Sunday, Sep 20 2020 | Time 20:11 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • डिप्टी स्पीकर रणबीर गंगवा हुए कोरोना पॉजिटिव
  • सरकार ने आम सहमति से काम किया होता तो कोविड की इतनी बुरी स्थिति न होती : विपक्ष
  • छत्तीसगढ़ के दो और जिलो बलौदा बाजार एवं रायगढ़ में भी लाकडाउन की घोषणा
  • लखीमपुर खीरी में 69 और कोरोना पाॅजिटिव मिले, संख्या हुई 4015
  • कर्नाटक में कोरोना सक्रिय मामलों में गिरावट जारी
  • चोटिल इशांत दिल्ली के पहले मैच से बाहर
  • कोविड के संकट से निकलने की राह दिखाएं सांसद : बिरला
  • कोरोना से पंजाब में 56 लोगों की मौत
  • आरक्षण के लिए राशनकार्ड के डेटाबेस को आधार बनाने का निर्णय
  • भाजपा ने की झारखंड में भूख से मौत की न्यायिक जांच की मांग
  • एमएसपी की व्यवस्था रहेगी जारी, विपक्ष कर रहा झूठा प्रचार : भाजपा
  • रांची में वाहन से भारी मात्रा में शराब जब्त, तीन गिरफ्तार
  • महाराष्ट्र में 21,152 पुलिसकर्मी कोरोना संक्रमित
  • विपक्ष ने बिना चर्चा पास होने दिए जन विरोधी विधेयक: इल्तिजा
  • लखनऊ के पीजीआई इलाके से अनी बुलियन कंपनी के फरार तीन और ठग गिरफ्तार
फीचर्स


खुद के शहर ने ही भुला दिया फिराक

खुद के शहर ने ही भुला दिया फिराक

गोरखपुर, 27 अगस्त (वार्ता) “बहुत पहले से उन क़दमों की आहट जान लेते हैं, तुझे ऐ ज़िंदगी हम दूर से पहचान लेते हैं”। उर्दू साहित्य के क्षेत्र में गोरखपुर का नाम देश दुनिया में रोशन करने वाले अजीम शायर फिराक गोरखपुर को उनके ही शहर ने बिसरा दिया है।


       गोरखपुर-लखनऊ राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 28 पर रावत पाठशाला से होकर घंटाघर जाने वाली सड़क पर स्थित लक्ष्मी भवन में उम्दा शायर ने 28 अगस्त 1896 में जन्म लिया था। रावत पाठशाला में फिराक साहब ने शिक्षा आरम्भ की थी। लक्ष्मी भवन उनके जीते जी ही बिक गया था। फिराक के नाम पर इस शहर में न तो पार्क है और न ही भवन और न ही कोई शिक्षण संस्था। बस एक चौराहे पर उनकी प्रतिमा लगी हुयी है जिससे लगता है कि शहर में इस शायर का कोई रिश्ता था।

     साहित्यिक साधना के दम पर गाेरखपुर का नाम देश दुनिया में ऊंचा उठाने वाले फिराक ने एक बार कहा था कि ..

   हांसिले जिन्दगी तो कुछ यादे हैं ।

   याद रखना फिराक को यारों ।।

       फिराक साहब आईसीएस की नौकरी को छोडकर और गांधी जी से प्रभावित होने के बाद आजादी की लडायी में भाग लिया। उनके पिता ईश्वरीय प्रसाद वरिष्ठ अधिवक्ता थे और पंडित जवाहर लाल नेहरू उन्हें व्यक्तिगत रूप से जानते थे।

फिराक साहब अपनी उच्च शिक्षा हासिल करने के लिए इलाहाबाद भी गये जहां वह आनन्द भवन के सम्पर्क में आये। उन्होंने स्वतंत्रता आन्दोलन में हिस्सा लिया तो घर की आर्थिक स्थिति बिगडने लगी। पंडित नेहरू को उपकी स्थिति भांपने में देरी नहीं लगी। उन्होंने फिराक साहब को कांग्रेस कार्यालय का सचिव बना दिया।

