Friday, Apr 3 2020 | Time 21:29 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • प्रतापगढ़ में मिले कोरोना पॉजिटिव के तीन मामले
  • शेष राशन कार्डधारियों के खाते में शीघ्र भेजें हजार रुपये : नीतीश
  • पुलिस ने लॉकडाउन के दौरान 3195 लोगों को हिरासत में लिया
  • झांसी: कोरोना खतरे के मद्देनजर अनुभव संस्थान मुहैया करायेगा नि:शुल्क मास्क
  • गुजरात में कोरोना से दो और मौत, सात नये मरीज
  • आदित्य वर्मा ने दी 25 हजार की मदद
  • औरैया के चमनंगज में पुलिस पर ईंट पत्थरों से किया हमला
  • आईएमए को गुजरात में एन95 मास्क निःशुल्क प्रदान
  • कंट्रोल रूम में लापरवाही पर कड़ा हुआ झांसी प्रशासन
  • मध्यप्रदेश में कोरोना संक्रमितों की संख्या 131, अब तक आठ की मौत
  • सड़क हादसे में नौ वर्षीय बच्ची की मौत
  • बच्चे से कुकर्म के आरोप में 'बाबा' हिरासत में
  • कोरोना संक्रमितों की संख्या 2547 हुई, 62 की मौत
  • ललितपुर: सड़क दुर्घटना में दम्पति हताहत
राज्य » मध्य प्रदेश / छत्तीसगढ़


कमलनाथ ने नाबार्ड के स्टेट फोकस पेपर का विमाेचन किया

भोपाल, 27 फरवरी (वार्ता) मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने आज कहा कि राज्य सरकार ने प्रदेश को देश की 'हार्टिकल्चर कैपीटल' बनाने का संकल्प लिया है।
उन्होंने कहा कि उद्यानिकी क्षेत्र किसानों की समृद्धि के द्वार खोलने वाला क्षेत्र है। यह कृषि क्षेत्र का भविष्य है। यह उन्होंने कहा कि नाबार्ड को हार्टिकल्चर क्षेत्र में ऋण देने का अनुमान 6 प्रतिशत से बढ़ाकर कम से कम 15 प्रतिशत तक रखना चाहिए। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश में बड़ी मात्रा में अनुपयोगी पड़ी राजस्व भूमि का उपयोग उद्यानिकी क्षेत्र के विस्तार में किया जा सकता है।
आधिकारिक सूत्रों के अनुसार श्री कमलनाथ यहां मंत्रालय में नाबार्ड की ओर से आयोजित राज्य ऋण संगोष्ठी 2020-21 में स्टेट फोकस पेपर का विमोचन कर रहे थे। नाबार्ड ने प्रदेश के लिये एक लाख 98 हजार 786 करोड़ रूपये के ऋण का आकलन किया है। यह पिछले साल से 13 प्रतिशत ज्यादा है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि अब कृषि क्षेत्र में भी नई दृष्टि और नई सोच के साथ काम करने की आवश्यकता है। पूरा दृश्य बदल रहा है। पहले छोटे दानों जैसे कोदो-कुटकी, ज्वार-बाजरा पर ज्यादा ध्यान नहीं था। आज इन फसलों की प्राथमिकता है। पहले यह गरीबों की खाद्य सामग्री मानी जाती थी अब इनके पोषक तत्वों के कारण बढती मांग के चलते सर्वाधिक उपयोगी साबित हो रही हैं।
मुख्यमंत्री ने कहा कि नाबार्ड के पास वर्षों का संचित अनुभव और बौद्धिक क्षमता है। इसका उपयोग भविष्य में निर्मित होने वाले परिदृश्य में उपयोगी होगा। उन्होंने कहा कि नाबार्ड को न सिर्फ वर्तमान बल्कि 2024-25 की योजना भी अभी से तैयार करना पड़ेगी। उन्होंने कहा कि आज जो स्थितियाँ हैं, वे पाँच साल बाद बदल जाएगी। आज तय किए गए लक्ष्य आसानी से पूरे हो जाएंगे, लेकिन भविष्य की दृष्टि से नए लक्ष्यों की चुनौती को भी स्वीकार करना होगा।
श्री कमलनाथ ने कहा कि नाबार्ड ने मध्यप्रदेश और देश के कृषि अधोसंरचना निर्माण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हुए अभूतपूर्व योगदान दिया है। नाबार्ड ने जो ज्ञान अर्जित किया है उसका उपयोग भविष्य में अपनी सोच को विस्तार देने में करना होगा। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश के लिए जो प्लान बनाये है वे देश के लिए भी उपयोगी होंगे।
मुख्यमंत्री ने कहा कि सबसे बड़ी चुनौती युवाओं की बेरोजगारी है, क्योंकि वे शहरों और गांवों के बीच भटक रहे हैं। युवाओं को नई तकनीक और तकनीकी कौशल से जोड़ना होगा। उन्होंने कहा कि प्रदेश की कृषि को आधुनिक बनाना होगा।
प्रशांत
जारी वार्ता
More News
मध्यप्रदेश में कोरोना संक्रमितों की संख्या 131, अब तक आठ की मौत

मध्यप्रदेश में कोरोना संक्रमितों की संख्या 131, अब तक आठ की मौत

03 Apr 2020 | 8:59 PM

भोपाल, 03 अप्रैल (वार्ता) मध्यप्रदेश के मुरैना में आज कोरोना संक्रमित मरीज के 10 नए मामले आने के बाद अब राज्य में इनकी संख्या बढ़कर 131 पर पहुंच गयी, जिसमें सबसे अधिक मामले इंदौर में आए हैं, जहां इससे प्रभावितों का संख्या 89 हो गयी है। इसके साथ ही राज्य में कोरोना संक्रमित मरीजों में से अब तक आठ लोगों की मृत्यु हो चुकी है।

see more..
image