Friday, Nov 15 2019 | Time 01:36 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • अमेरिका के कैलिफोर्निया में स्कूल में गोलीबारी, पांच घायल
  • आतंकवाद ने विकासशील देशों के आर्थिक विकास की रफ्तार को धीमा किया: मोदी
  • इंडोनेशिया में भूकंप के जोरदार झटके
  • पूर्व मंत्री हरिनारायण की चुनाव लड़ने की अनुमति दिए जाने की याचिका खारिज
  • फोटो कैप्शन तीसरा सेट
भारत


एक भारत, श्रेष्ठ भारत के थीम पर आधारित होंगे हुनर हाट: नकवी

एक भारत, श्रेष्ठ भारत के थीम पर आधारित होंगे हुनर हाट: नकवी

नयी दिल्ली 22 अक्टूबर (वार्ता) केंद्रीय अल्‍पसंख्‍यक कार्य मंत्री मुख्‍तार अब्‍बास नकवी ने आज कहा कि सरकार अगले पांच वर्षों के दौरान हुनर हाट के जरिए लाखों शिल्पकारों, कारीगरों और पारंपरिक रसोइयों को रोजगार के अवसर उपलब्ध कराएगी।

श्री नकवी ने यहां कहा कि अगला हुनर हाट 1 से 10 नवम्‍बर उत्तर प्रदेश के प्रयागराज में ‘नॉर्थ सैंट्रल जोन कल्‍चरल सेंटर’ में आयोजित किया जायेगा। इसमें देश के सभी हिस्‍सों से 300 शिल्‍पकार और रसोइए भाग लेंगे। उन्होंने कहा कि इस साल और अगले वर्ष आयोजित होने वाले हुनर हाटों की थीम एक भारत , श्रेष्ठ भारत होगी।

उन्होंने कहा कि हुनर हाट के जरिये पिछले तीन वर्षों के दौरान ढाई लाख शिल्‍पकारों, कारीगरों और पाक कला विशेषज्ञों को रोजगार मिला है। अल्‍पसंख्‍यक मंत्रालय पांच वर्षों के दौरान पूरे देश में 100 हुनर हाटों का आयोजन करेगा। ये दिल्‍ली, गुरूग्राम, मुंबई, चेन्‍नई, कोलकाता, बेंगलुरू, लखनऊ, अहमदाबाद, देहरादून, पटना, इंदौर, भोपाल, नागपुर, रायपुर, हैदराबाद, पुडुचेरी, चंडीगढ़, अमृतसर, जम्मू, शिमला, गोवा, कोच्चि, गुवाहाटी, रांची, भुवनेश्वर, अजमेर और अन्य स्थानों पर आयोजित किए जाएंगे। उन्होंने कहा कि हुनर हाट मेक इन इंडिया, स्‍टैंडअप इंडिया और स्‍टार्टअप इंडिया आदि कार्यक्रमों के लिए प्रधानमंत्री की प्रतिबद्धता को पूरा करने में सहायता प्रदान करेगा।

श्री नकवी ने कहा कि प्रयागराज में आयोजित होने वाले हुनर हाट में देश में ही हस्तनिर्मित उत्‍पाद जैसे असम के बांस तथा जूट उत्पाद, वाराणसी सिल्क, लखनऊ की चिकनकारी, सिरेमिक, कांच के बने सामान , चर्म उत्‍पाद, उत्तर प्रदेश के पारंपरिक हस्तशिल्प, उत्तर पूर्वी क्षेत्र के पारंपरिक हस्तशिल्प, गुजरात से बंधेज, मिट्टी का काम , तांबा उत्पाद, आंध्र प्रदेश से कलमकारी और मंगलागिरी, राजस्थान से संगमरमर की कलाकृतियां और हस्तशिल्प, बिहार से मधुबनी पेंटिंग, हिमाचल प्रदेश और कर्नाटक से लकड़ी का काम, मध्य प्रदेश से ब्लॉक प्रिंट, पुदुचेरी से आभूषण और मोती, तमिलनाडु से चंदन के उत्पाद, पश्चिम बंगाल से हाथ की कढ़ाई वाले उत्पाद, कश्मीर-लद्दाख की दुर्लभ आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियां आदि प्रदर्शित किए जाएंगे। आगंतुक देश के हर कोने के पारंपरिक व्यंजनों का भी आनंद ले सकेंगे। इसके अलावा, प्रसिद्ध कलाकारों द्वारा पारंपरिक सांस्कृतिक कार्यक्रम, कव्‍वाली, सूफी संगीत और कविता पाठ किए जाएंगे।

