Wednesday, Sep 26 2018 | Time 09:02 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • पुलिस ने मुठभेड़ के बाद तीन बदमाशों को किया गिरफ्तार
  • आज का इतिहास (प्रकाशनार्थ 27 सितंबर)
  • फिनलैंड में परमाणु ऊर्जा संयंत्र बनाने के लिए शीघ्र मिलेगा लाइसेंस
  • चुनाव कराना राष्ट्रीय हित में नहीं: थेरेसा मे
  • तेलंगाना में रिश्वत लेने के मामले अधिकारी समेत दो गिरफ्तार
  • टाई रहा भारत और अफगानिस्तान का रोमांचक मुकाबला
  • टाई रहा भारत और अफगानिस्तान का रोमांचक मुकाबला
  • जम्मू निकाय चुनाव के लिए 815 उम्मीदवारों ने भरे पर्चे
  • पश्चिमी पाकिस्तान का शरणार्थी एक प्रतिनिधि मंडल जितेंद्र सिंह से मिला
विशेष Share

कृषि में रोजगार की अपार संभावनायें लेकिन युवा बेरुख

कृषि में रोजगार की अपार संभावनायें लेकिन युवा बेरुख

बेंगलुरु 19 मार्च (वार्ता) आर्गेनिक खेती और हेल्दी फूडिंग के बढ़ते प्रचलन के कारण देश के कृषि क्षेत्र में रोजगार की संभावनायें बढ़ी हैं लेकिन युवाओं की इसमें दिलचस्पी काफी घट गयी है।

ऑनलाइन जॉब सर्च प्लेटफॉर्म इंडिड डॉट कॉम के आज जारी आंकड़ों के मुताबिक गत साल जनवरी से दिसंबर के बीच कृषि संबंधी नौकरियों का सर्च प्रति सप्ताह औसतन 25 प्रतिशत घटा है। इस क्षेत्र के प्रति रुचि की कमी सबसे अधिक 21 से 25 साल के आयुवर्ग में आयी है। नौकरी की सुरक्षा, क्षेत्र में रोजगार संबंधी जागरुकता आैर उद्यमशीलता की कमी के कारण युवाओं का रुझान खेती में घटा है। हालांकि, 31 से 35 साल के आयुवर्ग ने इस क्षेत्र के प्रति काफी रूचि दिखायी है और संभवत: इसकी वजह यह है कि वे तब तक खेती के लिए जरूरी कौशल और जानकारी हासिल कर लेते हैं।

अध्ययन के अनुसार, भारतीय किसान खेती करने में तेजी से मशीन को अपना रहे हैं और सरकार ने भी बजट में इस क्षेत्र पर बौछार कर दी है जिससे इसके विकास की संभावना और बढ़ी है। इसके अलावा सरकार का महत्वाकांक्षी लक्ष्य 2022 तक किसानों की आयु दोगुनी करने का है और आर्थिक सर्वेक्षण मेंं भी इस साल कृषि क्षेत्र के 2.1 प्रतिशत की दर से बढ़ने का अनुमान जाहिर किया गया है।

इंडिड इंडिया के प्रबंध निदेशक शशि कुमार ने कहा कि भारत में करियर बनाने के लिए कृषि एक अच्छा क्षेत्र है, जिसे बाजार और सरकार सभी मिलकर बढ़ावा दे रहे हैं। लेकिन युवाओं की घटती रुचि को देखते हुए उनमें इसके प्रति जागरुकता लाने की जरूरत है। उन्हें इस बात के लिए प्राेत्साहित करने की जरूरत है कि वे कृषि और कृषि आधारित बाजार की ओर रुख करें।

अर्चना/शेखर

वार्ता

More News
मोबाइल ऐप डेवलपर की बढ़ती मांग

मोबाइल ऐप डेवलपर की बढ़ती मांग

26 Apr 2018 | 11:01 AM

नयी दिल्ली, 26 अप्रैल (वार्ता) मोबाइल के दिन प्रतिदिन बढ़ते इस्तेमाल से अब शायद ही कोई ऐसा कार्य क्षेत्र होगा जिसके लिए मोबाइल ऐप नहीं बनाया गया हो। देश-विदेश में हज़ारों एक्सपर्ट्स प्रतिदिन किसी न किसी सेवा अथवा प्रोडक्ट के लिए ऐप का विकास कर रहे हैं। विश्वभर में अरबों लोगों द्वारा मोबाइल का इस्तेमाल किया जा रहा है जिसकी वजह से विभिन्न कंपनियों द्वारा ऐप्स के माध्यम से उपभोक्ताओं और सेवा उपयोगकर्ताओं तक पहुंचना आसान हो गया है।

 Sharesee more..
सिन्ट्रोनेला की खेती से कम लागत में अच्छा मुनाफा

सिन्ट्रोनेला की खेती से कम लागत में अच्छा मुनाफा

18 Apr 2018 | 1:06 PM

नयी दिल्ली 18 अप्रैल (वार्ता) सौंदर्य प्रसाधनों , एंटी सेप्टिक क्रीम तथा सुगंधित रसायनों के निर्माण में काम आने वाली सिन्ट्रोनेला की खेती से कम लागत में अच्छा मुनाफा कमाया जा सकता है जिसे देखते हुये देश में इसकी खेती व्यावसायिक पैमाने पर की जाने लगी है ।

 Sharesee more..
रोगियों ही नहीं किसानों के लिये भी फायदेमंद है अनार

रोगियों ही नहीं किसानों के लिये भी फायदेमंद है अनार

04 Apr 2018 | 12:56 PM

नयी दिल्ली 04 अप्रैल (वार्ता) अपने लाल रंग के कारण देखने में आकर्षक और कई पाेषक तत्व से भरपूर अनार न केवल रोगों से लड़ने में सहायक है बल्कि इसकी खेती करने वाले किसानों के लिये भी यह बहुत फायदेमंद है।

 Sharesee more..
रेलवे भर्ती बोर्ड परीक्षा की कैसे करें तैयारी

रेलवे भर्ती बोर्ड परीक्षा की कैसे करें तैयारी

29 Mar 2018 | 10:59 AM

नयी दिल्ली, 29 मार्च (वार्ता) देश में सरकारी नौकरी पाने की तमन्ना रखने वाले युवाओं में आज भी रेलवे की जॉब्स का आकर्षण बरकरार है। विशेषतौर पर ऐसी स्थितियों में ,जब सरकारी नौकरियां समाप्त होती जा रही हैं और सरकार द्वारा लम्बे समय से खाली पड़े ज्यादातर पदों को या तो समाप्त घोषित कर दिया गया है अथवा उन्हें नहीं भरा जा रहा है ,रेलवे की जॉब्स पाने के महत्त्व को आसानी से समझा जा सकता है।

 Sharesee more..
कृषि में रोजगार की अपार संभावनायें लेकिन युवा बेरुख

कृषि में रोजगार की अपार संभावनायें लेकिन युवा बेरुख

19 Mar 2018 | 6:32 PM

बेंगलुरु 19 मार्च (वार्ता) आर्गेनिक खेती और हेल्दी फूडिंग के बढ़ते प्रचलन के कारण देश के कृषि क्षेत्र में रोजगार की संभावनायें बढ़ी हैं लेकिन युवाओं की इसमें दिलचस्पी काफी घट गयी है।

 Sharesee more..
image