Wednesday, Aug 21 2019 | Time 20:27 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • सीबीआई, ईडी की लुकाछिपी के बीच चिदम्बरम पहुंचे कांग्रेस मुख्यालय
  • भारत, एस्टोनिया ने व्यापार, तकनीकी सहयोग बढ़ाने पर चर्चा की
  • चिदम्बरम प्रेस कांफ्रेंस के लिए कांग्रेस दफ्तर पहुंचे।
  • उत्तराखंड में आपदा के बाद पांच जलविद्युत परियोजनाएं बंद
  • ‘ट्रंप ने मैक्रों से जी-7 शिखर सम्मेलन पर की चर्चा
  • मथुरा से पांच तस्कर गिरफ्तार 66 लाख की शराब बरामद
  • कंपनी विलय के संबंध में नियत तिथि और अधिग्रहण तिथि पर सर्कुलर
  • हैदराबाद को दूसरी राजधानी बनाने की रिपोर्टों का खंडन
  • सिंधू आसान जीत के साथ तीसरे दौर में
  • तेलंगाना में भारी बारिश का अनुमान
  • ईस्ट बंगाल को शूट कर केरल पहली बार डूरंड के फाइनल में
  • पंचतत्व में विलीन हुए डॉ जगन्नाथ मिश्रा
  • एटा पुलिस ने पकड़ी 30 लाख की शराब,पांच तस्कर किए गिरफ्तार
  • बेबी रानी मौर्य ने हेलीकॉप्टर दुर्घटना पर शोक व्यक्त किया
  • रविदास मंदिर मामले में पुनर्विचार याचिका दायर करे सरकार: हुड्डा
दुनिया


कुलभूषण जाधव मामले में आईसीजे बुधवार को सुनायेगा फैसला

कुलभूषण जाधव मामले में आईसीजे बुधवार को सुनायेगा फैसला

हेग 16 जुलाई (वार्ता) अंतरराष्ट्रीय न्यायालय (आईसीजे) जासूसी के आरोप में पाकिस्तानी जेल में बंद भारतीय नौसेना पूर्व अधिकारी कुलभूषण जाधव पर बुधवार को अपना बहुप्रतीक्षित फैसला सुनाएगा।

न्यायालय ने कहा कि वह अपराह्न तीन बजे (भारतीय समयानुसार 12:30 बजे) अपना फैसला सुनायेगा। आईसीजे की 11 न्यायाधीशों की पीठ ने गत 22 फरवरी को इस मामले में फैसला सुरक्षित रख लिया था।

श्री जाधव को मार्च 2016 को पाकिस्तानी सुरक्षाबलों ने बलूचिस्तान प्रांत में ईरान की सीमा से कुछ किलोमीटर दूर मशाकेल शहर से गिरफ्तार किया था। पाकिस्तान का कहना है कि श्री जाधव ईरान से पाकिस्तान में घुसे थे। पाकिस्तान ने उन पर हुसैन मुबारक पटेल नाम से पाकिस्तान में रहने और भारत के लिए जासूसी करने का आरोप लगाया गया था। पाकिस्तान की एक सैन्य अदालत ने अप्रैल 2017 में जासूसी और आतंकवाद के मामले में उन्हें फांसी की सजा सुनायी थी। पाकिस्तानी सेना ने दावा किया था कि श्री जाधव ने अपना जुर्म कबूल कर लिया है। पाकिस्तानी अदालत के इस फैसले को भारत ने मई 2017 में आईसीजे में चुनौती दी जिसके बाद जुलाई 2018 में श्री जाधव की सजा पर रोक लगा दी गयी।

भारत ने पाकिस्तान के सभी आरोपों को खारिज करते हुए कहा कि श्री जाधव को ईरान से अगवा किया गया था जहां वह नौसेना से सेवानिवृत्ति के बाद अपना कारोबार कर रहे थे। भारत ने श्री जाधव की गिरफ्तारी को वियना संधि का उल्लंघन बताते हुए पाकिस्तान से उन्हें भारत को सौंपने की मांग भी की थी लेकिन पाकिस्तान ने भारत के इस प्रस्ताव ठुकरा दिया था।

उल्लेखनीय है कि पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता मोहम्मद फैसल ने गत सप्ताह कहा था कि पाकिस्तान आईसीजे का फैसला स्वीकार करेगा।

यामिनी,संतोष

वार्ता

image