Tuesday, Aug 14 2018 | Time 14:17 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • मिशन-2019 प्लस 12 पर भाजपा राष्ट्रीय कार्यकारिणी बनाएगी जीत की रणनीति
  • आरपीएफ हवलदार के घर से लाखों की संपति चोरी
  • आफस्पा को कमजोर करने के खिलाफ याचिका की सुनवाई 20 अगस्त को
  • डीडी नेशनल पर फिल्म ‘दंगल’ का प्रसारण
  • नक्सलियों ने की युवक की हत्या, शव उठाने गयी पुलिस पर बम से हमला
  • लीरा की कीमत में भारी गिरावट के दबाव में आया भारतीय रुपया
  • केरल मंत्रिमंडल में फिर शामिल हुए जयराजन
  • ये है आजादी, नक्सली साए में रहे 62 गांवों के बच्चे पहली बार देखेंगे फहरता हुआ तिरंगा
  • भारतीय सेना के सुनियोजित अभियान में दो पाकिस्तानी सैनिक मरे
  • लीरा की कीमत में भारी गिरावट के दबाव में आया भारतीय रुपया
  • छत्तीसगढ़ के राज्यपाल बलरामजी दास टंडन गंभीर रूप से बीमार
  • करंट लगने से रेलवे के पंपकर्मी की मौत
  • रूपये के मूल्य में गिरावट को लेकर कांग्रेस ने मोदी पर कसा तंज
  • लोकलाज छोड़ कुर्सी से चिपके हैं नीतीश कुमार : तेजस्वी
  • सडक हादसे में दो महिलाओं सहित चार की मौत
भारत Share

ईडी ने कार्ति चिदंबरम के खिलाफ दायर किया आरोप पत्र

ईडी ने कार्ति चिदंबरम के खिलाफ दायर किया आरोप पत्र

नयी दिल्ली 13 जून (वार्ता) प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने एयरसेल-मैक्सिस मामले में पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम के पुत्र कार्ति चिदंबरम और चार अन्य के खिलाफ जांच के बाद दिल्ली के पटियाला हाउस अदालत में बुधवार को आरोप पत्र दायर किया।

अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश रूबी अलका गुप्ता ने ईडी की ओर से जवाब सुनने के बाद आरोप पत्र पर विचार के लिए चार जुलाई की तारीख तय की।

ईडी ने आरोप पत्र में पूर्व वित्त मंत्री चिदंबरम काे आरोपी नहीं बनाया है लेकिन उनका नाम कई जगहों पर आया है। निदेशालय ने कहा कि इस मामले में अनुपूरक आरोप पत्र दायर किया जा सकता है। ईडी ने बताया कि कार्ति ने ‘एडवांटेज स्ट्रेटजिक कसंलटिंग प्राइवेट लिमिटेड’ (एएससीपीएल) के हर पहलू पर नियंत्रण कर रखा था। इस कंपनी ने एयरसेल टेलीवेंचर लिमिटेड से 26 लाख रुपये कथित रिश्वत के तौर पर लिये थे।

ईडी के मुताबिक एयरसेल ने एएससीपीएल को 26 लाख रुपये की रिश्वत दी थी। एएससीपीएल की स्थापना कार्ति के निर्देश पर की गयी थी और उसकी स्थापना के लिए पैसों का इंतजाम भी उन्हाेंने ही किया था।

ईडी ने बताया कि एयरसेल ने अपने शेयर मैक्सिस कम्युनिकेशन को बेचे थे अौर मैक्सिस ने प्रत्यक्ष विदेशी निवेश के तौर पर 3565.91 करोड़ रुपये का निवेश किया था। वित्त मंत्री के पास उस समय केवल 600 करोड़ रुपये तक के प्रत्यक्ष विदेशी निवेश को मंजूरी देने का अधिकार था और उससे अधिक के निवेश के लिए आर्थिक मामलों की मंत्रिमंडलीय समिति से अनुमति लेनी होती थी।

इसके अलावा एक अन्य कंपनी सीएमएसपीएल को भी आरोपी बनाया गया है जिसे कार्ति ने प्रमोट किया था। इस कंपनी को भी मैक्सिस और उसकी सहयोगी मलेशियाई कंपनी से सॉफ्टवेयर सेवाओं के लिए कथित तौर पर 90 लाख रुपये मिले थे।

पटियाला हाउस स्थित विशेष अदालत ने दो मई को कार्ति की अग्रिम जमानत याचिका पर सुनवाई करते हुए उसकी गिरफ्तारी पर 10 जुलाई तक रोक लगा दी थी।

ईडी और केंद्रीय जांच ब्यूरो एयरसेल मैक्सिस को 2006 में विदेशी निवेश प्रोत्साहन बोर्ड (एफआईपीबी) की अनुमति दिलाने में कार्ति की भूमिका की जांच कर रहा है। उस समय उनके पिता केंद्रीय वित्त मंत्री थे।

इसके अलावा आईएनएक्स मीडिया को 305 करोड़ रुपये के विदेशी निवेश की अनुमति एफआईपीबी से दिलाने के मामले में भी कार्ति आरोपी हैं।

यामिनी, उप्रेती

वार्ता

More News
आफस्पा को कमजोर करने के खिलाफ याचिका की सुनवाई 20 अगस्त को

आफस्पा को कमजोर करने के खिलाफ याचिका की सुनवाई 20 अगस्त को

14 Aug 2018 | 1:53 PM

नयी दिल्ली, 14 अगस्त (वार्ता) उच्चतम न्यायालय ने सशस्त्र बल विशेषाधिकार कानून (आफस्पा) को कथित तौर पर कमजोर बनाये जाने के खिलाफ याचिका की सुनवाई के लिए 20 अगस्त की तारीख मुकर्रर की है।

 Sharesee more..

डीडी इंडिया

14 Aug 2018 | 1:40 PM

 Sharesee more..

डीडी उर्दू

14 Aug 2018 | 1:39 PM

 Sharesee more..

डीडी भारती

14 Aug 2018 | 1:39 PM

 Sharesee more..

डीडी स्पोर्ट्स

14 Aug 2018 | 1:37 PM

 Sharesee more..
image