Friday, Jul 10 2020 | Time 15:10 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • एम्स के स्वास्थ्यकर्मियों को मिलेंगे केएफसी के खाने के पैकेट
  • हरियाणा में कोरोना के 372 नये मामले, कुल संख्या 19741 पहुंची, 287 मौतें
  • अरुणाचल में भूस्खलन से एक ही परिवार के चार लोगों की मौत
  • हर्षवर्धन ने गावस्कर को दी जन्मदिन की बधाई
  • हर्षवर्धन ने गावस्कर को दी जन्मदिन की बधाई
  • अरुणाचल में भूस्खलन से एक ही परिवार के चार लोगों की मौत
  • त्रिपुरा में भाजपा से नाराज हुआ उसका सहयोगी दल
  • हरियाणा में महिलाओं के प्रति अपराधों में आई 20 46 प्रतिशत गिरावट
  • सीमित ओवरों के ट्रेनिंग ग्रुप में मोईन और बेयरस्टो को मिली जगह
  • सीमित ओवरों के ट्रेनिंग ग्रुप में मोईन और बेयरस्टो को मिली जगह
  • सीएससी और कोका काेला के बीच एमओयू
  • ओडिशा के पांच और जिले माओवादियों से मुक्त हुए
  • ब्रांडेड कंपनियों के नकली मास्क, मोजे और टोपी बरामद, पांच गिरफ्तार
  • काेरोना वैक्सीन के सॉलिडरिटी ट्रायल में शामिल होने का इच्छुक है रूस
  • ओडिशा में एक दिन में सर्वाधिक 755 कोरोना संक्रमितों की पुष्टि
भारत


आरे कॉलोनी मामले में अगली सुनवाई तक यथास्थिति बरकरार

आरे कॉलोनी मामले में अगली सुनवाई तक यथास्थिति बरकरार

नयी दिल्ली 21 अक्टूबर (वार्ता) उच्चतम न्यायालय ने मुंबई की आरे कॉलोनी में पेड़ों की कटाई के मामले में यथास्थिति बरकरार रखने का आदेश दिया है।

न्यायमूर्ति अरुण मिश्रा की अध्यक्षता वाली पीठ ने सोमवार को इस मामले की सुनवाई के दौरान यह आदेश दिया।

इस मामले की अगली सुनवाई अब 15 नवंबर को होगी और तब तक न ही कोई पेड़ काटा जाएगा और न ही निर्माण कार्य रूकेगा।

शीर्ष न्यायालय ने मुंबई मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन लिमिटेड (एमएमआरसीएल) से आरे कॉलोनी इलाके में वृक्षारोपण, ट्रांसप्‍लांटेशन और पेड़ों की कटाई पर तस्‍वीरों के साथ स्थिति रिपोर्ट मांगी है। न्यायालय ने यह भी कहा कि मेट्रो कार शेड के निर्माण कार्य पर कोई रोक नहीं लगेगी।

शीर्ष न्यायालय ने एमएमआरसीएल और मुंबई कॉरपोरेशन से पूछा है कि क्या इस इलाके में कोई व्यावसायिक परियोजना भी प्रस्तावित है? न्यायालय ने कहा कि हम केवल इतने ही क्षेत्र से नहीं बल्कि पूरे इलाके को देखना चाहते हैं।

मुंबई मेट्रो की ओर से पेश वरिष्ठ अधिवक्ता मुकुल रोहतगी ने पीठ को बताया कि दिल्ली में मेट्रो के कारण ही सात लाख गाड़ियां सड़क से नदारद हैं, जिससे वायु प्रदूषण कम होता है।

कानून के छात्रों के संगठनों ने मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई को पत्र लिखकर इस मामले में हस्तक्षेप करने के लिए कहा था। उच्चतम न्यायालय ने इस मामले में स्वत: संज्ञान लेेते हुए मामले की सुनवाई के लिए विशेष पीठ गठित की है।

दरअसल, चार अक्‍टूबर को बंबई उच्च न्यायालय ने आरे कॉलोनी को वन क्षेत्र घोषित करने से इनकार कर दिया था और पेड़ों की कटाई पर रोक लगाने से इनकार कर दिया था। इसके बाद एमएमआरसीएल की ओर से बड़ी संख्‍या में पेड़ों के काटे जाने की रिपोर्टें आईं। पेड़ों की कटाई के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की गयी थी। सात अक्‍टूबर को उच्चतम न्यायालय ने आदेश जारी किया था कि आरे कॉलोनी में मेट्रो कारशेड के निर्माण कार्य में आगे कोई पेड़ नहीं काटे जाएंगे।

रवि टंडन

वार्ता

More News
दानिश ने सुभान की तलाश के लिए राजनाथ को लिखा पत्र

दानिश ने सुभान की तलाश के लिए राजनाथ को लिखा पत्र

10 Jul 2020 | 2:52 PM

नयी दिल्ली, 10 जुलाई (वार्ता) बहुजन समाज पार्टी के नेता एवं सांसद कुंवर दानिश अली ने शुक्रवार को रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह को पत्र लिखकर लेह में तैनात भारतीय इंजीनियरिंग सेवा (आईईएस) के अधिकारी सुभान अली को तलाश तेज करवाने और इसमें व्यक्तिगत रूप से दखल देने का आग्रह किया।

see more..
हर्षवर्धन ने राजनाथ सिंह को दी जन्मदिन की शुभकामनाएं

हर्षवर्धन ने राजनाथ सिंह को दी जन्मदिन की शुभकामनाएं

10 Jul 2020 | 2:45 PM

नयी दिल्ली 10 जुलाई (वार्ता) केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने शुक्रवार को रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह को जन्मदिन की हार्दिक बधाई देते हुए उनकी दीर्घायु की कामना की।

see more..
सुप्रीम कोर्ट ने यादव सिंह की याचिका का किया निपटारा

सुप्रीम कोर्ट ने यादव सिंह की याचिका का किया निपटारा

10 Jul 2020 | 2:30 PM

नयी दिल्ली, 10 जुलाई (वार्ता) उच्चतम न्यायालय ने आय के ज्ञात स्रोतों से अधिक सम्पत्ति अर्जित करने और भ्रष्टाचार के कई मामलों के आरोपी नोएडा के पूर्व मुख्य अभियंता यादव सिंह की याचिका का शुक्रवार को निपटारा कर दिया।

see more..
image