संजीव

वार्ता

More News
केन्द्रीय पूल में छत्तीसगढ़ से चावल उपार्जन की अनुमति दे केंद्र : भूपेश

केन्द्रीय पूल में छत्तीसगढ़ से चावल उपार्जन की अनुमति दे केंद्र : भूपेश

14 Nov 2019 | 10:38 PM

नयी दिल्ली, 14 नवम्बर (वार्ता) छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने गुरुवार को यहां केन्द्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर तथा केन्द्रीय खाद्य मंत्री राम विलास पासवान से मुलाकात की और उनसे राज्य के किसानों के हित में केंद्रीय पूल के लिए चावल उपार्जन की अनुमति दिए जाने का आग्रह किया।

see more..
राफेल: पुनर्विचार याचिका खारिज करने का गडकरी ने किया स्वागत

राफेल: पुनर्विचार याचिका खारिज करने का गडकरी ने किया स्वागत

14 Nov 2019 | 10:21 PM

नई दिल्ली, 14 नवंबर (वार्ता) केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी तथा जल शक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने उच्चतम न्यायालय के राफेल लड़ाकू विमान सौदा मामले में पूर्व केन्द्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा,अरुण शौरी एवं अन्य की पुनर्विचार याचिका खारिज किये जाने का स्वागत किया है।

see more..
नयी शिक्षा नीति के विरोध में शिक्षकों ने निकाली रैली

नयी शिक्षा नीति के विरोध में शिक्षकों ने निकाली रैली

14 Nov 2019 | 9:29 PM

नयी दिल्ली, 14 नवंबर (वार्ता) दिल्ली विश्वविद्यालय (डीयू), जवाहरलाल नेहरु विश्वद्यािलय (जेएनयू) समेत अनेक केंद्रीय विश्वविद्यालयों के शिक्षकों ने नयी शिक्षा नीति का विरोध करते हुए इसे वापस लेने की सरकार से मांग की।

see more..
वायु प्रदूषण की गंभीर मार को ‘हरे खून’ से करें परास्त

वायु प्रदूषण की गंभीर मार को ‘हरे खून’ से करें परास्त

14 Nov 2019 | 9:29 PM

नयी दिल्ली, 14 नवंबर (वार्ता) बढ़ते प्रदूषण और उसके खतरनाक प्रभाव से बचने के तमाम उपाय अपनाने में लगे लोगों के लिये ह्वीट ग्रास जैसा प्रकृति का अनमोल तोहफा बहुत मददगार साबित हो सकता है जो न केवल प्रदूषण बल्कि कई अन्य बीमारियों से लड़ने में भी सक्षम है।

see more..
धार्मिक स्थलों में महिलाओं के प्रवेश का मामला वृहद पीठ के सुपुर्द

धार्मिक स्थलों में महिलाओं के प्रवेश का मामला वृहद पीठ के सुपुर्द

14 Nov 2019 | 9:29 PM

नई दिल्ली, 14 नवंबर (वार्ता) उच्चतम न्यायालय ने मंदिरों, मस्जिदों और अन्य धार्मिक स्थलों में महिलाओं के प्रवेश सहित विभिन्न संवैधानिक बिंदुओं को गुरुवार को वृहद पीठ के सुपुर्द कर दिया।

see more..
image