Sunday, Sep 20 2020 | Time 12:54 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • सुपौल में 1200 बोतल नेपाली शराब बरामद
  • कौशांबी में तीन किशोरियों के गंगा में डूबने की आशंका
  • किसानों को पूंजीपतियों का ‘गुलाम बना’ रहे हैं मोदी:राहुल
  • अनुबंध कृषि से कारपोरेट घरानों का जमीन पर कब्जा होगा :कांग्रेस
  • अफगानिस्तान में मुठभेड़, 17 तालिबान आतंकवादी ढेर
  • अवैध गांजे के साथ युवक गिरफ्तार
  • बलरामपुर में जेल में बंद सपा के पूर्व विघायक पर दो और मुकदमा
  • निफ्टी में साप्ताहिक बढ़त, सेंसेक्स में मामूली गिरावट
  • मध्य प्रदेश एक लाख से अधिक कोरोना संक्रमितों वाला 16वां राज्य बना
  • भुज-दादर के बीच चलेगी स्पेशल ट्रेन
  • पेमा खांडू की जांच रिपोर्ट नेगेटिव
  • कृषि सुधार से किसानों के जीवन में क्रांतिकारी बदलाव आयेगा :तोमर
  • चीन में कोरोना संक्रमण के 10 नये मामले
  • किसानों से जुड़े विधयेक को पारित होने से रोकने में गैर-भाजपा दल एक हो : केजरीवाल
  • एक दिन में 12 लाख से अधिक नमूनों का रिकार्ड परीक्षण
पार्लियामेंट


चुनाव खर्च को व्यावहारिक बनाने की मांग उठी राज्यसभा में

नयी दिल्ली 06 दिसंबर (वार्ता) लोकसभा और विधानसभा चुनावों में व्यय की सीमा को व्यावहारिक बनाने की मांग करते हुए शुक्रवार को राज्यसभा में कहा गया कि मतदान बैलेट पेेपर से कराया जाना चाहिए।
भारतीय जनता पार्टी के राकेश सिन्हा ने गैर सरकारी विधेयक ‘ लोक प्रतिनिधित्व (संशोधन) विधेयक 2019’ की चर्चा में हिस्सा लेते हुए कहा कि चुनावों की व्यय सीमा हटाने से लोकतंत्र धनी लोगों का बंधक बन जाएगा।
यह विधेयक कांग्रेस के प्रो. एम वी राजीव गौडा ने 26 जुलाई को सदन में पेश किया था। इस विधेयक में लोकसभा और विधानसभा चुनावों में उम्मीदवार के व्यय की सीमा समाप्त करने का प्रस्ताव किया गया है।
श्री सिन्हा ने कहा कि जनतंत्र के लिए मतों की गिनती महत्वपूर्ण नहीं है बल्कि उसका मकसद समाज के अंतिम सिरे तक शासन के लाभ पहुंचाना है। उन्होेंने कहा कि उचित प्रतिनिधित्व के उम्मीदवारों का चयन महत्वपूर्ण है। उम्मीदवार कौन हो, कैसा हो , यह महत्व रखता है। भाजपा नेता ने पंडित दीन दयाल उपाध्याय, जयप्रकाश नारायण, राम मनोहर लोहिया तथा मीनू मसानी का उल्लेख करते हुए कहा कि लोकतंत्र में मूल्यों की स्थापना की जानी चाहिए। इसके बिना वास्तविक लोकतंत्र नहीं आ सकता।
कांग्रेस के पी एल पुनिया ने चुनावी व्यय की सीमा समाप्त करने का विरोध करते हुए कहा कि यह सीमा व्यावहारिक होनी चाहिए। फिलहाल लोकसभा चुनावों में उम्मीदवार के लिए व्यय की सीमा 70 लाख रुपए अौर विधानसभा के उम्मीदवार के लिए व्यय की सीमा 28 लाख से लेकर 40 लाख रुपए है।
सत्या
जारी वार्ता
More News
कृषि सुधार से किसानों के जीवन में क्रांतिकारी बदलाव आयेगा :तोमर

कृषि सुधार से किसानों के जीवन में क्रांतिकारी बदलाव आयेगा :तोमर

20 Sep 2020 | 12:30 PM

नयी दिल्ली 20 सितम्बर (वार्ता) कृषि मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने रविवार को कहा कि सरकार किसानों के जीवन में क्रांतिकारी बदलाव लाना चाहती है और उन्हें फसलों की बुआई के समय ही उसकी उचित कीमत का आश्वासन दिलाने का प्रयास कर रही है ।

see more..
देवगौड़ा ने राज्यसभा की सदस्यता की शपथ ली

देवगौड़ा ने राज्यसभा की सदस्यता की शपथ ली

20 Sep 2020 | 11:28 AM

नयी दिल्ली 20 सितम्बर (वार्ता) पूर्व प्रधानमंत्री और जनता दल (एस) के वरिष्ठ नेता एच डी देवगौड़ा ने रविवार को राज्यसभा की सदस्यता की शपथ ली ।

see more..
अनुराग के आरोपों पर बरसी कांग्रेस, निर्मला ने किया राज्य मंत्री का बचाव

अनुराग के आरोपों पर बरसी कांग्रेस, निर्मला ने किया राज्य मंत्री का बचाव

19 Sep 2020 | 11:18 PM

नयी दिल्ली, 19 सितंबर (वार्ता) वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर द्वारा गांधी-नेहरू परिवार के नाम पर बनाये गये न्यासों और फंडों के लेकर उठाये गये सवालों पर कांग्रेस ने आज लोकसभा में कड़ी आपत्ति जताई जबकि वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने श्री ठाकुर का बचाव करते हुये कहा कि यदि कांग्रेस के नेता उनके सवालों का जवाब नहीं देते तो पार्टी को सरकार से प्रश्न पूछने का कोई अधिकार नहीं है।

see more..
अनुप्रिया पटेल ने मनरेगा मजदूरों का दैनिक वेतन और वार्षिक कार्य दिवस बढ़ाने की मांग

अनुप्रिया पटेल ने मनरेगा मजदूरों का दैनिक वेतन और वार्षिक कार्य दिवस बढ़ाने की मांग

19 Sep 2020 | 10:54 PM

नयी दिल्ली, 19 सितंबर (वार्ता) पूर्व केंद्रीय मंत्री एवं अपना दल एस की राष्ट्रीय अध्यक्ष और सांसद श्रीमती अनुप्रिया पटेल ने शनिवार को लोकसभा में सरकार से मनरेगा मजदूरों की दैनिक आय और कार्य दिवस बढ़ाने की मांग की।

see more..
कंपनी कानून में संशोधन संबंधी विधेयक लोकसभा में पारित

कंपनी कानून में संशोधन संबंधी विधेयक लोकसभा में पारित

19 Sep 2020 | 10:44 PM

नयी दिल्ली 19 सितंबर (वार्ता) कंपनी कानून में संशोधन कर तकनीकी और अन्य छोटी गलतियों को फौजदारी अपराध की श्रेणी से हटाकर दीवानी अपराध की श्रेणी में डालने, छोटी कंपनियों पर जुर्माना कम करने और उनके लिए कारोबार आसान बनाने संबंधी विधेयक आज लोकसभा में ध्वनिमत से पारित हो गया।

see more..
image