Friday, Dec 6 2019 | Time 19:13 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • जल और हरियाली के बिना जीवन की परिकल्पना बेमानी : नीतीश
  • अविनाश खन्ना हरियाणा और गोवा प्रदेशाध्यक्षों के चुनाव हेतु पर्यवेक्षक नियुक्त
  • वित्त आयोग ने वर्ष 2020-21 के लिए रिपोर्ट वित्त मंत्री को सौंपी
  • आदि महोत्सव में 20 करोड़ रुपए की बिक्री
  • संवाद से रखी जाती है बेहतर भविष्य की नींव : मोदी
  • अजहरुद्दीन के नाम पर स्टैंड का अनावरण
  • कारागार सुधार गृह हैं, इन्हें अपराध का गढ़ नहीं बनने दिया जाएगा:योगी
  • लालू की जमानत याचिका खारिज
  • राहत नहीं मिलने पर बंद हो सकती वोडाफोन आइडिया : बिरला
  • खट्टर का सात दिसम्बर को गुरूग्राम दौरा, देंगे अनेक परियोजनाओं की सौगात
  • विशेष अभियान में दो इन्सास राइफल समेत भारी मात्रा में कारतूस बरामद
  • छोटे कस्बों और ग्रामीण क्षेत्रों के पुलिस स्टेशन अव्वल
  • क्रिकेट दक्षिण अफ्रीका के सीईओ मोरोए निलंबित
  • कच्चे तेल में नरमी से रुपया मजबूत
  • एक्सपायरी इंजेक्शन से महिला की मौत पर परिजनों ने नर्सिंग होम में की तोडफोड़
भारत


एजीआर मामले में टेलीकॉम कंपनियों ने दायर की पुनर्विचार याचिका

एजीआर मामले में टेलीकॉम कंपनियों ने दायर की पुनर्विचार याचिका

नयी दिल्ली, 22 नवम्बर (वार्ता) विभिन्न दूरसंचार कंपनियों ने समायोजित सकल राजस्व (एडजस्टेड ग्रॉस रिवेन्यू) अर्थात् एजीआर मामले में उच्चतम न्यायालय में पुनर्विचार याचिका दायर की है।

भारती एयरटेल, वोडाफोन-आइडिया और टाटा टेलीसर्विसेज ने शीर्ष अदालत में पुनरीक्षण याचिका दायर करके गत 24 अक्टूबर के आदेश पर फिर से विचार करने का अनुरोध किया है।

याचिका में जुर्माना, ब्याज और जुर्माने पर लगाए ब्याज पर छूट का अनुरोध किया गया है। दूरसंचार कंपनियों ने लगाए गए जुर्माने की राशि को चुनौती दी है। याचिका में अदालत से एजीआर में गैर दूरसंचार आय को शामिल करने के फैसले पर भी फिर से विचार करने का अनुरोध किया गया है।

न्यायमूर्ति अरुण कुमार मिश्रा की अध्यक्षता वाली खंडपीठ ने दिल्ली उच्च न्यायालय के फैसले के खिलाफ दूरसंचार विभाग की अपील मंजूर कर ली थी। इस फैसले के बाद टेलीकॉम कंपनियों को बकाया रकम सरकार को चुकानी है। यह रकम करीब 92 हजार करोड़ रुपये है, जो दूरसंचार कंपनियां सरकार को चुकाएगी।

गौरतलब है कि एजीआर के तहत क्या-क्या शामिल होगा, इसकी परिभाषा को लेकर टेलीकॉम कंपनी और सरकार के बीच विवाद चल रहा था।

टेलीकॉम कंपनियां सरकार के साथ लाइसेंस फीस और स्पेक्ट्रम यूसेज चार्ज शेयरिंग करती है। न्यायालय की परिभाषा के अनुसार, किराया, संपत्ति की बिक्री पर मुनाफा, ट्रेजरी इनकम, डिविडेंड सभी एजीआर में शामिल होगा। वहीं, डूबे हुए कर्ज, करंसी में फ्लकचुएशन, कैपिटल रिसिप्ट डिस्ट्रीब्यूशन मार्जन एजीआर में शामिल नहीं करने का आदेश दिया गया है।

सुरेश टंडन

वार्ता

More News
सत्ता पक्ष ने ध्यान हटाने के लिए किया लोकसभा में हंगामा: कांग्रेस

सत्ता पक्ष ने ध्यान हटाने के लिए किया लोकसभा में हंगामा: कांग्रेस

06 Dec 2019 | 6:33 PM

नयी दिल्ली, 06 दिसम्बर (वार्ता) कांग्रेस ने आरोप लगाया है कि बलात्कार की बढ़ती घटनाओं को लेकर सरकार के पास कोई जवाब नहीं है इसलिए भारतीय जनता पार्टी के सदस्यों ने ध्यान हटाने के लिए लोकसभा में हंगामा किया और विपक्ष की बात नहीं सुनी गयी।

see more..
मेडिकल नामांकन घोटाला: दिल्ली, लखनऊ में सीबीआई छापे

मेडिकल नामांकन घोटाला: दिल्ली, लखनऊ में सीबीआई छापे

06 Dec 2019 | 6:27 PM

नयी दिल्ली, 06 दिसम्बर (वार्ता) केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) की टीम एक निजी मेडिकल कॉलेज में नामांकन घोटाले को लेकर दिल्ली एवं लखनऊ के कुछ ठिकानों पर सुबह से छापे मार रही है।

see more..
image