Tuesday, Jan 22 2019 | Time 18:44 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • करतारपुर गलियारा जल्दी ही बन कर तैयार होगा: सिंह
  • फोटो कैप्शन-पहला सेट
  • अमूल कल से शुरू करेगा ऊंटनी के दूध की बिक्री, देश में पहली बार बाजार में आयेगा ऐसा बोतलबंद दूध
  • बागपत पुलिस ने एक तस्कर को किया गिरफ्तार, बरामद की 60 लाख की अफीम
  • ओसीडी के शिकार मरीजों की संख्या बढ़ी:डॉ मक्कड़
  • बाघमारा विधायक एक दिन के लिए सदन से निलंबित
  • जम्मू-कश्मीर में मोदी सरकार ने किया सबसे ज्यादा काम : गडकरी
  • बाघमारा विधायक सभा की कार्यवाही से निलंबित
  • व्यापारियों की मांगों की कांग्रेस ने हमेशा की अनदेखी : मलिक
  • असम रायफल्स के भूतपूर्व सैनिकों को मिलेगा ईसीएचएस का लाभ
  • बजरंग-अलीयेव मुक़ाबले से होगा लुधियाना चरण का समापन
  • करतारपुर गलियारा जल्दी ही बन कर तैयार होगा: सिंह
  • ऋषभ आईसीसी एमर्जिंग प्लेयर ऑफ द ईयर चुने गए
  • ऋषभ आईसीसी एमर्जिंग प्लेयर ऑफ द ईयर चुने गए
  • सहारनपुर में दो तस्कर गिरफ्तार, 22 लाख की शराब बरामद
फीचर्स Share

चंबल में बंदूक के बाद ‘सुरा’ को तिलांजलि देने का गुर्जरों ने दिया संदेश

चंबल में  बंदूक  के बाद ‘सुरा’ को तिलांजलि देने का गुर्जरों ने दिया संदेश

इटावा, 19 जुलाई (वार्ता) करीब डेढ दशक पहले तक डाकुओं की शरणस्थली के तौर पर कुख्यात रही चंबल घाटी में गुर्जर समुदाय से जुडे डाकुओं ने बंदूक तो पहले ही छोड दी थी और परिवार की भलाई के लिए उन्होने अब शराब को भी तिलांजलि दे प्रगतिशील जीवन की शुरूआत की है ।

गुर्जर विकास परिषद के उपाध्यक्ष रघुवीर सिंह गुर्जर बाबा बताते है कि राजस्थान धौलपुर के मौरौली गांव निवासी संत शिरोमणि 1008 श्रीहरिगिरि महाराज के उपदेश से समाज के लोगो ने खुद को शराब से दूर रखने की शपथ ली है । संत के समक्ष ली गई शपथ का व्यापक असर होता दिखाई दे रहा है। मध्यप्रदेश के भिंड,मुरैना और ग्वालियर जिलो में संत की शपथ को आत्मसात करना लोगो ने शुरू कर दिया है।

उन्होने बताया कि इलाके में गुर्जर जाति के 42 प्रभावी गांव है। सभी जगह संत की शपथ पर काम करने के लिए समाज के सैकडो की तादाद मे युवा सक्रिय बने हुए है। डेढ दशक पहले जब डाकुओ की फौज सक्रिय हुआ करती थी तब समाज के लोगो के सामने खासी मुश्किल हुआ करती थी। हर आदमी को पुलिस डाकू समझ कर काम करती थी जिससे समाज के लोगो के सामने परेशानी ही परेशानी हुआ करती थी लेकिन आज कोई संकट नही है। चकरनगर समेत जिले के 22 गांव के गुर्जर समाज के लोगों ने न सिर्फ शराब को तौबा कह दी बल्कि बारात में बैंड और आतिशबाजी पर भी पूरी तरह रोक लगा दी।

इस वर्ग के इस निर्णय की चंबल इलाके मे जमकर प्रंशसा की जा रही है क्योंकि गुर्जर समाज के डाकुओ के आंतक के राज में समाज के हर व्यक्ति को शक की नजर से ना केवल देखा जाता रहा है बल्कि उसकी भूमिका भी डाकू जैसी ही मानी जाती रही है।

