Thursday, Jan 23 2020 | Time 21:48 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • हरदोई में महिला और उसकी दो साल की बेटी के शव रेल लाइन पर मिले
  • माफियाओं के नाम पर आम व्यक्ति को प्रताड़ित करने का आरोप, शुक्रवार को भाजपा का प्रदर्शन
  • नीतीश ने की आपदा प्रबंधन की समीक्षा
  • उप्र में 50 85 लाख मीट्रिक टन धान की रिकार्ड खरीद
  • फोटो कैप्शन तीसरा सेट
  • राज्य गुड़ महोत्सव के आयोजन के संबंध में परामर्शदात्री समिति की बैठक सम्पन्न
  • पदाधिकारी पार्टी के खिलाफ सोशल मीडिया पर टिप्पणी करने से बचें :ठाकरे
  • गिरिडीह स्टेशन के लिए जल्द बनेगा रैक प्वाइंट : चंद्रप्रकाश
  • कलेक्टर के खिलाफ टिप्पणी करने वाले यादव पर प्रकरण दर्ज
  • झाड़फूंक के नाम पर जेवरात की ठगी करने वाला गिरफ्तार
  • दहेज प्रताड़ना मामले में दोषी पति को कठोर कारावास
  • भ्रष्टाचार में लिप्त पुलिस कर्मियों के विरुद्ध की जाएगी कठोर कार्रवाई: एडीजी
  • सागर के दलित व्यक्ति की मौत के मामले में भार्गव की मांग
  • कार से बरामद की गई शराब, चालक गिरफ्तार
राज्य » गुजरात / महाराष्ट्र


अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पहचान बनायी शेखर कपूर ने

..जन्मदिवस 06 दिसंबर के अवसर पर..
मुंबई 05 दिसंबर (वार्ता) शेखर कपूर का नाम एक ऐसे फिल्म निर्देशक के रूप में शुमार किया जाता है जिन्होंने न सिर्फ बाॅलीवुड में बल्कि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी अपनी खास पहचान बनायी है।
पाकिस्तान के लाहौर में जन्मे शेखर कपूर, बॉलीवुड अभिनेता देवानंद के भांजे है। वह बचपन के दिनों से ही फिल्मों में काम करना चाहते थे। शेखर कपूर ने अपने करियर की शुरुआत बतौर अभिनेता वर्ष 1975 में प्रदर्शित फिल्म जान हाजिर से की। बतौर निर्देशक उन्होंने अपने करियर की शुरुआत वर्ष 1983 में प्रदर्शित फिल्म मासूम से की। एरिक सहगल के उपन्यास पर आधारित मैन, वुमेन एंड चाइल्ड पर बनी इस फिल्म का स्क्रीनप्ले गुलजार ने तैयार किया था। इस फिल्म में नसीरुद्दीन शाह, शबानी आजमी, उर्मिला मातोंडकर और जुगल हंसराज ने मुख्य भूमिका निभायी थी। इस फिल्म का गीत ..लकड़ी की काठी काठी पर घोड़ा.. बच्चों के बीच आज भी लोकप्रिय है।
वर्ष 1987 में शेखर कपूर बच्चों पर केन्द्रित एक और फिल्म मिस्टर इंडिया बनायी जो .इनविजबल मैन. के उपर आधारित थी। इस फिल्म में अनिल कपूर ने इनविजबल मैन की भूमिका निभायी। बोनी कपूर निर्मित इस फिल्म में अमरीश पुरी ने मोगैंबो की भूमिका निभायी जो दर्शकों को बेहद पसंद आया। मिस्टर इंडिया भी बॉक्स ऑफिस पर सुपरहिट साबित हुयी।वर्ष 1989 में शेखर कपूर ने जोशीले और दुश्मनी जैसी फिल्मों का सह निर्देशन किया। वर्ष 1992 में शेखर कपूर विज्ञान पर आधारित फंतासी फिल्म टाइम मशीन का निर्देशन करने वाले थे। इस फिल्म के लिये शेखर कपूर ने आमिर खान.रवीना टंडन.नसीरुद्दीन शाह और रेखा का चयन किया गया था लेकिन फिल्म नहीं बन पायी।
वर्ष 1997 में शेखर कपूर ने दस्यु सुंदरी फुलन देवी पर आधारित बैंडिट क्वीन का निर्देशन किया। इस फिल्म में बैंडिट क्वीन की भूमिका सीमा विश्वास ने रूपहर्ले पर साकार की। बैंडिट क्वीन के जरिये शेखर कपूर ने न सिर्फ भारत में बल्कि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी अपनी खास पहचान बनायी। इस फिल्म के लिये शेखर कपूर को सर्वश्रेष्ठ निर्देशक का फिल्म फेयर पुरस्कार भी दिया गया। बैंडिट क्वीन के बाद शेखर कपूर को हॉलीवुड फिल्म ऐलिजाबेथ के निर्देशन का अवसर मिला। यह फिल्म ऑस्कर पुरस्कार से सम्मानित की गयी। वर्ष 2007 में इस फिल्म के सीक्वल एलिजाबेथ द गोल्डन एज का भी शेखर कपूर ने निर्देशन किया। इन सबके बीच शेखर कपूर ने हॉलीवुड फिल्म द फोर फीदर्स.न्यूयार्क आइ लव यू और पैसेज का निर्देशन भी किया।
प्रेम, यामिनी
वार्ता
image