Saturday, Sep 26 2020 | Time 00:33 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
फीचर्स


आजादी के दीवानो में जोश भरने वीरंगना लक्ष्मीबाई आई थी भरेह किला

आजादी के दीवानो में जोश भरने वीरंगना लक्ष्मीबाई आई थी भरेह किला

इटावा , 12 अगस्त (वार्ता) प्रथम स्वतंत्रता संग्राम की नायिका वीरंगना रानी लक्ष्मी बाई इटावा में चंबल नदी के किनारे स्थित भरेह के ऐतिहासिक किले मे आजादी के दीवानो मे जोश भरने को आई थी ।

      दरअसल, 1857 की क्रांति के दौरान झांसी की रानी के यहां आने के पीछे अग्रेंजो के खिलाफ चंबल मे आंदोलन चला रहे राजा निरंजन सिंह जूदेव और उनके सिपाहियो मे जोश भरना था।

       इटावा के के.के.पी जी कालेज में इतिहास विभाग के विभागाध्यक्ष डा़. शैलेन्द्र शर्मा ने यूनीवार्ता को बताया कि भरेह के इस ऐतिहासिक किले की बुलंदियों का अब कोई चश्मदीद गवाह मौजूद नहीं है। इसके बावजूद किले का जर्रा-जर्रा अभी भी यह दास्तां बयां कर रहा है कि उसने भी अंग्रेजों की तोपों का सामना किया है।

     उन्होने बताया कि साल 1857 से लेकर के 1860 तक राजा निरंजन सिंह जूदेव अंग्रेजों के दांत खट्टे करते रहे। मशक्कत के बाद महायोद्धा को अंग्रेजी हुकूमत में गिरफ्तार कर काला पानी की सजा सुनाई और किले को तोपों से उड़ा दिया।

     श्री शर्मा ने बताया कि दुनिया पर हुकूमत करने वाले ब्रिटिश हुक्मरानों के खिलाफ क्रांति में अग्रणीय भूमिका निभाने वाले चम्बल इलाके की भरेह रियासत के ध्वस्त किले का एक-एक टुकड़ा 1857 के प्रथम स्वत्रंता आंदोलन की दास्तां सुना रहा है।

      इतिहासकार ने बताया कि यह विडंबना ही है कि वक्त की मार और सरकारी उपेक्षा के कारण नष्ट हो चुके इस राष्ट्रीय धरोहर को आजाद भारत में भी पुरात्तव विभाग ने अपने कब्जे में नहीं लिया है।

श्री शर्मा ने बताया कि चकरनगर से 11 किलो मीटर की दूरी पर रियासत भरेह थी। जहां राजा रुप सिंह का शासन था। अभिलेख बताते हैं कि 1857 की क्रांति में हिस्सा लेने वाले अधिकांश नबाव व राजा अपने अधिकारों की रक्षा की लड़ाई लड़ रहे थे लेकिन इतिहास का एकमात्र क्रांतिकारी राजा रुप सिंह ऐसा सिपाही था, जिसने अपने सभी राजसी वैभव को दांव पर लगा कर मेहनतकश मजदूरों के हक के लिए अंग्रेजों से लोहा लिया।

        आज़ादी के इतिहास का यह पहलू बीहड़ी इलाके में यमुना नदी के किनारे समेटे हुए है, जहाँ मौजूद अवशेष अपनी कहानी बयां करते हैं। यहाँ राजा निरंजन सिंह जूदेव का किला होने के साथ ही बंदरगाह हुआ करता था 1857 से पहले यही से जलमार्ग के जरिये व्यापार होता था। राजा के सैनिक नारियल बाल्मीक ने इसी जगह पर दो अंग्रेजो को मार गिराया था। इसके बाद ही अंग्रेजों ने किले की तोप से उड़ा दिया चकरनगर खेड़ा की बस्ती भी तोपों से उड़ा दी गई। राजा निरंजन सिंह जूदेव ने सीमित संसाधनों के बावजूद हार नहीं मानी और तीन वर्ष तक जंगल में छुपकर अंग्रेजी हुकूमत के खिलाफ अपने वफादारों के साथ लोहा लेते रहे।

         इतिहासकार ने कहा कि वर्ष 1960 में अंग्रेजी बाजा राजा निरंजन सिंह जूदेव के बीच जबरदस्त भिड़ंत अंग्रेजों ने राजा को पकड़ लिया और काला पानी की सजा दी। 1857 में मेरठ स्थित सैनिक छावनी में अंग्रेजी हकूमत के खिलाफ उठी बगावत की आग को तेज करने तथा हकूमत का नामोनिशान मिटाने के लिए विद्रोह की चिंगारी में भरेह के राजा रुप सिंह ने घी का काम किया।

        भरेह के राजा रूप सिंह ने 1857 की क्रांति में बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया। उन्होंने अंग्रेजों की बढ़ती गतिविधियों पर सिकरौली के राव हरेंद्र सिंह व चकरनगर रियासत के राजा निरंजन सिंह से मिलकर इटावा में अंग्रेजों के वफादार कुंवर जोरसिंह और सरकारी अधिकारियों को हटाने की मुहिम छेड़ दी थी। दोनों ही राजाओं ने झांसी की रानी को समर्थन देकर अंग्रेजों को खुली चुनौती दी।

        राजा भरेह कुंवर रूप सिंह ने शेरगढ़ घाट पर नावों का पुल बनवाया। इस कार्य में निरंजन सिंह सहित क्रांतिकारी जमीदारों ने उनका साथ दिया। झांसी के क्रांतिकारियों ने शेरगढ़ घाट से यमुना नदी पार कर 24 जून 1857 को औरैया तहसील को लूटा। कई बार अंग्रेजी सिपाहियों से भरेह व चकरनगर के राजाओं के बीच लड़ाई हुई। अगस्त 1857 के आखिरी सप्ताह में अंग्रेजी फौज 18 पाउंड की तोपें लेकर व्यापारियों की नावों से यमुना नदी के रास्ते भरेह पहुंची और राजा के किले पर हमला किया।

