Friday, Dec 6 2019 | Time 19:27 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • निर्माता वैकल्पिक ईंधन से संचालित वाहन बनाएं : गडकरी
  • विदेशी मुद्रा भंडार पहली बार 450 अरब डॉलर के पार
  • साइबर अपराधियों ने जौहरी के 2़ 98 करोड़ रुपये उड़ाये
  • जम्मू-कश्मीर नेशनल पैंथर्स पार्टी ने शनिवार को पूर्ण जम्मू बंद की अपील की
  • राष्ट्रव्यापी जीएसटी हितधारक फीडबैक दिवस का आयोजन कल
  • जनहित के मुद्दों को लेकर फरवरी में होगी खाप महापंचायत
  • रेणुका सिंह गिनायेंगी 100 दिन की उपलब्धि
  • जल और हरियाली के बिना जीवन की परिकल्पना बेमानी : नीतीश
  • अविनाश खन्ना हरियाणा और गोवा प्रदेशाध्यक्षों के चुनाव हेतु पर्यवेक्षक नियुक्त
  • वित्त आयोग ने वर्ष 2020-21 के लिए रिपोर्ट वित्त मंत्री को सौंपी
  • आदि महोत्सव में 20 करोड़ रुपए की बिक्री
  • संवाद से रखी जाती है बेहतर भविष्य की नींव : मोदी
  • अजहरुद्दीन के नाम पर स्टैंड का अनावरण
  • अजहरुद्दीन के नाम पर स्टैंड का अनावरण
  • कारागार सुधार गृह हैं, इन्हें अपराध का गढ़ नहीं बनने दिया जाएगा:योगी
राज्य » पंजाब / हरियाणा / हिमाचल


ओडिशा सरकार सिख स्मारकों को सुरक्षित रखने के लिए गंभीर हो: भाई लौंगोवाल

अमृतसर, 19 नवंबर (वार्ता) शिरोमणि गुरूद्वारा प्रबंधक समिति के अध्यक्ष भाई गोविंद सिंह लोंगोवाल ने मंगलवार को कहा कि ओडिशा के जगन्नाथ पुरी में सिखों के पहले गुरु श्री गुरु नानक देव जी से सम्बन्धित ऐतिहासिक स्थानों की सुरक्षा के लिए राज्य सरकार को संजीदा भूमिका निभानी चाहिए और यह सुनिश्चित करना जाना चाहिए कि विकास के नाम पर किसी भी स्मारक को नुकसान नहीं पहुँचे।
भाई लोंगोवाल ने कहा कि शिरोमणि गुरूद्वारा प्रबंधक समिति इस मामले में पहले भी ओडिशा सरकार और स्थानीय प्रशासन से सम्पर्क कर चुकी है। इसके इलावा केन्द्र सरकार के साथ भी बातचीत की गई है। उन्होंने कहा कि एक बार फिर जगन्नाथ पुरी में गुरुनानक देव के स्मारक में तोड़ फोड़ का अंदेशा सिखों की भावनाओं को ठेस पहुँचाने वाला है। उन्होने कहा कि श्री गुरु नानक देव जी ने दुनिया में धर्म प्रचार यात्राएं की और वह जहाँ भी गये, वहां गुरु साहब की पवित्र स्मृियां सदियों से सुशोभित हैं। गुरु नानक देव के 550वें प्रकाश पर्व के अवसर पर उनसे सम्बन्धित स्मारकों के तोड़ फोड़ के संदेह की खबरें दुखदायी हैं।
भाई लोंगोवाल ने कहा कि गुरु नानक देव ने जगन्नाथ पुरी की यात्रा वहाँ के निवासियों के जीवन में सुधार के लिए की थी और इस लिए स्थानीय सरकार और प्रशासन का फ़र्ज़ बनता है कि वह इन ऐतिहासिक स्मारकों की देखरेख करे। उन्होने कहा कि एक तरफ़ सरकार की ओर से एसजीपीसी को गुरुद्वारा बावली मठ साहब के विकास और सेवा सम्बन्धित शिरोमणि समिति की राय अनुसार कार्य करने का भरोसा दिया जा चुका है जबकि दूसरी ओर मंगू मठ और पंजाबी मठ को तोड़ने की साजिश रची जा रही हैं।
सं ठाकुर, यामिनी
वार्ता
image