        फिराक साहब उर्दू के प्रसिद्ध शायर तो थे ही और राजनीति में भी उनकी बहुत रूचि थी। वर्ष 1962 में उन्होंने सिब्बल लाल सक्सेना के किसान मजदूर पार्टी से बांसगाव लोकसभा का चुनाव लडा था जिससे उन्हें हार का मुंह देखना पडा था।

        फिराक साहब पंडित जवाहर लाल नेहरू और राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के सम्पर्क में आने के बाद जीवन के आरम्भिक काल में ही राजनीति और स्वतंत्रता आन्दोलन से जुड गये थे और 1923 से 1927 तक कांग्रेस के सचिव भी रहे लेकिन फिराक साहब को साहित्य की दुनिया में अपना नाम रोशन करना था इसीलिए साहित्य सृजन के क्रम को उन्होंने जारी रखा। वह पहले कानपुर फिर आगरा के एक महाविद्यानय में अंग्रेजी प्रवक्ता नियुक्त हुए और बाद में इलाहाबाद विश्वविद्यालय में अंग्रेजी के प्रवक्ता हो गये।

         अंग्रेजी भाषा पर उनका भरपूर ज्ञान भारतीय संस्कृति और संस्कृति साहित्य की अच्छी समझ . गीता के दर्शन और उर्दू भाषा के उनके लगाव ने फिराक को एक हिमालय बना दिया जहां विभिन्न दिशाओं से आने वाली धाराएं एक हो जाती है फिर फिराक सिर्फ गोरखपुर के ही नहीं बल्कि ग्लोबल हो जाते हैं।

        उन्होंने उर्दू गजल की एक नाजुक वक्त में नयी जिन्दगी दी जब लग रहा था कि नारेबाजी और खोखली शायरी गजल की प्रासांगिकता को समाप्त कर देगी लेकिन फिराक ने इस गजल में आम हिन्दुस्तानी का दर्द भर दिया तभी वह कह सके कि ....

कहां का दर्द भरा था तेरे फंसाने में

फिराक दौड गयी रूह सी जमाने में

शिव का विषपान तो सुना होगा

मैं भी ऐ दोस्त रात पी गया आंसू

इस दौर में जिन्दगी बसर की

बीमार की रात हो गयी।

फिराक साहब ने उर्दू साहित्य को उस जगह लाकर खडा कर दिया जहां दुनिया की दूसरे भाषाओं से वह काफी आगे नजर आता है। वह आवाज जिसमें एक जादू था खामोश हो गयी लेकिन फिराक ने जिस आवाज को मर मर कर पाला था

वह आवाज आज भी साहित्य की दुनिया में सुनायी दे रही है।

        मैने इस आवाज को मर मर कर पाला है फिराक

         आज जिसकी नर्म लौ है शमेय मेहरावें हैयात।

       फिराक साहब को साहित्य और शिक्षा के क्षेत्र में वर्ष 1970 में पद्मभूषण, गुल-ए-लगमा के लिए साहित्य अकादमी और ज्ञानपीठ एवं सोवियत लैंड नेहरू सहित कई पुरस्कारो से भी नवाजा गया था। फिराक साहब 1970 में साहित्य अकादमी के सदस्य भी नामित हुए थे।

       फिराक गोरखपुरी की साद में प्रगतिशील लेखक संघ की ओर से आयोजित आज यहां हवचार गोष्ठी में अतंराष्ट्रीय हिन्दी विश्वविद्यालय वर्धा के पूर्व कुलपति विभूति नारायण राय ने कहा कि फिराक गोरखपुरी हिन्दू-मुस्लिम संस्कृतियों के सेतु थे। गुलामी से लेकर आजादी तक उन्होंने अपनी लेखनी से गंगा-जमुनी तहलीब को जो विरासत सौंपी उस पर देशवासियों को नाज है। दीन दयाल उपाध्याय गोरखपुर विश्वविद्यालय के हिन्दी विभाग के विभागाध्यक्ष अनिल राय ने कहा कि फिराक ने अपने समय में जो भी लिखा उसमें उस समय की विसंगतियों के खिलाफ प्रतिरोध दिखता है।

