Friday, Sep 21 2018 | Time 15:49 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • कश्मीर में पुलिसकर्मियों के इस्तीफे की खबर दुष्प्रचार: गृह मंत्रालय
  • मणिपुर विवि से पांच प्रोफेसर और 100 से अधिक छात्र गिरफ्तार
  • पुलिसकर्मियों की हत्या आतंकवादियों की हताशा का नतीजा: मलिक
  • विश्व में सभी के लिए मानवाधिकारों को बढ़ावा देने की जरुरत: गुटेरेस
  • छोटे प्रक्षेपण यान बनाने के लिए सामने आये निजी क्षेत्र : एंट्रिक्स अधिकारी
  • गडकरी करेंगे पूर्वाेत्तर में राजमार्ग परियोजाओं की समीक्षा
  • सेंसेक्स ने लगाया 1128 अंकों का गोता;निफ्टी 368 अंक टूटा
  • सोमेंद्रनाथ मित्र बने पश्चिम बंगाल कांग्रेस अध्यक्ष
  • एनटीपीसी कर्मियों ने महाप्रबंधक को किया घेराव
  • सर्जिकल स्ट्राइक दिवस मनाना राजनीतिकरण करना नहीं: जावड़ेकर
  • रामकृष्णा इलेक्ट्रो ने पेश किया नाविक आधारित मॉड्यूल ‘यूट्रैक’
  • तंजानिया नौका हादसे में मृतकों की संख्या 86 हुई
  • सोना तीन माह के उच्चतम स्तर पर ;चांदी 20 रुपये सस्ती
मनोरंजन Share

चुरा लिया है तुमने जो दिल को ..

चुरा लिया है तुमने जो दिल को ..

..जन्मदिवस 08 सितंबर के अवसर पर ..

मुम्बई 07 सितंबर (वार्ता) अपनी आवाज की कशिश के लिए विख्यात आशा भोंसले अनेक नये प्रयोगों के साथ पिछले छह दशक में सिने जगत को 12 हजार से अधिक दिलकश और मदहोश करने वाले गीत दे चुकी हैं । हिंदी के अलावा उन्होंने मराठी बंगाली गुजराती पंजाबी तमिल मलयालम और अंग्रेजी भाषा के भी अनेक गीत गाये हैं ।

आठ सितम्बर 1933 महाराष्ट्र के सांगली गांव में जन्मी आशा भोंसले के पिता पंडित दीनानाथ मंगेश्कर मराठी रंगमंच से जुडे हुए थे । नौ वर्ष की छोटी उम्र में ही आशा के सिर से पिता का साया उठ गया और परिवार की आर्थिक जिम्मेदारी को उठाते हुए आशा और उनकी बहन लता मंगेश्कर ने फिल्मों में अभिनय के साथ साथ गाना भी शुरू कर दिया।आशा भोंसले ने अपना पहला गीत वर्ष 1948 में ..सावन आया ..फिल्म चुनरिया में गाया । सोलह वर्ष की उम्र मे अपने परिवार की इच्छा के विरूद्ध जाते हुये आशा ने अपनी उम्र से काफी बड़े गणपत राव भोंसले से शादी कर ली । उनकी वह शादी ज्यादा सफल नही रही और अंततः उन्हे मुंबई से वापस अपने घर पुणे आना पड़ा। उस समय तक गीतादत्त.शमशाद बेगम और लता मंगेश्कर पिल्मो मे बतौर पार्श्वगायिका अपनी धाक जमा चुकी थी ।

वर्ष 1957 में संगीतकार ओ.पी.नैय्यीर के संगीत निर्देशन में बनी निर्माता-निर्देशक बी.आर.चोपड़ा की फिल्म ..नया दौर.. आशा भोंसले के सिने कैरियर का अहम पड़ाव लेकर आई। वर्ष 1966 मे तीसरी मंजिल मे आशा भोंसले ने

आर.डी.बर्मन के संगीत में ..आजा आजा मै हू प्यार तेरा ..गाना को अपनी आवाज दी जिससे उन्हे काफी प्रसिद्धि मिली।

साठ और सत्तर के दशक मे आशा भोसले हिन्दी फिल्मों की प्रख्यात नर्तक अभिनेत्री ..हेलन.. की आवाज समझी जाती थी। आशा भोंसले ने हेलन के लिये तीसरी मंजिल में ..ओ हसीना जुल्फों वाली.. कारवां में .. पिया तू अब तो आजा ..मेरे जीवन साथी में आओ ना गले लगा लो ना और डॉन में ..ये मेरा दिल यार का दीवाना.. गीत गाया ।

