Saturday, Jul 11 2020 | Time 14:02 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • 143 साल पुरानी सोन नहर प्रणाली ने सिखाई सिंचाई की नई तकनीक, दिलाई अकाल से मुक्ति
  • पार्सल विशेष ट्रेनों से आय 23 43 करोड़ रुपये
  • गुलदार के हमले में महिला की मौत
  • कोरोना संक्रमितों को आइटोलिजुमैब दवा देने पर डीसीजीआई की मंजूरी
  • देश में कठोर जनसंख्या नियंत्रण कानून की जरूरत: गिरिराज
  • दक्षिण कोरिया में कोरोना संक्रमितों की संख्या 13,373 हुई
  • जयपुर में बनी छिद्रपूण फेंफडे के रोग गाइडलाइन्स का अमेरिका और एशिया पैसिफिक चेस्ट सोसायटी द्वारा समर्थन
  • जर्मनी में कोरोना के 378 नए मामलों की पुष्टि, कुल संख्या 198,556 हुई
  • दिल्ली विश्वविद्यालय के दिल्ली सरकार के अधीन कॉलेजों की सभी परीक्षाएं रद्द: सिसोदिया
  • कोरोना के 2 82 लाख से अधिक नमूनों की जांच
  • स्मार्ट सिटी परियोजना को स्थानीय स्थापत्य शैली से जोड़ने की जरूरत: वेंकैया
  • देश में कुल 1,180 कोरोना टेस्ट लैब
  • रोहतास में वाहनों की टक्कर में एक की मौत, दो घायल
  • पुणे, पिंपड़ी तथा चिंचवड़ में 13 जुलाई से 10 दिन का लॉकडाउन
  • औरंगाबाद में कोराना संक्रमितों की संख्या 8000 के पार
राज्य » अन्य राज्य


कार्तिक पूर्णिमा पर पवित्र गंगा में लाखों लोगों लगायी डूबकी

हरिद्वार 12 नवंबर (वार्ता) उत्तराखंड की तीर्थ नगरी हरिद्वार में कार्तिक पूर्णिमा के अवसर पर मंगलवार को लाखों लोगों ने पवित्र गंगा में डूबकी लगायी।
कार्तिक पूर्णिमा के अवसर पर लाखों की संख्या में आये श्रद्धालुओ ने हरकी पौड़ी सहित अन्य घाटों पर सुबह चार बजे से पवित्र गंगा में डूबकी लगानी शुरु कर दी थी। ठंड के बावजूद श्रद्धालुओं के उत्साह में कोई कमी नहीं देखी गयी।
हरिद्वार प्रशासन ने इस अवसर पर आने वाले श्रद्धालुओं की सुरक्षा के मद्देनजर विशेष इंतजाम किये थे। मेला क्षेत्र को 9 जोन और 32 सेक्टर में बांटा गया और यहां जोनल एवं सेक्टर मजिस्ट्रेटों की नियुक्ति की गयी थी। हरिद्वार में कल रात से ही ट्रेफिक प्लान लागू कर दिया गया था। सोमवार रात से ही यहां भारी वाहनो का प्रवेश प्रतिबंधित कर दिया गया था। भारी संख्या में श्रद्धालुओं के हरिद्वार जाने के कारण हरिद्वार दिल्ली राष्ट्रीय राजमार्ग पर जाम की स्थिति बनी रही।
एसी मान्यता है कि इस दिन गंगा में स्नान करने से पापों से मुक्ति मिल जाती है और यहां डूबकी लगाने से श्रद्धालुओ की सभी मनोकामना पूर्ण होती है। इस दिन दान करने से पुण्य की प्राप्ति होती है। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार कार्तिक पूर्णिमा को त्रिपुरी पूर्णिमा के नाम से भी जाना जाता है। इस दिन ही भगवान भोलेनाथ ने त्रिपुरासुर नामक असुर का अंत किया था और वे त्रिपुरारी के रूप में पूजित हुए थे। इस दिन गंगा में स्नान करने और भगवान शंकर की पूजा अर्चना करने से अभिष्ठ फल की प्राप्ति होती है। कार्तिक पूर्णिमा पर चन्द्रमा को अर्घ देने से पुण्य की प्राप्ति होती है।
सं राम
वार्ता
image