Saturday, May 30 2020 | Time 20:47 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • मणिनगर,साबरमती स्टेशनों पर नहीं रुकेंगी स्पेशल ट्रेंने
  • दिल्ली मेट्रो की सेवाएं यात्रियों के लिए अगले नोटिस तक बंद
  • पश्चिम बंगाल में 15 जून तक बढ़ाया गया लॉकडाउन, शर्तों के साथ मिलेंगी कुछ रियायतें
  • जुलाई में तय होगा तलाकशुदा महिला स्वतंत्रता सेनानी फैमिली पेंशन की हकदार या नहीं?
  • मनरेगा में कार्य दिवस दो सौ दिन किए जाएं-गहलोत
  • हरियाणा में कोरोना के 202 नये मामले, कुल संख्या 1923 हुई, 20 लोगों की मौत
  • अर्थव्यवस्था में गिरावट की वजह सरकार नहीं, पंडित नेहरू : यशवंत
  • खेल रत्न के लिए रोहित और अर्जुन के लिए इशांत, शिखर, दीप्ति का नाम
  • कागरी को विशेषाधिकार हनन नोटिस का सामना करना होगा : पाटिल
  • बेंगलुरु से विशेष ट्रेन में सवार होंगे झारखंड के 69 श्रमिक
  • फोटो कैप्शन दूसरा सेट
  • झांसी जिला चिकित्सालय में अव्यवस्थाओं का अंबार, जिम्मेदारों पर गिरी गाज
  • प्रशासनिक अधिकारी को सेवानिवृत्ति पर भावपूर्ण विदाई
  • गुरूग्राम से 1600 यात्रियों को लेकर रेलगाड़ी पश्चिम बंगाल रवाना
राज्य » अन्य राज्य


उत्तराखंड में भी राष्ट्रीय नागरिकता कानून हो सकता है लागू: त्रिवेन्द्र

उत्तराखंड में भी राष्ट्रीय नागरिकता कानून हो सकता है लागू: त्रिवेन्द्र

देहरादून, 16 सितंबर (वार्ता) राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (एनआरसी) को लेकर पूरे देश में एक नई बहस शुरू हो गई है। उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने साफ किया है कि राज्य में भी एनआरसी लागू हो सकता है।

श्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि इस बारे में मंत्रिमंडल से विचार विमर्श करेंगे। उसके बाद ही इस बारे में कोई फैसला लिया जाएगा।

गौरतलब है कि हरियाणा और उत्तर प्रदेश के बाद उत्तराखंड के मुख्यमंत्री ने भी एनआरसी लागू करने की बात कही है। राजधानी देहरादून में मुख्यमंत्री ने कहा कि उत्तराखंड में भी एनआरसी लागू करने पर विचार किया जा सकता है। एनआरसी को घुसपैठ रोकने का सबसे अच्छा तरीका बताते हुए उन्होंने कहा कि उत्तराखंड भी अंतरराष्ट्रीय सीमाओं से घिरा है। जरूरत पड़ी तो उत्तराखंड भी एनआरसी लागू करेगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि इस बारे में मंत्रिमंडल से विचार विमर्श करेंगे और उसके बाद ही इस बारे में कोई फैसला लिया जाएगा। उल्लेखनीय है कि राज्य के उधम सिंह नगर जिले के कई क्षेत्रों में बंगलादेशी लोगों की संख्या अधिक है। बंगलादेश के गठन के वक्त काफी तादात में लोग उत्तराखंड भी आए थे।

सं. उप्रेती

वार्ता

image