एक समय चंबल घाटी मे कुख्यात डकैत निर्भय गुर्जर, रज्जन गुर्जर, रामवीर गुर्जर,अरविंद गुर्जर,सलीम गुर्जर और जगन गूर्जर जैसे डकैतों का खासा आंतक रहा है। इन डाकुओ के आंतक ने पूरी की पूरी गुर्जर जाति पर सवाल उठाना शुरू कर दिया था। इन दस्युओं की वजह से यहां रहने वाला पूरा गुर्जर समुदाय भी हमेशा शक के घेरे में रहता था।

दस्युओं के खौफ में इस समाज के लोग शराब व अन्य बुराइयों में डूबे हुए थे। हालांकि समय बदला और चंबल के बीहड़ से डकैतों का राज खत्म हुआ। इससे न केवल गुर्जर समुदाय ने खुलकर सांस ली बल्कि शराब से तौबा व तमाम कुप्रथाओं से भी किनारा करने का एलान कर दिया ।

चंबल में प्रतिर्स्पधा के चलते साल 2004 में गूर्जर डाकुओ में आपस में गैंगवार के चलते अरविंद रामवीर गूर्जर को मौत के घाट उतारने के लिए जहॉ निर्भय ने 20 लाख का इनाम घोषित किया था वही अरविंद और रामवीर ने निर्भय पर 40 लाख का इनाम घोषित किया लेकिन कोई किसी को ठिकाने नही लगा सका।

गुर्जर समाज के लोगों ने पूर्ण रूप से शराब बंद कर दी है। यही नहीं शादी में दहेज, चढ़ावा और तेरहवीं भी सीमित दायरे में कर दी है। इसके अलावा शराब पीने वाले पर जुर्माना और पकड़ाने वाले को इनाम का भी नियम बनाया गया है । गुर्जर समाज के उक्त संदेश ने समाज को एक नई दिशा दी है। गुर्जर समाज के अहम लोगो ने एक शर्त भी रखी गई है कि यदि गांवों में कोई भी गुर्जर समाज का व्यक्ति शराब पीए हुए पकड़ा जाता है तो उसे 11 हजार रुपये का जुर्माना कमेटी को देना होगा ।

शराब पीने वाले की सूचना देने वाले युवक को भी एक हजार रुपये का इनाम दिया जाएगा वहीं सिर्फ तीन बार ही जुर्माना स्वीकार किया जाएगा। इसके बाद उसे समाज से बहिष्कृत कर दिया जाएगा फिर समाज का कोई भी व्यक्ति न उसके घर पर अपनी बेटी की शादी करेगा और न ही उसकी बेटी को अपनी बहू बनाएगा। इस अनूठी पहल को सफल बनाने के लिए कमेटी बनाई गई है, जिसके सदस्य गांव गांव जाकर संदेश दे रहे हैं। सिर्फ शराब को तौबा कहने के साथ साथ बारात में बैंड और आतिशबाजी पर भी पूरी तरह रोक लगा दी।

गुर्जर समुदाय के बदले हुए मिजाज पर इटावा के एसएसपी अशोक कुमार त्रिपाठी कहते है कि अगर कोई समाज पुरानी कुरातियों को खत्म करने के लिए कोई नया परिवर्तन कर रहा है तो फिर इससे बेहतर और क्या बात हो सकती है। समाज के सभी लोग बधाई के पात्र है क्योंकि डाकुओ की छाप से कई परिवार का जीवन कभी बरामद हुआ रहा ।

इटावा के कर्मक्षेत्र पोस्ट ग्रेजुएट पीजी कालेज के इतिहास विभाग के विभागाध्यक्ष डाॅ0 शैलेंद्र शर्मा कहते है कि कोई भी व्यक्ति या समुदाय अपने उपर लगे हुए आक्षेपो को हटाने के लिए समाजिक कुरीतियो को दूर करने के लिए होने वाले जन आंदोलनो मे भाग लेता रहता है और यह इतिहास में भी होता रहा है वह चाहे डकैत बाल्मीक की बात हो या फिर अगुंलीमाल जैसे लोगो की। इन लोगो ने भी अपने उपर लगे आपेक्षों को हटाने के लिए जनआंदोलन मे भाग लिया था ।

