Sunday, Aug 18 2019 | Time 21:28 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • अवनीश अवस्थी ने की गोरखपुर लिंक एक्सप्रेस-वे एवं कानून व्यवस्था की समीक्षा
  • तेलुगू टाइटन्स ने हरियाणा को 40-29 से दी मात
  • किसानों को शीघ्र मिले डीजल अनुदान का लाभ : नीतीश
  • सोशल मीडिया पर सर्वाधिक फॉलो किए जाने वाले क्रिकेटर बने विराट
  • उप्र में जेई एवं एईएस की रोकथाम में उल्लेखनीय सफलता मिली है:योगी
  • तीन तलाक निषेध कानून का विरोध तुष्टीकरण की राजनीति: शाह
  • सीटू श्रम कानूनों में बदलाव को बर्दाश्त नहीं करेगी : सुरेन्द्र मलिक
  • स्टोक्स का नाबाद शतक, ऑस्ट्रेलिया को 267 का लक्ष्य
  • रविदास मंदिर : विरोध प्रदर्शन कर राज्यपाल के नाम दिया ज्ञापन
  • मोजर बीयर से जुड़े छह ठिकानों पर सीबीआई के छापे
  • मस्तिष्काघात से स्मिथ लॉर्ड्स टेस्ट से बाहर, तीसरे टेस्ट में खेलना संदिग्ध
  • डिफेंडर कोथाजीत ने खेला 200वां अंतर्राष्टीय मैच
  • पाकिस्तान में विस्फोट में पांच मरे ,छह घायल
  • जेटली से एम्स में मुलाकात का सिलसिला रविवार को भी जारी
  • सूर्यकुण्ड धाम दर्शनीय एवं पर्यटन स्थल के रूप में होगा विकसित:योगी
राज्य » अन्य राज्य


चंद्रयान-2 का प्रक्षेपण सोमवार को

चंद्रयान-2 का प्रक्षेपण सोमवार को

बेंगलुरु 21 जुलाई (वार्ता) भारत के चंद्रमा पर दूसरे मिशन चंद्रयान-2 का प्रक्षेपण सोमवार को किया जाएगा।

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने रविवार को बताया कि चंद्रयान-2 का प्रक्षेपण 22 जुलाई को दोपहर बाद दो बजकर 43 मिनट पर किया जायेगा। इससे पहले 15 जुलाई को तड़के दो बजकर 51 मिनट पर इसे लांच किया जाना था लेकिन प्रक्षेपण यान में गड़बड़ी के कारण प्रक्षेपण से एक घंटे पहले उसे टालने का फैसला किया गया था। उस समय मिशन की करीब 19 घंटे की उलटी गिनती पूरी हो गयी थी।

चंद्रयान के प्रक्षेपण के लिए जीएसएलवी-एमके3 प्रक्षेपण यान का इस्तेमाल किया जा रहा है।

यह दुनिया का पहला मिशन है जिसमें लैंडर चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर उतरेगा। इस मिशन के मुख्य उद्देश्यों में चंद्रमा पर पानी की मात्रा का अनुमान लगाना, उसके जमीन, उसमें मौजूद खनिजों एवं रसायनों तथा उनके वितरण का अध्ययन करना और चंद्रमा के बाहरी वातावरण की ताप-भौतिकी गुणों का विश्लेषण है। उल्लेखनीय है चंद्रमा पर भारत के पहले चंद्र मिशन चंद्रयान-1 ने वहां पानी की मौजूदगी की पुष्टि की थी।

इस मिशन में चंद्रयान-2 के साथ कुल 13 स्वदेशी पे-लोड यान वैज्ञानिक उपकरण भेजे जा रहे हैं। इनमें तरह-तरह के कैमरा, स्पेक्ट्रोमीटर, रडार, प्रोब और सिस्मोमीटर शामिल हैं।

अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा का एक पैसिव पेलोड भी इस मिशन का हिस्सा है जिसका उद्देश्य पृथ्वी और चंद्रमा के बीच की सटीक दूरी का पता लगाना है।

यह मिशन इस मायने में खास है कि चंद्रयान चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव के पास उतरेगा और सॉफ्ट लैंडिंग करेगा। चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर अब तक दुनिया का कोई मिशन नहीं उतरा है।

चंद्रयान-2 के तीन हिस्से हैं। ऑर्बिटर चंद्रमा की सतह से 100 किलोमीटर की ऊँचाई वाली कक्षा में चक्कर लगायेगा। लैंडर ऑर्बिटर से अलग हो चंद्रमा की सतह पर उतरेगा। इसे विक्रम नाम दिया गया है। यह दो मिनट प्रति सेकेंड की गति से चंद्रमा की जमीन पर उतरेगा। प्रज्ञान नाम का रोवर लैंडर से अलग होकर 50 मीटर की दूरी तक चंद्रमा की सतह पर घूमकर तस्वीरें लेगा।

संजय आशा

वार्ता

More News
दून पहुंचा शहीद संदीप थापा का पार्थिव शरीर, नम आखों से दी अंतिम विदाई

दून पहुंचा शहीद संदीप थापा का पार्थिव शरीर, नम आखों से दी अंतिम विदाई

18 Aug 2019 | 8:36 PM

देहरादून 18 अगस्त (वार्ता) जम्मू-कश्मीर के नौशेरा सेक्टर में शहीद हुए देहरादून के लाल संदीप थापा का पार्थिव शरीर सेना के हेलीकॉप्टर से रविवार अपराह्न जौलीग्रांट एयरपोर्ट पर पहुंचा। खराब मौसम के कारण सेना के हेलीकॉप्टर को यहां पहुंचने में देरी हुई। शहीद की अंतिम यात्रा में बड़ी संख्या में लोग शामिल हुए और उन्हें नम आंखों से विदाई दी।

see more..
भाजपा की विचारधारा, कार्यक्रम लोगों तक पहुंचाये कार्यकर्ता: नड्डा

भाजपा की विचारधारा, कार्यक्रम लोगों तक पहुंचाये कार्यकर्ता: नड्डा

18 Aug 2019 | 8:36 PM

हैदराबाद, 18 अगस्त (वार्ता) भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के कार्यकारी अध्यक्ष जे. पी. नड्डा ने रविवार को यहां पार्टी के वरिष्ठ और नये दोनों नेताओं से पार्टी की विचारधारा एवं कार्यक्रमों को लोगों को समझाने का आग्रह किया।

see more..
image