Wednesday, Jan 29 2020 | Time 10:24 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • ब्राजील में बाढ़ से 52 लोगों की मौत
  • चीन में कोरोनावायरस से मरने वालों की संख्या हुई 132
  • जापान में भूकंप के तेज झटके
  • माली में हिंसा से दो लाख लोग विस्थापित : संरा प्रवक्ता
  • दुनियाभर में कोरोना वायरस के 4593 मामलों की पुष्टि
  • यरूशलेम में इजरायली बलों के साथ झड़पों में 12 फिलिस्तीनी घायल
  • इराक में सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन जारी
  • क्यूबा में भूकंप के तेज झटके महसूस किए गए
  • हमास ने अमेरिका के शांति समझौते को खारिज किया
  • जमैका में महसूस किए गए भूकंप के तेज झटके
  • कोरोना वायरस का तेल बाजार पर असर को लेकर सऊदी ने की चर्चा
  • सीएआर में सशस्त्र समूह के दो ग्रुप के बीच भिड़ंत में दर्जनों की मौत
  • चिली में महसूस किए गए भूकंप के झटके
  • उत्तरी सेना कमांडर रनबीर ने मुर्मु से की मुलाकात
पार्लियामेंट


चुनाव खर्च को व्यावहारिक बनाने की मांग उठी राज्यसभा में

नयी दिल्ली 06 दिसंबर (वार्ता) लोकसभा और विधानसभा चुनावों में व्यय की सीमा को व्यावहारिक बनाने की मांग करते हुए शुक्रवार को राज्यसभा में कहा गया कि मतदान बैलेट पेेपर से कराया जाना चाहिए।
भारतीय जनता पार्टी के राकेश सिन्हा ने गैर सरकारी विधेयक ‘ लोक प्रतिनिधित्व (संशोधन) विधेयक 2019’ की चर्चा में हिस्सा लेते हुए कहा कि चुनावों की व्यय सीमा हटाने से लोकतंत्र धनी लोगों का बंधक बन जाएगा।
यह विधेयक कांग्रेस के प्रो. एम वी राजीव गौडा ने 26 जुलाई को सदन में पेश किया था। इस विधेयक में लोकसभा और विधानसभा चुनावों में उम्मीदवार के व्यय की सीमा समाप्त करने का प्रस्ताव किया गया है।
श्री सिन्हा ने कहा कि जनतंत्र के लिए मतों की गिनती महत्वपूर्ण नहीं है बल्कि उसका मकसद समाज के अंतिम सिरे तक शासन के लाभ पहुंचाना है। उन्होेंने कहा कि उचित प्रतिनिधित्व के उम्मीदवारों का चयन महत्वपूर्ण है। उम्मीदवार कौन हो, कैसा हो , यह महत्व रखता है। भाजपा नेता ने पंडित दीन दयाल उपाध्याय, जयप्रकाश नारायण, राम मनोहर लोहिया तथा मीनू मसानी का उल्लेख करते हुए कहा कि लोकतंत्र में मूल्यों की स्थापना की जानी चाहिए। इसके बिना वास्तविक लोकतंत्र नहीं आ सकता।
कांग्रेस के पी एल पुनिया ने चुनावी व्यय की सीमा समाप्त करने का विरोध करते हुए कहा कि यह सीमा व्यावहारिक होनी चाहिए। फिलहाल लोकसभा चुनावों में उम्मीदवार के लिए व्यय की सीमा 70 लाख रुपए अौर विधानसभा के उम्मीदवार के लिए व्यय की सीमा 28 लाख से लेकर 40 लाख रुपए है।
सत्या
जारी वार्ता
More News
नागरिकता विधेयक के लिए याद किया जायेगा शीतकालीन सत्र

नागरिकता विधेयक के लिए याद किया जायेगा शीतकालीन सत्र

13 Dec 2019 | 6:27 PM

नयी दिल्ली, 13 दिसंबर (वार्ता) तीन पड़ोसी देशाें पाकिस्तान,बंगलादेश और अफगानिस्तान में धार्मिक उत्पीड़न के कारण यहां आने वाले गैर मुस्लिम समुदाय के लोगों को नागरिकता देने संबंधी विवादास्पद विधेयक, विशेष सुरक्षा समूह (एसपीजी) और किन्नर अधिकार संरक्षण विधेयक समेत 15 विधेयकों को पारित करने के साथ संसद का शीतकालीन सत्र शुक्रवार को संपन्न हो गया।

see more..
शीतकालीन सत्र में लोकसभा का काम 115 फीसदी बढ़ा : बिरला

शीतकालीन सत्र में लोकसभा का काम 115 फीसदी बढ़ा : बिरला

13 Dec 2019 | 2:14 PM

नयी दिल्ली, 13 दिसम्बर (वार्ता) लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने कहा है कि सदन के शीतकालीन सत्र में कुल 20 बैठकों में नागरिकता संशोधन विधेयक 2019 तथा विशेष सुरक्षा समूह (एसपीजी) सहित कुल 14 विधेयक पारित कराए गये और सदन के कामकाज में 115 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है।

see more..
राज्य सभा की कार्यवाही अनिश्चितकाल के लिए स्थगित

राज्य सभा की कार्यवाही अनिश्चितकाल के लिए स्थगित

13 Dec 2019 | 1:50 PM

नयी दिल्ली, 13 दिसंबर(वार्ता) विवादों में घिरे नागरिकता (संशोधन) विधेयक, विशेष सुरक्षा समूह (एसपीजी) और किन्नर अधिकार संरक्षण विधेयक समेत 15 विधेयकों को पारित करने के साथ ही राज्य सभा का दो सौ पचासवां सत्र शुक्रवार को अनिश्चित काल के स्थगित कर दिया गया।

see more..
image