वार्ता

More News
उत्तर प्रदेश में सुधरी बिजली की चाल, गर्मियों में होगी अग्नि परीक्षा

उत्तर प्रदेश में सुधरी बिजली की चाल, गर्मियों में होगी अग्नि परीक्षा

09 Jan 2019 | 1:45 PM

लखनऊ 04 जनवरी (वार्ता) दशकों तक बिजली की किल्लत का दंश झेलने वाले उत्तर प्रदेश ने बीते साल ऊर्जा क्षेत्र में स्वालंबन की दिशा में मजबूती से कदम बढ़ाये मगर बिजली विभाग की अग्नि परीक्षा आगामी गर्मी के मौसम में होगी।

 Sharesee more..
2018 में राहुल का राजनीतिक ‘कद’ बढ़ा

2018 में राहुल का राजनीतिक ‘कद’ बढ़ा

04 Jan 2019 | 11:27 AM

नयी दिल्ली, 04 जनवरी (वार्ता) श्री राहुल गांधी के कांग्रेस अध्यक्ष पद संभालने के बाद पार्टी को मिली सफलता से न केवल वह पार्टी में एकछत्र नेता बनकर उभरे बल्कि उनका राजनीतिक कद बढ़ा है तथा यह माना जाने लगा है कि वह अगले कुछ महीनों में होने वाले लोकसभा चुनाव में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिये बड़ी चुनौती बन सकते हैं।

 Sharesee more..
बीते साल रक्तरंजित रहा कश्मीर, रिकार्ड तोड़ आतंकवादी ढेर

बीते साल रक्तरंजित रहा कश्मीर, रिकार्ड तोड़ आतंकवादी ढेर

02 Jan 2019 | 12:24 PM

नयी दिल्ली 02 जनवरी (वार्ता) लगभग तीन दशकों से आतंकवाद से जूझ रहे जम्मू-कश्मीर में बीते वर्ष सेना आतंकवादियों पर भारी पड़ी और उसने जहां 250 से अधिक आतंकवादियों को ढेर किया वहीं आतंकियों से लोहा लेते हुए 90 से अधिक सुरक्षाकर्मी शहीद हुए तथा 37 नागरिक मारे गये।

 Sharesee more..
छत्तीसगढ़ में सत्ता के बदलाव के लिए याद किया जायेगा बीत रहा वर्ष

छत्तीसगढ़ में सत्ता के बदलाव के लिए याद किया जायेगा बीत रहा वर्ष

31 Dec 2018 | 12:58 PM

रायपुर 31 दिसम्बर(वार्ता)बीत रहा यह वर्ष छत्तीसगढ़ में 15 वर्षो से सत्ता पर काबिज रही भारतीय जनता पार्टी की विदाई एवं विपक्ष में बैठी कांग्रेस के दो तिहाई से भी अधिक बहुमत हासिल कर सत्ता में जोरदार वापसी के लिए याद किया जायेगा।

 Sharesee more..
बुंदेलखंड में होने लगी विकास की सुगबुगाहट

बुंदेलखंड में होने लगी विकास की सुगबुगाहट

30 Dec 2018 | 4:20 PM

झांसी 29 दिसम्बर (वार्ता) राजनीतिक इच्छाशक्ति के अभाव में दशकों से बदहाली का दंश झेलने वाले बुंदेलखंड में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेतृत्व वाली मौजूदा केंद्र और प्रदेश सरकार की महत्वाकांक्षी योजनाओं से विकास की सुगबुगाहट शुरू हो चुकी है हालांकि पृथक बुंदेलखंड राज्य की मांग को लेकर आंदोलनरत एक तबका अब भी सरकार की योजनाओं से संतुष्ट नहीं दिखता है।

 Sharesee more..
image