Tuesday, Apr 23 2019 | Time 17:44 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • हथियार लेकर चलने पर पूर्ण पाबंदी के आदेश
  • हरियाणा में बड़ी मात्रा में शराब और नकदी बरामद, 19 काबू
  • गेहूं की खरीद के लिए किए गए उचित प्रबंध::उपायुक्त
  • विशेष दस्ते ने किया एक क्विंटल फल और सब्जियां को नष्ट
  • मोदी सरकार की उद्योग, कृषि विकास की कोई नीति नहीं: पवार
  • हरियाणा पुलिस का छह बदमाशों पर एक-एक लाख रुपये का ईनाम घोषित
  • मोदी सरकार ने राजनीतिक परिभाषा बदलने का काम किया - बृजेंद्र सिंह
  • मध्य फिलीपींस में छह सैनिक मरे
  • वियतनाम में सैन्य विमान दुर्घटनाग्रस्त, सैनिक घायल
  • बैंकिंग, ऑटो में बिकवाली से तीसरे दिन टूटा बाजार
  • कांग्रेस प्रत्याशी औजला ने दाखिल किया नामांकन
  • उम्मीदवारों को चुनावी नैया पार लगाने के लिये डेरों का सहारा
  • पीयरलेस से 1514 करोड़ रुपए की वसूली
  • कांग्रेस की न्याय योजना करेगी गरीबी का खात्मा : कुलदीप बिश्नोई
  • कांग्रेस ने शिवराज सहित भाजपा के चार नेताओं के खिलाफ दर्ज कराई शिकायत
मनोरंजन


एस.मोहिन्दर ने ठुकरा दिया था मधुबाला का विवाह प्रस्ताव

एस.मोहिन्दर ने ठुकरा दिया था मधुबाला का विवाह प्रस्ताव

..जन्मदिवस 08 सितम्बर के अवसर पर ..

मुंबई 07 सितंबर(वार्ता) बीते जमाने के मशहूर संगीतकार एस.मोहिन्दर को एक बार बेपनाह हुस्न की मल्लिका मधुबाला से शादी का प्रस्ताव मिला था जिन्हें उन्हें ठुकरा दिया था।

एस.मोहिन्दर मूल नाम मोहिन्दर सिंह सरना का जन्म अविभाजित पंजाब में मोंटगोमरी जिले के सिलनवाला गांव में 08 सितम्बर 1925 को एक सिख परिवार में हुआ। मोहिन्दर के पिता सुजान सिंह बख्शी पुलिस में सब इंस्पेक्टर थे। उनके पिता बांसुरी बहुत अच्छी बजाते थे जिसे वह बेहद प्यार से सुना करते थे1बचपन के दिनो से ही मोहिन्दर का रूझान संगीत की ओर हो गया था।

वर्ष 1935 में मोहन्दर ने गायक संत सुजान सिंह से शास्त्रीय संगीत की शिक्षा लेनी शुरू की। बाद में उन्होंने संगीतज्ञ भाई समुंद सिंह से शास्त्रीय संगीत की शिक्षा ली। मोहिन्दर ने महान शास्त्रीय गायक बड़े गुलाम अली खां और लक्ष्मण दास से भी शास्त्रीय संगीत की शिक्षा ग्रहण की थी। मोहिन्दर के पिता का लगतार तबादला हुआ करता था जिसके कारण उनकी पढ़ाई काफी प्रभवित हुआ करती थी। चालीस के दशक के प्रारंभ में उनका दाखिला अमृतसर जिले के कैरों गांव में खालसा हाई स्कूल में करा दिया गया।

वर्ष 1947 में देश का विभाजन होने पर उनका परिवार तो भारत में पूर्वी पंजाब चला गया लेकिन संगीत के प्रति रूझान के कारण मोहिन्दर बनारस आ गये जहां उन्होंने दो साल तक शास्त्रीय संगीत की शिक्षा ली। शुरूआती दौर में मोहिन्दर पार्श्वगायक बनना चाहते थे। कुछ वर्ष तक वह लाहौर रेडियो स्टेशन से भी गायक के तौर पर काम किया इसी दौरान उनकी मुलाकात सुरैया से हुयी जिन्होंने उन्हें मुंबई आने का न्यौता दिया। मुंबई आने पर मोहिन्दर की मुलाकात जानेमाने संगीतकार खेमचंद्र प्रकाश से हुयी।

प्रेम टंडन

जारी वार्ता

More News
तेरे नाम का सीक्वल बनायेंगे सतीश कौशिक

तेरे नाम का सीक्वल बनायेंगे सतीश कौशिक

23 Apr 2019 | 11:53 AM

मुंबई 23 अप्रैल (वार्ता) बॉलीवुड के जाने माने निर्देशक सतीश कौशिक अपनी सुपरहिट फिल्म तेरे नाम का सीक्वल बनाने जा रहे हैं।

see more..
अभी डेब्यू नहीं कर रही है न्यासा :काजोल

अभी डेब्यू नहीं कर रही है न्यासा :काजोल

23 Apr 2019 | 11:45 AM

मुंबई 23 अप्रैल (वार्ता) जानी मानी अभिनेत्री काजोल का कहना है कि उनकी बेटी न्यासा अभी बॉलीवुड में डेब्यू नही कर रही है।

see more..
बॉक्स ऑफिस पर फिल्म की असफलता पर स्ट्रेस नही लेती सोनाक्षी

बॉक्स ऑफिस पर फिल्म की असफलता पर स्ट्रेस नही लेती सोनाक्षी

23 Apr 2019 | 11:36 AM

मुंबई 23 अप्रैल (वार्ता) बॉलीवुड की दबंग गर्ल सोनाक्षी सिन्हा का कहना है कि वह बॉक्स ऑफिस पर फिल्म की असफलता पर स्ट्रेस नही लेती है।

see more..
भोजपुरी सिनेमा की त्रिमूर्ति चुनाव में बनी भाजपा की त्रिमूर्ति

भोजपुरी सिनेमा की त्रिमूर्ति चुनाव में बनी भाजपा की त्रिमूर्ति

22 Apr 2019 | 2:08 PM

मुंबई 22 अप्रैल (वार्ता) भोजपुरी सिनेमा की त्रिमूर्ति मनोज तिवारी, रवि किशन और दिनेश लाल यादव निरहुआ लोकसभा चुनाव के महासंग्राम में ताल ठोकते नजर आयेंगे।

see more..

22 Apr 2019 | 1:30 PM

see more..
image