         शास्त्रीय संगीत से लेकर पाश्चात्य धुनो पर गाने मे महारत हासिल करने वाली आशा भोंसले ने वर्ष 1981 मे प्रदर्शित फिल्म उमराव जान से अपने गाने के अंदाज मे परिवर्तन किया । फिल्म उमराव जान से आशा भोंसले एक कैबरे सिंगर और पॉप सिंगर की छवि से बाहर निकली और लोगो को यह अहसास हुआ कि वह हर तरह के गीत गाने मे सक्षम है। उमराव जान के लिये आशा ने ..दिल चीज क्या है.. और ..इन आंखो की मस्ती के.. जैसी गजलें गाकर आशा को खुद भी आश्चर्य हुआ कि वह इस तरह के गीत गा सकती है । इस फिल्म के लिये उन्हे अपने कैरियर का पहला नेशनल अवार्ड भी मिला ।

1994 मे अपने पति आर डी बर्मन की मौत से आशा भोंसले को गहरा सदमा लगा और उन्होने गायिकी से मुंह मोड़ लिया लेकिन उनकी जादुई आवाज आखिर दुनिया से कब तक मुंह मोड़े रहती। उनकी आवाज की आवश्यकता हर संगीतकार को थी। कुछ महीनों की खामोशी के बाद संगीतकार ए.आर.रहमान ने इसकी पहल की । रहमान को अपने रंगीला फिल्म के लिये आशा की आवाज की जरूरत थी। उन्होने 1995 में ..तन्हा तन्हा .. गीत फिल्म रंगीला के लिये गाया । आशा के सिने कैरियर मे यह एक बार फिर महत्वपूर्ण मोड़ आया और उसके बाद उन्होने आजकल की धूम धड़ाके से भरे संगीत की दुनिया में कदम रख दिया ।

आशा भोंसले को बतौर गायिका आठ बार फिल्म फेयर पुरस्कार मिल चुके है।आशा भोंसले को वर्ष 2001 मे फिल्म जगत के सर्वोच्च सम्मान दादा साहब फाल्के पुरस्कार से सम्मानित किया गया। इससे पूर्व उन्हें उमराव जान

और इजाजत में उनके गाये गीतों के लिये राष्ट्रीय पुरस्कार भी दिया गया। आज रिमिक्स गीतों के दौर मे बनाये गये गानो पर यदि एक नजर डाले तो पायेगे कि उनमे से अधिकांश नगमें आशा भोंसले ने ही गाये थे। इन रिमिक्स गानो मे पान खाये सइयां हमार पर्दे मे रहने दो .जब चली ठंडी हवा .शहरी बाबू दिल लहरी बाबू.झुमका गिरा रे बरेली के बाजार में काली घटा छाये मोरा जिया घबराये लोगो न मारो इसे .कह दूं तुम्हें या चुप रहूं और मेरी बेरी के बेर मत तोड़ो.जैसे सुपरहिट गीत शामिल है ।

आशा भोंसले ने हिन्दी फिल्मी गीतों के अलावा गैर फिल्मी गाने गजल .भजन और कव्वालियो को भी बखूबी गाया है । जहां एक ओर संगीतकार जयदेव के संगीत निर्देशन में जयशंकर प्रसाद और महादेवी वर्मा की कविताओ को आशा ने अपने स्वर से सजाया है वही फिराक गोरखपुरी और जिगर मुरादाबादी के रचित कुछ शेर भी गाये है। जीवन की

सच्चाइयो को बयान करती जिगर मुरादाबादी की गजल ..मैं चमन में जहां भी रहूं मेरा हक है फसले बहार पर .. उनके जीवन को भी काफी हद तक बयां करती है ।

वार्ता

More News
‘मैं दुनिया भुला दूंगा तेरी चाहत में’

‘मैं दुनिया भुला दूंगा तेरी चाहत में’

21 Sep 2018 | 1:55 PM

मुंबई 21 सितंबर (वार्ता) स्टेज से अपने करियर की शुरुआत करके शोहरत की बुलंदियों तक पहुंचने वाले बॉलीवुड के प्रसिद्ध पार्श्वगायक कुमार शानू आज भी श्रोताओं के बीच राज कर रहे हैं।

 Sharesee more..

21 Sep 2018 | 1:43 PM

 Sharesee more..

21 Sep 2018 | 1:40 PM

 Sharesee more..
‘रुक-रुक-रुक अरे बाबा रुक’ को रिक्रिएट करेंगी काजोल

‘रुक-रुक-रुक अरे बाबा रुक’ को रिक्रिएट करेंगी काजोल

21 Sep 2018 | 1:23 PM

मुंबई 21 सितंबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री काजोल अपनी आने वाली फिल्म ‘हेलिकाॅप्टर ईला’ में सुपरहिट गाने ‘रुक-रुक-रुक अरे बाबा रुक’ को रिक्रिएट करेंगी।

 Sharesee more..
सिंगर बनेंगी ऋचा चड्ढा

सिंगर बनेंगी ऋचा चड्ढा

21 Sep 2018 | 1:09 PM

मुंबई 21 सितंबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री ऋचा चड्ढा सिंगर बनने जा रही हैं।

 Sharesee more..
image