Thursday, Feb 20 2020 | Time 15:51 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • जमशेदपुर को हरा गोवा ने एएफसी चैंपियंस लीग के ग्रुप चरण में किया प्रवेश
  • निर्भया कांड के दोषी विनय ने गंभीर मानसिक रोगी बता कर दायर की याचिका
  • महिला विश्व कप में विजयी शुरुआत करने उतरेगा भारत
  • मोदी ने मिजोरम, अरुणाचल प्रदेश के स्‍थापना दिवस पर बधाई दी
  • बस हादसे में मारे गये यात्रियों की मौत पर मोदी ने जताया शोक
  • ट्राईसाईक्लाजोल और बूप्रोफेजिन पर रोक के फैसले को वापस ले सरकार: एसीएफआई
  • हर घर में शुद्ध पेेयजल पहुंचाया जायेगा
  • दिव्या ने जीता स्वर्ण, भारत की झोली में छठा पदक
  • जीव संस्कृति का इस्तेमाल कर होगा प्रवासी प्रजातियों का संरक्षण
  • टाईसाईक्लाजोल और बूप्रोफेजिन पर रोक के फैसले को वापस ले सरकार: एसीएफआई
  • ट्रैक्टर पलटने से चार की मौत दस घायल
  • चिन्मयानंद की जमानत पर रिहाई के खिलाफ पीड़िता पहुंची सुप्रीम कोर्ट, सोमवार को सुनवाई
  • पूर्व मंत्री खुर्शीद अहमद और विधायक उदय लाल को विस में श्रद्धांजलि
  • कांग्रेस ने बागी विधायकों को फिर जनादेश प्राप्त करने की दी चुनौती
  • फसल बीमा प्रीमियम कटौती किसान के पेट पर लात : कांग्रेस
राज्य » उत्तर प्रदेश


चंबल में जलचरों के लिये काल बनी बाढ़

चंबल में जलचरों के लिये काल बनी बाढ़

इटावा , 19 अगस्त (वार्ता) उत्तर प्रदेश में रूक रूक कर हो रही बारिश के बीच राजस्थान में कोटा बैराज से छोड़े जा रहे पानी से उफनायी चंबल नदी में दुर्लभ प्रजाति के जलीय जीवों के अस्तित्व पर खतरा मंडराने लगा है।


     कोटा बैराज से लगातार छोडे जा रहे जल से चंबल नदी मे पाये जाने वाले दुर्लभ प्रजाति के जलचरो की मौतो की ना केवल शंका जताई जा रही है बल्कि इस बात को दावे के साथ पेश किया जा रहा है कि चंबल नदी मे घडियाल,मगरमच्छ और कछुए के सत्तर फीसदी तक बच्चो की मौत हो चुकी होगी ।

     इटावा में चंबल सेंचुरी के जिला वनाधिकारी डा आंनद कुमार ने कहा कि बारिश के समय डैम से छोड़े जाने वाला पानी जमा किया हुआ गंदा होता है जिसमें जैविक आक्सीजन (बीओडी) की मात्रा बेहद कम होती है जो जलचरों के जीवन के लिये खतरे का सबब बनती है। ऐसी संभावनाए इस दफा भी जताई जा रही है चंबल की बाढ के दौरान जलचरो को खासा नुकसान हुआ होगा लेकिन अभी प्रमाणिक तौर पर कुछ भी स्पष्ट नही किया जा सकता है ।

     राजस्थान,मध्यप्रदेश और उत्तर प्रदेश मे प्रवाहित चंबल नदी यहां खतरे के निशाने को पार कर चुकी है जिसके चलते तटीय इलाको में बसी ग्रामीण आबादी के लिये खासी मुसीबत खडी हुई है । चंबल नदी को सेंचुरी को दर्जा मिला हुआ है और चंबल नदी मे दुर्लभ प्रजाति के कई सैकडा जलचर है जिनके नष्ट होने की आशंका जताई जा रही है।

देहरादून स्थित भारतीय वन्य जीव संस्थान की नमामी गंगे परियोजना के संरक्षण अधिकारी डा.राजीव चौहान बताते है कि जब कभी भी चंबल जैसी नदियो मे डैम का पानी छोडा जाता है । चंबल मे प्रजनन के बाद पैदा हुए घडियाल, मगरमच्छ और कछुए के बच्चे गंदे पानी की भेंट चढ जाते है जिनका प्रतिशत एक अनुमान के अनुसार करीब सत्तर फीसदी के आसपास होता है।

         चंबल नदी में घड़ियालों, मगर, डाल्फिन, कछुये के अलावा करीब दौ सौ से अधिक प्रजाति के वन्य जीवों का संरक्षण मिला हुआ है लेकिन सेंचुरी अधिकारी और कर्मी वन्य जीवों के संरक्षण के नाम पर खुद को मजबूत करने में लगे हुये हैं क्योंकि इन पर किसी का कोई दबाव नहीं है।

       ’चंबल नदी के पानी से तटीय क्षेत्र के खेत पूरी तरह से जलमग्न हैं। खतरे के निशान को करीब 4 मीटर पार कर चुकी चंबल नदी इंसानी तौर पर नुकसान पहुंचा पाने की दशा मे नही होती है क्यो कि इस नदी का प्रभाव रिहायशी इलाके के बजाय पूरी तरह से जंगल यानि बीहडी इलाके से हो करके होता है।

         पंचनदा के पास स्थित गांव अनेठा के सुरेंद्र सिंह बताते है कि चंबल नदी के व्यापक जल स्तर का सबसे बडा विहंगम सीन देखने को पंचनदा मे मिल रहा है। जहा पर चंबल के साथ साथ यमुना,क्वारी सिंधु और पहुज नदी का मिलन होता है। इस समय इस इलाके मे करीब 3 से 5 किलोमीटर के दायरे मे जल ही जल का समुद्र नजर आ रहा है। पंचनदा मे चंबल का जल वापस इटावा की ओर लौटने लगता है इस कारण यमुना नदी का जल स्तर बढना शुरू हो जाता है।

        इटावा जिले में यमुना, चंबल, क्वारी, सिंध, पहुज, पुरहा, अहनैया, सेंगर और सिरसा कुल नौ नदियां बहती हैं। जिले के आठ विकास खंडों मे बह रही इन नदियों के दोनों ओर करीब 60 गांव बसे हैं । बर्ड सेंचुरी घोषित होने के कारण फिलहाल चंबल नदी में जल यातायात और शिकार प्रतिबंधित है लेकिन यहां नाव के बजाय डोंगियां खूब चलती हैं। अन्य नदियों खासकर पचनद इलाके में लोग सैर सपाटा और पर्यटन के इरादे से रोजाना पहुंचते हैं।

 

More News
शिवालयों पर सुरक्षा एवं स्वच्छता की व्यवस्था की जाए सुनिश्चित: योगी

शिवालयों पर सुरक्षा एवं स्वच्छता की व्यवस्था की जाए सुनिश्चित: योगी

20 Feb 2020 | 3:23 PM

लखनऊ, 20 फरवरी(वार्ता) उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने महाशिवरात्रि के पर्व पर श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए शिवालयों पर सुरक्षा, स्वच्छता, चिकित्सा, प्रकाश आदि की व्यवस्था सुनिश्चित किए जाने के निर्देश दिए हैं।

see more..
image