Tuesday, Mar 2 2021 | Time 19:09 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • भारतीय महिला हॉकी टीम जर्मनी से लगातार तीसरे मैच में हारी
  • कांग्रेस विचारधारा छोड़, कर रही देशविरोधी ताकतों से गठजोड़ : भाजपा
  • वायदा बाजार में सोना महंगा-चांदी सस्ती
  • अश्विन बल्लेबाज को आउट करने की योजना बनाते हैं : लक्ष्मण
  • स्पेक्ट्रम नीलामी से मिले 77841 80 करोड़
  • दोहरे हत्याकांड का एक आरोपी गिरफ्तार
  • समस्तीपुर रेल मंडल में चलायी जायेंगी विशेष डेमू एक्सप्रेस गाड़ियां
  • मुकदमों की सुनवाई मुंबई से बाहर कराने सुप्रीम कोर्ट पहुंची कंगना
  • भारतीय महिला हॉकी टीम जर्मनी से लगातार तीसरे मैच में हारी
  • चुनिंदा खाद्य तेलों में घट-बढ़, दालों समेत गुड़-चीनी स्थिर
  • केन्द्रीय भंडार निगम को क्षमता बढ़ाने की जरुरत:पीयूष
  • इलेक्ट्रिक बसों की संख्या और बढ़ाई जाएगी : नीतीश
  • बिहार में शुरू हुआ इलेक्ट्रिक बसों का परिचालन, नीतीश ने किया शुभारंभ
भारत


ग्यारहवें दौर की बैठक रही बेनतीजा,अगली बैठक की तिथि तय नहीं

ग्यारहवें दौर की बैठक रही बेनतीजा,अगली बैठक की तिथि तय नहीं

नयी दिल्‍ली, 22 जनवरी (वार्ता) किसान संगठनों और सरकार के बीच शुक्रवार को हुई 11वें दौर की बैठक दोनों पक्षों के अपने-अपने रुख पर अड़े रहने के कारण बेनतीजा रही।

कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने बैठक के बाद कहा कि बातचीत का कोई नतीजा नहीं निकला क्योंकि किसान संगठन अपने-अपने रुख पर अड़े रहे। उन्होंने कहा कि सरकार की ओर से कई वैकल्पिक प्रस्ताव दिए जाने के बावजूद किसान संगठन कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग पर अड़े रहे। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार किसानों को लेकर प्रतिबद्ध है। कृषि सुधार कानून किसानों के अच्छे मुनाफे के पक्षधर हैं। सरकार किसानों की सभी शंकाओं के समाधान के लिए तैयार है।

उन्होंने कहा कि अब बैठक की कोई तिथि तय नहीं की गयी है, यदि किसान संगठन कृषि सुधार कानूनों को एक से डेढ़ वर्ष तक स्थगित रखने के प्रस्ताव पर विचार करने के बाद किसी फैसले पर पहुंचते हैं तो सरकार बातचीत करने को तैयार है।

श्री तोमर ने कहा कि कुछ लोग किसान आंदोलन का राजनीतिक फायदा उठा रहे हैं। उन्होंने कहा कि हमने किसानों को सबसे बेहतर प्रस्ताव दे दिया है, लेकिन कुछ ताकतें चाहती हैं कि आंदोलन कभी खत्म ही न हो और इसका कोई बेहतर नतीजा न निकल सके।

उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में किसानों और गरीबों के उत्थान के लिए प्रतिबद्ध है और आगे भी इसी मंशा से काम करती रहेगी। पंजाब और कुछ अन्य राज्यों के किसान कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन कर रहे हैं। आंदोलन के दौरान लगातार ये कोशिशें हुईं कि जनता और किसानों के बीच भ्रम फैले।

कृषि मंत्री ने कहा कि केंद्र सरकार की कोशिश थी कि किसान संगठन सही दिशा में विचार करें, जिसके लिए 11वें दौर की बैठक की गई, लेकिन किसान संगठन कानून वापस लेने की मांग पर अड़े रहे। सरकार ने उन्हें कई प्रस्ताव दिए लेकिन जब आंदोलन की पवित्रता नष्ट हो जाती है तो निर्णय नहीं होता।

टीम.श्रवण

वार्ता

More News
सुगम्य भारत ऐप का लोकार्पण

सुगम्य भारत ऐप का लोकार्पण

02 Mar 2021 | 7:02 PM

नयी दिल्ली, 02 मार्च (वार्ता) केंद्रीय सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री थावर चंद गहलोत मंगलवार को ‘सुगम्य भारत ऐप’ तथा एक पुस्तिका ‘एक्सेस-द फोटो डायजेस्ट’ का लोकार्पण किया।

see more..
भाजपा सांसद नंदकुमार चौहान का निधन

भाजपा सांसद नंदकुमार चौहान का निधन

02 Mar 2021 | 6:55 PM

मध्य प्रदेश के खंडवा से भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के सांसद नंदकुमार सिंह चौहान का मंगलवार सुबह यहां के समीप गुरुग्राम स्थित मेदांता अस्पताल में निधन हो गया।

see more..
फरवरी में निर्यात घटा

फरवरी में निर्यात घटा

02 Mar 2021 | 6:33 PM

नयी दिल्ली, 02 मार्च (वार्ता) फरवरी 2021 में भारतीय वस्तुओं का निर्यात 0.25 प्रतिशत घटकर 27 अरब 67 करोड़ डालर दर्ज किया गया है जबकि इससे पिछले वर्ष के इसी माह में यह आंकड़ा 27 अरब 74 करोड़ डालर रहा था।

see more..
image