Monday, Sep 21 2020 | Time 15:53 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • जम्मू के सरकारी स्कूलों से विद्यार्थी नदारद
  • हालेप और प्लिसकोवा में ताज के लिए होगी भिड़ंत
  • कृषि विधेेयक : कांग्रेस ने किया प्रदर्शन
  • कोरोना संक्रमितों को 30 मिनट में चिकित्सकीय सुविधा उपलब्ध कराएगा राज्य स्तरीय वॉर रुम-ड़ा शर्मा
  • नए कृषि सुधारों ने किसानों को ताकतवर गिरोहों से दिलाई आजादी : मोदी
  • यूएनजीए के लिए पुतिन का वीडियो संदेश पहले ही न्यूयॉर्क भेज दिया गया :क्रेमलिन
  • चेन्नई सर्राफा के भाव
  • मंडी और एमएसपी रहेगा, केवल कांग्रेस समेत विपक्षी दलों के झूठ की पोल खुलेगी: धनखड़
  • चीन ने समुद्री पर्यावरण पर निगरानी रखने के लिए नयी सेटेलाइट लॉन्च की
  • नई शिक्षा नीति कश्मीर के युवाओं का भविष्य निर्माण करेगी:डॉ निशंक
  • एमवे इंडिया ने मनाया राष्ट्रीय पोषण सप्ताह
  • देश में तीस करोड़ टन खाद्यान्न उत्पादन का लक्ष्य
  • अहमदाबाद में रेलवे सुरक्षा बल के ‘उत्थान दिवस’ पर रक्तदान शिविरों का आयोजन
राज्य » पंजाब / हरियाणा / हिमाचल


गीता के उपदेशों से जीवन बन सकता है आदर्श : रणजीत सिंह

गीता के उपदेशों से जीवन बन सकता है आदर्श : रणजीत सिंह

सिरसा,08 दिसंबर (वार्ता) हरियाणा के बिजली, जेल एवं ऊर्जा मंत्री चौधरी रणजीत सिंह ने कहा है कि हम अपने जीवन में श्रीमद भगवत गीता के उपदेशों को अपनाकर जीवन को आदर्श बना सकते है। यह तभी संभव होगा जब गीता का उपदेश हर घर तक पहुंचेगा।

उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार का जिला स्तर पर गीता जयंती महोत्सव मनाने का कदम सराहनीय है। इससे लोगों को भूली हुई संस्कृति की जानकारी मिलेगी जो उन्हें नई राह दिखाएगी। श्री सिंह रविवार को फतेहाबाद के मनोहर मैमोरियल कालेज में आयोजित जिला स्तरीय अंतर्राष्ट्रीय गीता जयंती महोत्सव के प्रात:कालीन सत्र समारोह को बतौर मुख्यातिथि संबोधित कर रहे थे। उन्होंने सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत करने वाले स्कूली बच्चों को पुरस्कार देकर सम्मानित भी किया।

बिजली मंत्री ने कहा कि यदि किसी को गीता का महत्व समझना है तो एक बार कुरुक्षेत्र की भूमि का दर्शन करना चाहिये, तभी जाकर पता चलेगा कि हरियाणा की इस रणभूमि का महत्व क्या है। जहां श्रीकृष्ण ने लोगों गीता का उपदेश देकर धर्म और कर्म की राह बताई। आज विश्व के 15 दिनों में गीता जयंती महोत्सव बनाए जा रहे है जो हर भारतीय के लिए गर्व की बात है। यह सब हरियाणा सरकार के प्रयासों की बदौलत ही संभव हुआ है।

उन्होंने कहा कि सरकार के इस कदम से आज की युवा पीढ़ी को अपनी संस्कृति के बारे में जानकारी मिलेगी और वे संस्कारवान बनेंगे। अतिरिक्त उपायुक्त महावीर प्रसाद,जिला सूचना एवं जनसंपर्क अधिकारी आत्माराम व विनय बैनीवाल ने मुख्यातिथि को गीता भेंट की।

कार्यक्रम में प्रो. आरके शर्मा ने गीता महत्व बारे विचार व्यक्त करते हुए कहा कि ऐसा राज नहीं होना चाहिए जिसकी नींव अपनों की लाशों पर हो। लेकिन धर्म और कर्म दो अलग-अलग रास्ते है जिसमें भावना का सम्मान जरूरी है। उन्होंने कहा कि भगवान श्रीकृष्ण ने हर कदम समाज को शिक्षा देकर नई राह दिखाने का काम किया है।

विद्वान पंडित राकेश शर्मा ने कहा कि गीता भगवान की वाणी है। इसके पाठ करने से लोक और परलोक दोनों सुधरते है। इसलिए गीता पाठ के लिए दूसरों को भी प्रेरित करना चाहिए। इससे जीवन आनंदमय बन जाता है। कार्यक्रम का शुभारंभ वैदिक प्रवक्ता सुदामा शास्त्री ने हवन यज्ञ करके किया।

सं शर्मा

वार्ता

image