Friday, Nov 27 2020 | Time 08:53 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • राजकोट में कोविड अस्पताल में लगी भीषण आग में पांच लोगों की मौत
  • आज का इतिहास (प्रकाशनार्थ 28 नवंबर)
  • पेट्रोल - डीजल के दाम लगातार दूसरे दिन बढ़े
  • भारत की वनडे टीम में शामिल हुए नटराजन
  • रोहित पर फैसला 11 दिसम्बर को, इशांत टेस्ट सीरीज से बाहर
  • अर्मेनियाई प्रधानमंत्री ने पुतिन से दो बार फोन पर की बातचीत
  • यदि एलेक्ट्रॉल्स बाइडेन के लिए करेंगे मतदान तो छोड़ दूंगा व्हाइट हाउस : ट्रंप
  • इटली में कोरोना संक्रमितों की संख्या 15 लाख के पार पहुंची
  • कर्नाटक में कोरोना के सक्रिय मामलों में कमी
  • भारत की वनडे टीम में शामिल हुए नटराजन
  • रोहित पर फैसला 11 दिसम्बर को, इशांत टेस्ट सीरीज से बाहर
राज्य » उत्तर प्रदेश


कुशीनगर में आनलाईन कारोबार के जरिये लाखों की चोरी का पर्दाफाश

कुशीनगर 28 अक्टूबर (वाार्ता) उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में साइबर सेल और कुशीनगर पुलिस ने एक ऐसे गिरोह का खुलासा किया है, जो फ्लिपकार्ट जैसी नामी गिरानी ऑनलाइन कारोबार करने वाली कंपनी के वेंडर को लाखों का चूना लगा रहे थे। इसके तीन सदस्यों को गिरफ्तार किया गया है।
यह सभी कंपनी के सामानों की ऑनलाइन डिलीवरी से संबंधित थे। माल बुक कराने की जगह उसे दूसरों से मोटी कीमत वसूल कर बेच देते थे। वेंडर ने इससे संबंधित शिकायत पुलिस विभाग के उच्चाधिकारियों से की थी।
पुलिस सूत्रों ने बुधवार को बताया कि साईबर अपराध और अपराधियों के खिलाफ चलाए जा रहे अभियान के क्रम में मुखबिर की सूचना पर थाना पटहेरवा एवं साईबर सेल की संयुक्त टीम ने लबनिया चौराहे के पास छापा कर तीन लोगों को गिरफ्तार किया। यह तीनों फ्लिपकार्ट कम्पनी के वेण्डर को लाखों का चूना लगा चुके हैं। इनकी पहचान दिनेश प्रसाद , विवेक कुमार सिंह और विकास चौरसिया के रूप में हुई। उनके कब्जे से आईफोन सहित 11 मोबाईल फोन बरामद किया गया। पुलिस के अनुसार जालसाजों की योजना इन मोबाइलों को भी ग्रहकों की जगह दूसरों को बेचने की थी।
फ्लिप कार्ट कम्पनी पर ऑनलाइन सामान बुक करने के बाद कंपनी कुरियर के जरिए सामानों की होम डिलीवरी कराती है। यह तीनों भी सामानों की होम डिलीवरी से जुड़े थे। कुरियर आने के बाद ग्राहकों के घर तक पहुंचाने की बजाय यह तीनों अन्य व्यक्तियों से सौदा कर ऊंची कीतम वसूल कर बेच देते थे। पैसों को आपस में बांट लेते थे और फ्लिपकार्ड कम्पनी के पोर्टल पर उक्त सामानों की डिलीवरी संबन्धित ग्राहकों को ही प्रदर्शित करते थे। वेंडर ने इसकी शिकायत की थी कि माल कंपनी द्वारा भेजे जाने के बाद भी कुछ ग्राहकों ने माल नहीं मिलने की शिकायत की थी। जिस इलाके के ग्राहकों की शिकायत थी, वहीं के डिलीवरी से जुड़े लोगों पर संदेह होना स्वाभाविक था। तीनों के खिलाफ केस दर्ज कर जेल भेज दिया गया है।
सं प्रदीप
वार्ता
image