !
भारत


अयोध्या विवाद: शुक्रवार को छह पुनर्विचार याचिकाएं दायर

नयी दिल्ली, 06 दिसंबर (वार्ता) अयोध्या विवाद में उच्चतम न्यायालय के गत नौ नवंबर के फैसले के खिलाफ शुक्रवार को कुल छह पुनर्विचार याचिकाएं दायर की गयीं, जिनमें पांच याचिकाएं ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल बोर्ड (एआईएमपीएलबी) के समर्थन से दायर की गयी हैं।
एआईएमपीएलबी के समर्थन से मौलाना महफूजुर रहमान, मोहम्मद मिसबाहुद्दीन, मौलाना मुफ्ती हसबुल्ला, मोहम्मद उमर और हाजी महबूब ने पुनर्विचार याचिकाएं दायर कीं, जबकि छठी याचिका पीस पार्टी के मोहम्मद अयूब ने दाखिल की।
एआईएमपीएलबी के समर्थन से दायर याचिकाओं पर वरिष्ठ अधिवक्ता राजीव धवन के भी हस्ताक्षर हैं, इससे स्पष्ट है कि यदि इन याचिकाओं को ओपन कोर्ट में सुनवाई के लिए मंजूर किया जाता है तो मुस्लिम पक्ष की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता श्री धवन ही जिरह करेंगे।
आज दायर छह याचिकाओं के साथ ही अयोध्या के राम जन्मभूमि बाबरी मस्जिद जमीन विवाद में शीर्ष अदालत के फैसले के खिलाफ अब तक कुल सात समीक्षा याचिकाएं दायर की जा चुकी हैं। सबसे पहले जमीयत-उलेमा-ए-हिन्द ने पिछले दिनों याचिका दायर की थी।
याचिकाओं में कहा गया है कि हिन्दुओं को विवादित जमीन का मालिकाना हक दिया गया जबकि फैसले में कहा गया है कि मस्जिद को अवैध तरीके से तोड़ा गया और उसका लाभ हिन्दुओं को दे दिया गया।
याचिकाकर्ताओं ने कहा है कि फैसले के अनुसार हिन्दुओं का कभी भी पूरे विवादित इलाके पर कब्जा नहीं था। 16 दिसंबर 1949 तक मुस्लिम वहां नमाज पढने जाते थे। बाद में हिन्दुओं ने उन्हें रोक दिया और जबरन घुस गए थे।
साथ ही इन याचिकाओं में कहा गया है कि फैसले में यह स्वीकार किया जाना गलत है कि मूर्ति न्यायिक व्यक्ति हैं और बीच वाले गुंबद पर उनका अधिकार था जबकि यह भी माना गया है कि मूर्ति को जबरन बीच वाले गुंबद के नीचे रखा गया था। ऐसे में अवैध रूप से रखी गयी मूर्ति का कानूनी दावा नहीं किया जा सकता। यहां मामला यह है कि अवैध तरीके से मस्जिद ढहाया गया और जबरन कब्जा लिया गया तथा कानून का उल्लंघन किया गया।
याचिकाकर्ताओं ने कहा है कि हिन्दू बाहरी अहाते में पूजा का अधिकार रखते थे और मुस्लिम 16 दिसंबर 1949 तक नमाज के लिए वहां जाते थे। उनका कहना है कि मस्जिद को अवैध तरीके से तोड़ा गया और ऐसे में पूर्ण न्याय नहीं हुआ। इसलिए फैसले पर फिर से विचार किया जाना चाहिए।
सत्रह नवंबर को ही जमीयत उलेमा-ए-हिंद ने कहा था कि न्यायालय के फैसले की समीक्षा के लिए वह अपने संवैधानिक अधिकारों का इस्‍तेमाल करेगा।
इस बीच,अखिल भारतीय हिन्दू महासभा ने भी अयोध्या मामले में पांच सदस्यीय संविधान पीठ के फैसले के खिलाफ पुनर्विचार याचिका दायर करने का फैसला लिया है। महासभा सुन्नी वक्फ बोर्ड को पांच एकड़ जमीन दिए जाने का विरोध करेगी।
सुरेश आशा
वार्ता
More News
राजीव हत्याकांड: सुप्रीम कोर्ट ने तमिलनाडु सरकार से मांगी यथास्थिति रिपोर्ट

राजीव हत्याकांड: सुप्रीम कोर्ट ने तमिलनाडु सरकार से मांगी यथास्थिति रिपोर्ट

21 Jan 2020 | 2:12 PM

नयी दिल्ली, 21 जनवरी (वार्ता) उच्चतम न्यायालय ने पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की हत्या के गुनहगारों की माफी संबंधी अर्जी पर दो सप्ताह के भीतर स्थिति रिपोर्ट दाखिल करने का तमिलनाडु सरकार को मंगलवार को निर्देश दिया।

see more..
अयोध्या विवाद: पीस पार्टी ने दायर की क्यूरेटिव याचिका

अयोध्या विवाद: पीस पार्टी ने दायर की क्यूरेटिव याचिका

21 Jan 2020 | 12:57 PM

नयी दिल्ली, 21 जनवरी (वार्ता) अयोध्या के राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद जमीन विवाद में पहली क्यूरेटिव पिटीशन (संशोधन याचिका) मंगलवार को उच्चतम न्यायालय में दायर की गयी।

see more..
एजीआर भुगतान को लेकर दूरसंचार कंपनियों की अर्जी पर विचार को तैयार सुप्रीम कोर्ट

एजीआर भुगतान को लेकर दूरसंचार कंपनियों की अर्जी पर विचार को तैयार सुप्रीम कोर्ट

21 Jan 2020 | 12:41 PM

नयी दिल्ली, 21 जनवरी (वार्ता) उच्चतम न्यायालय समायोजित सकल राजस्व (एजीआर) मामले में अपने आदेश में कुछ संशोधन को लेकर दूरसंचार कंपनियों की अर्जी पर जल्द सुनवाई को मंगलवार को तैयार हो गया।

see more..
मेरा मकसद है-भ्रष्टाचार हराना, उन सबका है मुझे हराना: केजरीवाल

मेरा मकसद है-भ्रष्टाचार हराना, उन सबका है मुझे हराना: केजरीवाल

21 Jan 2020 | 11:42 AM

नयी दिल्ली, 21 जनवरी (वार्ता) मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने मंगलवार को कहा है कि दिल्ली विधानसभा चुनाव में मेरा मकसद है-भ्रष्टाचार हराना और दिल्ली को आगे ले जाना ।

see more..
image