       उन्होंने कहा कि आज के दौर में लेखकों के सामने विसंगतियों का संकट है जिससे लडना उनका दायित्व है। उन्होंने कहा कि फिराक की रचनायें इस लडायी में लेखकों का मार्गदर्शन कर सकती है।

उदय प्रदीप

वार्ता

More News
‘कोरोना’ के डर ने प्रकृति को दिया संवरने का मौका

‘कोरोना’ के डर ने प्रकृति को दिया संवरने का मौका

22 Apr 2020 | 12:01 AM

लखनऊ 21 अप्रैल (वार्ता) मानव जीवन के इन दिनों दहशत का पर्याय बने नोवल कोरोना वायरस के खतरे से निपटने के लिये पूरी दुनिया एकजुट होकर उपाय खोज रही है वहीं लाकडाउन के इस मौके का फायदा उठाते हुये प्रकृति भी अपने बिगड़े स्वरूप को संवारने में व्यस्त है।

see more..
लाकडाउन के दौरान दिनोदिन निर्मल हो रही है श्यामल यमुना

लाकडाउन के दौरान दिनोदिन निर्मल हो रही है श्यामल यमुना

12 Apr 2020 | 2:11 PM

मथुरा, 12 अप्रैल (वार्ता) पतित पावनी श्याम वर्ण यमुना की निर्मलता को वापस लाने के लिए जो काम न्यायपालिका, सरकार और स्वयंसेवी संस्थायें न कर सकी, उस काज को दुनिया के लिये काल बन कर विचरण कर रहे अनचाहे सूक्ष्म विषाणु ‘कोरोना’ के डर ने कर दिखाया है।

see more..
मुगलकालीन चित्रकला और रागमाला का बेजोड़ संगम है रजा लाइब्रेरी

मुगलकालीन चित्रकला और रागमाला का बेजोड़ संगम है रजा लाइब्रेरी

01 Apr 2020 | 4:46 PM

रामपुर 01 अप्रैल (वार्ता) सदियों तक नवाबी सभ्यता के केन्द्र रहे उत्तर प्रदेश के रामपुर में स्थित रजा लाइब्रेरी में संग्रहित पांडुलिपियां मुगलकालीन चित्रकला की अनूठी दास्तां बयां कर रही है वहीं रागमाला पर आधारित अलबम किसी का भी ध्यान बरबस अपनी ओर खींच लेता है।

see more..
हमीरपुर के 37 गावों के मिट्टी के टीलों की खुदायी पर लगायी रोक

हमीरपुर के 37 गावों के मिट्टी के टीलों की खुदायी पर लगायी रोक

21 Mar 2020 | 8:24 PM

हमीरपुर,21 माच्र (वार्ता) पुरातत्व विभाग ने उत्तर प्रदेश में हमीरपुर जिले के तीन ब्लाकों के 32 गांव में सर्वे करने के बाद दस हजार साल पुरानी सभ्यता के कई अवशेष मिलने के बाद 37 गांवों के मिट्टी के टीलाें को खोदने पर रोक लगाने के आदेश दिये है।

see more..
मुलायम के इटावा में आज भी शिद्दत से याद किये जाते हैं कांशीराम

मुलायम के इटावा में आज भी शिद्दत से याद किये जाते हैं कांशीराम

14 Mar 2020 | 11:34 AM

इटावा, 14 मार्च (वार्ता) दलितों की राजनीति की बदौलत देश के लोकप्रिय नेताओं में शुमार रहे बहुजन समाज पार्टी (बसपा) संस्थापक कांशीराम को आज भी समाजवादी पार्टी (सपा) संस्थापक मुलायम सिंह यादव के गृह जिले इटावा में पूरे आदर भाव के साथ याद किया जाता है।

see more..
image