Wednesday, Sep 18 2019 | Time 20:57 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • बैंस की अग्रिम जमानत अर्जी खारिज
  • ई-सिगरेट पर प्रतिबंध से स्वस्थ जीवन को बढ़ावा मिलेगा: हर्षवर्धन
  • बिहार भाजपा के नवनियुक्त अध्यक्ष संजय जायसवाल का पटना में भव्य स्वागत
  • बाबा जगन्नाथ सुरती वाले डेरे के महंत की हत्या, खेत से मिला शव
  • शिवानंद तिवारी के खिलाफ मानहानि मामले में संज्ञान
  • हत्या मामले में चाय दुकानदार को आजीवन कारावास
  • नाबालिग के साथ अप्राकृतिक यौनाचार एवं हत्या के मामले में दोषी को उम्रकैद
  • पंचायत चुनावों में आरक्षण देने की जनहित याचिका खारिज, सरकार को राहत
  • मुजफ्फरनगर में 12 तस्कर गिरफ्तार,एक करोड़ से अधिक की शराब आदि बरामद
  • सड़क हादसे में युवा किसान की मौत, भाई गम्भीर रूप से घायल
  • मोदी के विमान को अपने हवाई क्षेत्र से नहीं जाने देगा पाकिस्तान: कुरेशी
  • ऑस्कर में भारत की आधिकारिक प्रविष्टि होगा ‘मोती बाग’
  • जालौन के कालपी में यमुना का कहर, कई गांव बाढ़ की चपेट में
  • जल संग्रहालय पर अंतरराष्‍ट्रीय कार्यशाला
राज्य » उत्तर प्रदेश


चंबल में जलचरों के लिये काल बनी बाढ़

चंबल में जलचरों के लिये काल बनी बाढ़

इटावा , 19 अगस्त (वार्ता) उत्तर प्रदेश में रूक रूक कर हो रही बारिश के बीच राजस्थान में कोटा बैराज से छोड़े जा रहे पानी से उफनायी चंबल नदी में दुर्लभ प्रजाति के जलीय जीवों के अस्तित्व पर खतरा मंडराने लगा है।


     कोटा बैराज से लगातार छोडे जा रहे जल से चंबल नदी मे पाये जाने वाले दुर्लभ प्रजाति के जलचरो की मौतो की ना केवल शंका जताई जा रही है बल्कि इस बात को दावे के साथ पेश किया जा रहा है कि चंबल नदी मे घडियाल,मगरमच्छ और कछुए के सत्तर फीसदी तक बच्चो की मौत हो चुकी होगी ।

     इटावा में चंबल सेंचुरी के जिला वनाधिकारी डा आंनद कुमार ने कहा कि बारिश के समय डैम से छोड़े जाने वाला पानी जमा किया हुआ गंदा होता है जिसमें जैविक आक्सीजन (बीओडी) की मात्रा बेहद कम होती है जो जलचरों के जीवन के लिये खतरे का सबब बनती है। ऐसी संभावनाए इस दफा भी जताई जा रही है चंबल की बाढ के दौरान जलचरो को खासा नुकसान हुआ होगा लेकिन अभी प्रमाणिक तौर पर कुछ भी स्पष्ट नही किया जा सकता है ।

     राजस्थान,मध्यप्रदेश और उत्तर प्रदेश मे प्रवाहित चंबल नदी यहां खतरे के निशाने को पार कर चुकी है जिसके चलते तटीय इलाको में बसी ग्रामीण आबादी के लिये खासी मुसीबत खडी हुई है । चंबल नदी को सेंचुरी को दर्जा मिला हुआ है और चंबल नदी मे दुर्लभ प्रजाति के कई सैकडा जलचर है जिनके नष्ट होने की आशंका जताई जा रही है।

देहरादून स्थित भारतीय वन्य जीव संस्थान की नमामी गंगे परियोजना के संरक्षण अधिकारी डा.राजीव चौहान बताते है कि जब कभी भी चंबल जैसी नदियो मे डैम का पानी छोडा जाता है । चंबल मे प्रजनन के बाद पैदा हुए घडियाल, मगरमच्छ और कछुए के बच्चे गंदे पानी की भेंट चढ जाते है जिनका प्रतिशत एक अनुमान के अनुसार करीब सत्तर फीसदी के आसपास होता है।

