Sunday, Aug 18 2019 | Time 21:12 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • किसानों को शीघ्र मिले डीजल अनुदान का लाभ : नीतीश
  • सोशल मीडिया पर सर्वाधिक फॉलो किए जाने वाले क्रिकेटर बने विराट
  • उप्र में जेई एवं एईएस की रोकथाम में उल्लेखनीय सफलता मिली है:योगी
  • तीन तलाक निषेध कानून का विरोध तुष्टीकरण की राजनीति: शाह
  • सीटू श्रम कानूनों में बदलाव को बर्दाश्त नहीं करेगी : सुरेन्द्र मलिक
  • स्टोक्स का नाबाद शतक, ऑस्ट्रेलिया को 267 का लक्ष्य
  • रविदास मंदिर : विरोध प्रदर्शन कर राज्यपाल के नाम दिया ज्ञापन
  • मोजर बीयर से जुड़े छह ठिकानों पर सीबीआई के छापे
  • मस्तिष्काघात से स्मिथ लॉर्ड्स टेस्ट से बाहर, तीसरे टेस्ट में खेलना संदिग्ध
  • डिफेंडर कोथाजीत ने खेला 200वां अंतर्राष्टीय मैच
  • पाकिस्तान में विस्फोट में पांच मरे ,छह घायल
  • जेटली से एम्स में मुलाकात का सिलसिला रविवार को भी जारी
  • सूर्यकुण्ड धाम दर्शनीय एवं पर्यटन स्थल के रूप में होगा विकसित:योगी
  • पूर्वी मध्यप्रदेश में 24 घंटो में बारिश की झमाझम
  • फिरोजशाह कोटला में होगा विराट कोहली स्टैंड
राज्य » बिहार / झारखण्ड


छात्रों और शिक्षकों पर लाठियां बरसाने से बेहतर नहीं होगी शिक्षा : उपेंद्र

छात्रों और शिक्षकों पर लाठियां बरसाने से बेहतर नहीं होगी शिक्षा : उपेंद्र

पटना 19 जुलाई (वार्ता) राष्ट्रीय लोक समता पार्टी (रालोसपा) के अध्यक्ष एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री ने बिहार में छात्रों और नियोजित शिक्षकों पर पुलिस की लाठीचार्ज को दुर्भाग्यपूर्ण बताया और कहा कि सरकार की इस कार्रवाई से राज्य में शिक्षा की स्थिति बेहतर नहीं होगी।

श्री कुशवाहा ने आज यहां कहा कि छात्रों और शिक्षकों पर लाठियां बरसा कर बिहार में गुणवत्तापूर्ण शिक्षा नहीं दी जा सकती। उन्होंने कटाक्ष करते हुए कहा कि एक तरफ तो नीतीश कुमार ‘पढ़ेंगे युवा-बढ़ेंगे युवा’ का नारा उछालते हैं वहीं दूसरी और शिक्षकों को पुलिस से पिटवाते हैं। आखिर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार शिक्षा के सवाल पर इतना आग-बबूला क्यों हो जाते हैं।

रालोसपा अध्यक्ष ने कहा कि छात्र सड़क पर उतरते हैं तो पुलिस लाठियां बरसाती है, शिक्षक सड़क पर उतरते हैं तो भी पुलिस लाठी बरसाती है और रालोसपा शिक्षा के सवाल पर सड़क उतरती है तो नीतीश कुमार की पुलिस पार्टी नेताओं और कार्यकर्ताओं पर लाठियां बरसाती है।

श्री कुशवाहा ने कहा कि सरकारी स्कूलों में बेहतर शिक्षा के लिए रालोसपा ने सरकार के सामने पच्चीस सूत्री मांगें रखीं थीं। उनमें शिक्षकों को समान वेतनमान भी शामिल है। सरकार ने यदि उन मांगों पर ध्यान दिया होता तो न शिक्षकों और न ही छात्रों को सड़क पर उतरना पड़ता। उन्होंने मुख्यमंत्री श्री कुमार पर आरोप लगाया कि वह शिक्षा को लेकर गंभीर नहीं रहे हैं। उनके चौदह साल के कार्यकाल में सरकारी स्कूलों की हालत खस्ता है और शिक्षा बदहाल है।

सूरज

जारी (वार्ता)

image