Wednesday, Jul 8 2020 | Time 15:25 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • नये नियमों के साथ ओवर रेट बनाये रखना मुश्किल: अजहर
  • सरकारी अस्पतालों के चिकित्सकों को टेली-परामर्श देंगे एम्स के डॉक्टर
  • रूस में कोरोना के रिकॉर्ड 6,562 नए मामले, संक्रमितों की कुल संख्या सात लाख के पार
  • ओडिशा में कोरोना के 527 नये मामले, छह और लोगों की मौत
  • पहले टेस्ट के टॉस में विलम्ब
  • पहले टेस्ट के टॉस में विलम्ब
  • लगातार तीसरे दिन टूटा रुपया
  • छात्रों की चिंताओं का समाधान करने की करूंगा पहल : धनखड़
  • बीएस4 वाहन : नाराज सुप्रीम कोर्ट ने आदेश वापस लिया
  • तमिलनाडु में बिजली मंत्री और उनका बेटा कोराना संक्रमित
  • प्रयागराज में बढ़ते कोरोना मरीजो को देखते हुए बेली अस्पताल में उपचार शुरू
  • ओली का भविष्य तय करने वाली एनसीपी की बैठक शुक्रवार तक स्थगित
  • भारतीय क्रिकेट को संकट के भंवर से बाहर निकाल लाये थे गांगुली
  • भारतीय क्रिकेट को संकट के भंवर से बाहर निकाल लाये थे गांगुली
राज्य » मध्य प्रदेश / छत्तीसगढ़


किसान ने जनसुनवाई में की आत्महत्या की कोशिश

खरगोन, 19 नवंबर (वार्ता) मध्यप्रदेश के खरगोन जिला मुख्यालय स्थित कलेक्ट्रेट कार्यालय में जनसुनवाई में पहुंचे एक किसान ने आज अपने ऊपर मिट्टी का तेल उड़ेल कर आग लगा ली। उसे जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है, जहां उसका उपचार चल रहा है।
आधिकारिक जानकारी के अनुसार रामेश्वर कुशवाहा दाेपहर कलेक्ट्रेट कार्यालय पहुंचा। वहां जन सुनवाई के लिए उपस्थित अतिरिक्त कलेक्टर मिट्ठू लाल कनेल ने उसे बताया कि उनकी पिछली शिकायतों के सिलसिले में जिला कलेक्टर ने एसडीएम को जांच के लिए भेजा था और रिपोर्ट उन्हें सौंप दी है। इसके बाद श्री कनेल और वहां उपस्थित अन्य अधिकारी किसान को बाहर बैठ जाने के लिए कहा।
इसी दौरान किसान ने अपने साथ लाई केन से मिट्टी तेल शरीर पर उड़ेल लिया। जनसुनवाई में खलबली मच गई और किसान को पुलिस तथा उसके साथियों ने पकड़ कर लिया। अतिरिक्त कलेक्टर कनेल ने किसान को पुलिस हिरासत में भेजे जाने के निर्देश दिए। किसान फिलहाल जिला अस्पताल में भर्ती है।
जिला कलेक्टर गोपाल चंद्र डाड ने बताया कि वर्ष 1992 से निर्मित उक्त तालाब के जलभराव की समस्या को लेकर एसडीएम को भेजकर जांच कराई गयी है। उन्होंने कहा कि जल सिंचाई के लिए बहुत महत्वपूर्ण है और तालाब को तोड़कर पानी बहाया नहीं जा सकता। उन्होंने कहा कि यह संभव है कि अधिक वर्षा के चलते कुछ खेतों में पानी भर गया हो। पानी सूखने पर जमीन का सीमांकन कराकर किसान को उचित मुआवजा प्रदान किया जाएगा।
सं बघेल
वार्ता
image