         चंबल नदी में घड़ियालों, मगर, डाल्फिन, कछुये के अलावा करीब दौ सौ से अधिक प्रजाति के वन्य जीवों का संरक्षण मिला हुआ है लेकिन सेंचुरी अधिकारी और कर्मी वन्य जीवों के संरक्षण के नाम पर खुद को मजबूत करने में लगे हुये हैं क्योंकि इन पर किसी का कोई दबाव नहीं है।

       ’चंबल नदी के पानी से तटीय क्षेत्र के खेत पूरी तरह से जलमग्न हैं। खतरे के निशान को करीब 4 मीटर पार कर चुकी चंबल नदी इंसानी तौर पर नुकसान पहुंचा पाने की दशा मे नही होती है क्यो कि इस नदी का प्रभाव रिहायशी इलाके के बजाय पूरी तरह से जंगल यानि बीहडी इलाके से हो करके होता है।

         पंचनदा के पास स्थित गांव अनेठा के सुरेंद्र सिंह बताते है कि चंबल नदी के व्यापक जल स्तर का सबसे बडा विहंगम सीन देखने को पंचनदा मे मिल रहा है। जहा पर चंबल के साथ साथ यमुना,क्वारी सिंधु और पहुज नदी का मिलन होता है। इस समय इस इलाके मे करीब 3 से 5 किलोमीटर के दायरे मे जल ही जल का समुद्र नजर आ रहा है। पंचनदा मे चंबल का जल वापस इटावा की ओर लौटने लगता है इस कारण यमुना नदी का जल स्तर बढना शुरू हो जाता है।

        इटावा जिले में यमुना, चंबल, क्वारी, सिंध, पहुज, पुरहा, अहनैया, सेंगर और सिरसा कुल नौ नदियां बहती हैं। जिले के आठ विकास खंडों मे बह रही इन नदियों के दोनों ओर करीब 60 गांव बसे हैं । बर्ड सेंचुरी घोषित होने के कारण फिलहाल चंबल नदी में जल यातायात और शिकार प्रतिबंधित है लेकिन यहां नाव के बजाय डोंगियां खूब चलती हैं। अन्य नदियों खासकर पचनद इलाके में लोग सैर सपाटा और पर्यटन के इरादे से रोजाना पहुंचते हैं।

 

More News
वाराणसी में बाढ़ से जनजीवन प्रभावित, हजारों लोग घर छोड़ने को मजबूर

वाराणसी में बाढ़ से जनजीवन प्रभावित, हजारों लोग घर छोड़ने को मजबूर

18 Sep 2019 | 8:31 PM

वाराणसी, 18 सितंबर (वार्ता) उत्तर प्रदेश के वाराणसी में बारिश और गंगा का जलस्तर खतरे का निशान पार करने से यहां के कई इलाकों में जनजीवन अस्त व्यस्त हो गया है।

see more..
मुजफ्फरनगर कचहेरी में 23 साल से धरना दे रहे विजय सिंह उठे

मुजफ्फरनगर कचहेरी में 23 साल से धरना दे रहे विजय सिंह उठे

18 Sep 2019 | 8:19 PM

मुजफ्फरनगर,18 सितम्बर (वार्ता) उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर में सरकारी भूमि पर अवैध कब्जे हटाने की मांग को लेकर 23 साल से धरने पर मास्टर विजय सिंह बुधवार को जिलाधिकारी (डीएम) सेल्वा कुमारी जे के आदेश वहां से फिलहाल उठ गये और दूसरे स्थान की तलाश कर रहे हैं।

see more..
पुनर्प्रतिष्ठा का युग शुरु हो चुका है,जनता को हो रहा है पूर्वाभास :योगी

पुनर्प्रतिष्ठा का युग शुरु हो चुका है,जनता को हो रहा है पूर्वाभास :योगी

18 Sep 2019 | 7:54 PM

गोरखपुर,18 सितम्बर (वार्ता) उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री एवं गोरक्षपीठाधीश्वर योगी आदित्यनाथ ने आज यहां कहा कि सांस्कृतिक भारत की पुनर्प्रतिष्ठा का युग प्रारम्भ हो चुका है और उसका पूर्वाभास देश की जनता को हो रहा है।

see more..
image