Monday, Sep 21 2020 | Time 14:49 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • कृषि संबंधी विधेयकों पर सहमति नहीं देने की मांग को लेकर राष्ट्रपति से मिलेगा विपक्ष
  • तालिबानी आतंकियों के साथ मुठभेड़, नौ सैनिकों की मौत
  • सेंसेक्स 740 अंक लुढ़का;निफ्टी 245 अंक फिसला
  • कौशिक गांगुली ने थिएटरों काे फिर से खुलवाने की प्रधानमंत्री से की गुजारिश
  • कृषि विधेयकों के विरोध में विपक्ष का संसद भवन परिसर में धरना
  • भिवंडी हादसा, मृतक संख्या 11 हुई , पांच लाख रुपये मुआवजे की घोषणा
  • संरा के 75वीं वर्षगांठ के उपलक्ष्य में उच्च स्तरीय बैठक
  • जोकोविच और श्वार्ट्जमैन में होगा खिताबी मुकाबला
  • जोकोविच और श्वार्ट्जमैन में होगा खिताबी मुकाबला
  • प्रधानमंत्री ने बिहार को दी 14260 करोड़ के एनएच और सेतु की सौगात
  • दरभंगा से आठ नवंबर से शुरू होगी उड़ान
  • ‘आतंक, अपराध और अवैध बम बनाने’ का पहले से ही सुरक्षित ठिकाना है बंगाल : धनखड़
  • पीएमटी घोटाले मामले में निजी चिकित्सा महाविद्यालयों के संचालक आरोपी
  • बारूद गोदाम में विस्फोट, दो प्रवासी श्रमिकों की मौत
राज्य » पंजाब / हरियाणा / हिमाचल


कारगिल जैसी घटना को रोकने के लिए मज़बूत ख़ुफिय़ा नैटवर्क समय की ज़रूरत

चंडीगढ़, 15 दिसंबर(वार्ता)रक्षा विशेषज्ञों का मानना है कि कारगिल जैसी किसी अन्य घटना को रोकने के लिए ख़ुफिय़ा नैटवर्क को अधिक मज़बूत करने की ज़रूरत है।
‘लैसंस लर्नट फ्रॉम द कारगिल वॅार एंड देयर इंपलीमैंटेशन’ विषय पर करवाए गए सत्र में हिस्सा लेते हुये रक्षा सचिव (अवकाश प्राप्त )शेखर दत्त ने आज यहां कहा कि हमें केंद्रीय और राज्य स्तर पर ख़ुफिय़ा और निगरानी प्रणाली को मज़बूत करने की ज़रूरत है।
लेफ्टिनेंट जनरल जे.एस.चीमा और एयर मार्शल निर्दोष त्यागी समेत सभी पैनलिस्टों ने कारगिल जैसी अचानक घटने वाली को घटनाओं से बचने के लिए अधिक से अधिक ख़ुफिय़ा संगठन बनाने और विकसित करने पर ज़ोर दिया।
विचार-विमर्श में हिस्सा लेते हुये दत्त ने कहा कि कारगिल ने भारतीय फ़ौज को अचंभे में डाल दिया था कि हमारी सीमा के अंदर घुसपैठिए कैसे आ सकते हैं।
उन्होंने कहा कि ऐसी घटनाओं को टालने के लिए हमें ख़ुफिय़ा तंत्र और निगरानी के सांझे रास्ते विकसित करने पड़ेंगे जिससे अधिक से अधिक तैयारी को यकीनी बनाने हेतु हमारे सुरक्षा बलों को कार्यवाही करने योग्य जानकारी मुहैया करवाई जा सके।
उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय सुरक्षा देश के लिए सबसे अधिक प्राथमिकता देने वाला और बुनियादी ढांचे की अपेक्षा कहीं ज़्यादा महत्वपूर्ण मसला है। इसलिए ख़ुफिय़ा प्रणाली को मज़बूत करने और इस मंतव्य के लिए सुरक्षा बलों के ऑपरेशन कमांडर को हर संदिग्ध गतिविधि से निपटने के लिए ज़रुरी साजो-समान की खरीद के लिए और ज्य़ादा बजट मंज़ूर करने की ज़रूरत है।
एयर मार्शल त्यागी ने कारगिल जंग के वायु सेना के हमले की दो वीडियों प्रदर्शित की जिनमें उन्होंने खुलासा किया कि वायु सेना इतनी ऊँचाई पर ऑपरेशन करने के लिए उचित रूप में शिक्षित और हथियारों से लैस नहीं थी और हमारे लड़ाकू जहाज़(जैटस) भी कारगिल जैसी स्थिति से निपटने के लिए पूरी तरह तैयार नहीं किये गए थे।
उन्होंने कहा कि कारगिल समीक्षा कमेटी ने बताया कि हालात का सही स्तर तक मूल्यांकन करने के लिए फ़ौज ने बहुत लंबा समय लगा दिया, फिर जाकर एहसास हुआ कि स्थिति कितनी गंभीर है और ऑपरेशन को बुरी तरह प्रभावित करती है और एलओसी को पार न करने की रोक के कारण काम और भी चुनौतीपूर्ण हो गया था। यदि एलओसी पार करने की पाबंदी न होती तो कारगिल की लड़ाई 15 से 20 दिन पहले ख़त्म होनी थी।
उन्होंने कहा कि कारगिल की लड़ाई ने दिखा दिया कि वायु ताकत को इस तरह की ऊँचाई पर प्रभावशाली ढंग से इस्तेमाल किया जा सकता है और यह भी पता लगा है कि फ़ौज के उचित प्रयोग और फ़ौज और वायु सेना के आपसी तालमेल से कम जानी नुकसान और ज़मीनी कार्यवाही को सफल बनाया जा सकता है।
शर्मा
वार्ता
More News
फेक न्यूज का सच जानने में मदद करने वाला सर्च इंजन लांच

फेक न्यूज का सच जानने में मदद करने वाला सर्च इंजन लांच

20 Sep 2020 | 9:00 PM

हिसार, 20 सितंबर (वार्ता) सोशल मीडिया समेत मीडिया में फेक न्यूज का सच जानने में मदद करने वाला एक सर्च इंजन लांच किया गया है।

see more..
भाटला सामाजिक प्रकरण के शिकायतकर्ता पर हमला, दो गिरफ्तार

भाटला सामाजिक प्रकरण के शिकायतकर्ता पर हमला, दो गिरफ्तार

20 Sep 2020 | 8:49 PM

हिसार, 20 सितंबर (वार्ता) हरियाणा में गांव भाटला में दलित समुदाय के सामाजिक बहिष्कार के मामले में शिकायतकर्ता तथा प्रमुख गवाह अजय व उसकी पत्नी पर कल रात गांव के दो ग्रामीणों ने मारपीट की जिसकी शिकायत मिलने पर पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार किया है।

see more..
image