श्री शर्मा ने बताया कि राजा रूप सिंह पहले ही अंग्रेजी सरकार के मंसूबों को भांप चुके थे। उन्होंने किला पहले ही खाली कर दिया था। अंग्रेजी फौज ने भरेह के किले को तहस नहस कर दिया जिसके अगले दिन अंग्रेजी फौज ने भरेह से चकरनगर तक कच्ची सड़क बनाकर चकरनगर किले पर हमलाकर उसे अपने कब्जे में लिया। अंग्रेजों ने चकरनगर में एक स्थाई फौज छावनी बनाई।

       इस दौरान राजा निरंजन सिंह को रोकने के लिए सहसों में फौजी चौकी स्थापित कराई गई। 1857 की क्रांति ने जिले में यह दर्शा दिया कि देश की स्वतंत्रता के लिए सभी तैयार हैं। 1858 में अंग्रेजों का पुनरू राज्य हो गया। अंग्रेजों ने सारी रियासत जब्त कर प्रतापनेर के राजा जोर सिंह को सौंप दी थी।

        आजादी के बाद से भरेह का ऐतिहासिक किला बदहाल है। वही दुर्भाग्य का विषय यह हैं कि आजादी के बाद इस महान स्वतंत्रा सैनानी राजा रुप सिंह के नाम से कोई स्मारक भी नही बनाया गया । आने वाले समय के लोगो को भरेह रियासत के राजा रुप सिंह के जंगे आजादी के महत्व के विषय में कोई जानकारी ही नही हैं वो इस बात से बिल्कुल अनभिज्ञ हैं। 1857 स्वत्रंत्रता संग्राम की जब बात आती हैं तो भरेह रियासत के योगदान को भुला दिया जाता हैं।

        कालेश्वर महापंचायत के अध्यक्ष बापूसहेल सिंह परिहार बताते है कि राजा निरंजन सिंह जूदेव की वीरता का जितना बखान किया जाए वह कम है । उन्होंने भरेह रियासत के राजा रूप सिंह जूदेव से मिलकर आज़ादी के दरम्यान अंग्रेजो से खूनी जंग लड़ी थीं ।

सं प्रदीप

वार्ता

More News
प्रकृति दे रही लॉकडाउन को धन्यवाद

प्रकृति दे रही लॉकडाउन को धन्यवाद

04 Jun 2020 | 8:00 PM

झांसी 04 जून (वार्ता) दुनिया और देशभर में कोविड -19 के कहर के कारण मची हाहाकार के बीच इससे निपटने के लिए लगाये गये देशव्यापी लॉकडाउन ने इंसान को जहां बंदिशों में रखा वहीं प्रकृति को फिर से सजने और संवरने का मौका दिया है।

see more..
‘कोरोना’ के डर ने प्रकृति को दिया संवरने का मौका

‘कोरोना’ के डर ने प्रकृति को दिया संवरने का मौका

22 Apr 2020 | 12:01 AM

लखनऊ 21 अप्रैल (वार्ता) मानव जीवन के इन दिनों दहशत का पर्याय बने नोवल कोरोना वायरस के खतरे से निपटने के लिये पूरी दुनिया एकजुट होकर उपाय खोज रही है वहीं लाकडाउन के इस मौके का फायदा उठाते हुये प्रकृति भी अपने बिगड़े स्वरूप को संवारने में व्यस्त है।

see more..
लाकडाउन के दौरान दिनोदिन निर्मल हो रही है श्यामल यमुना

लाकडाउन के दौरान दिनोदिन निर्मल हो रही है श्यामल यमुना

12 Apr 2020 | 2:11 PM

मथुरा, 12 अप्रैल (वार्ता) पतित पावनी श्याम वर्ण यमुना की निर्मलता को वापस लाने के लिए जो काम न्यायपालिका, सरकार और स्वयंसेवी संस्थायें न कर सकी, उस काज को दुनिया के लिये काल बन कर विचरण कर रहे अनचाहे सूक्ष्म विषाणु ‘कोरोना’ के डर ने कर दिखाया है।

see more..
मुगलकालीन चित्रकला और रागमाला का बेजोड़ संगम है रजा लाइब्रेरी

मुगलकालीन चित्रकला और रागमाला का बेजोड़ संगम है रजा लाइब्रेरी

01 Apr 2020 | 4:46 PM

रामपुर 01 अप्रैल (वार्ता) सदियों तक नवाबी सभ्यता के केन्द्र रहे उत्तर प्रदेश के रामपुर में स्थित रजा लाइब्रेरी में संग्रहित पांडुलिपियां मुगलकालीन चित्रकला की अनूठी दास्तां बयां कर रही है वहीं रागमाला पर आधारित अलबम किसी का भी ध्यान बरबस अपनी ओर खींच लेता है।

see more..
हमीरपुर के 37 गावों के मिट्टी के टीलों की खुदायी पर लगायी रोक

हमीरपुर के 37 गावों के मिट्टी के टीलों की खुदायी पर लगायी रोक

21 Mar 2020 | 8:24 PM

हमीरपुर,21 माच्र (वार्ता) पुरातत्व विभाग ने उत्तर प्रदेश में हमीरपुर जिले के तीन ब्लाकों के 32 गांव में सर्वे करने के बाद दस हजार साल पुरानी सभ्यता के कई अवशेष मिलने के बाद 37 गांवों के मिट्टी के टीलाें को खोदने पर रोक लगाने के आदेश दिये है।

see more..
image