Tuesday, Sep 17 2019 | Time 21:49 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • दुमका में बांस कारीगर मेला कल से, सभी तैयारियां पूरी
  • कुख्यात हथियार तस्कर ने किया आत्मसमर्पण
  • मऊ में बिजली गिरने से पति-पत्नी सहित तीन लोगों की मृत्यु
  • फोटो कैप्शन-तीसरा सेट
  • झारखंड पुलिस बल के कर्मियों को मिलेगा अतिरिक्त मानदेय
  • बाढ़ से बर्बाद हो रहे गांवों को बचाने का सरकार स्थायी समाधान निकालेगी:योगी
  • अमित, मनीष, संजीत, कविंदर क्वार्टरफाइनल में, पदक से एक कदम दूर
  • जौनपुर में बिजली गिरने से दो लोगों की मृत्यु
  • झारखंड में खुलेगा जनजातीय विश्वविद्यालय : अर्जुन मुंडा
  • दिल्ली वुशू टीम ने जीते 4 स्वर्ण और 4 रजत
  • काबुल में आत्मघाती हमले में 22 मरे, 38 घायल
  • प्रधानमंत्री जन आरोग्‍य योजना के तहत 47 लाख लोगों ने उपचार कराया
  • वाराणसी में 12 नवम्बर को विश्वप्रसिद्ध ‘देव दीपावली’
  • हाउडी मोदी मेगा शो में दुनिया के लिए तमाम सबक भी होंगे: जयशंकर
  • अमित, मनीष, संजीत क्वार्टरफाइनल में, पदक से एक कदम दूर
भारत


तेजपाल को सुप्रीम कोर्ट से नहीं मिली राहत

तेजपाल को सुप्रीम कोर्ट से नहीं मिली राहत

नयी दिल्ली, 19 अगस्त (वार्ता) उच्चतम न्यायालय ने दुष्कर्म मामले में तहलका पत्रिका के पूर्व प्रमुख सम्पादक तरुण तेजपाल को सोमवार को करारा झटका देते हुए उनके खिलाफ बलात्कार के तय आरोपों को निरस्त करने से इन्कार कर दिया।

न्यायमूर्ति अरुण मिश्रा, न्यायमूर्ति एम आर शाह और न्यायमूर्ति बी आर गवई की खंडपीठ ने बॉम्बे उच्च न्यायालय की गोवा पीठ के फैसले में हस्तक्षेप करने से इन्कार करते हुए निचली अदालत को सुनवाई छह माह में पूरी करने का निर्देश दिया।

गोवा पीठ ने तेजपाल के खिलाफ बलात्कार के आरोप तय करने के सत्र न्यायाधीश के फैसले को जायज़ ठहराया था। तेजपाल ने उच्च न्यायालय के फैसले को शीर्ष अदालत में चुनौती दी थी।

शीर्ष अदालत ने आज याचिका खारिज करने के साथ ही यौन-उत्पीड़न मामले की सुनवाई पर लगायी रोक हटा ली और निचली अदालत को निर्देश दिये कि वह छह महीने के भीतर सुनवाई पूरी करे। पीठ ने कहा, “हम मौजूदा मामले में याचिकाकर्ता के खिलाफ तय आरोपों को निरस्त करने के पक्ष में नहीं हैं। हम गोवा की संबंधित अदालत में चल रहे मुकदमे की सुनवाई पर लगी रोक भी हटाते हैं।”

तेजपाल पर अपनी महिला सहकर्मी से दुष्कर्म और यौन-उत्पीड़न का आरोप है। सितम्बर 2017 में गोवा की निचली अदालत ने तेजपाल पर दुष्कर्म और यौन-उत्पीड़न और अन्य धाराओं के तहत आरोप तय किये थे, जिसे बॉम्बे उच्च न्यायालय की गोवा पीठ ने जायज ठहराया था।

सुरेश.श्रवण

वार्ता

More News
12वीं सदी की बुद्ध की प्रतिमा संस्कृति मंत्री को सौंपा

12वीं सदी की बुद्ध की प्रतिमा संस्कृति मंत्री को सौंपा

17 Sep 2019 | 9:29 PM

नयी दिल्ली, 17 सितंबर (वार्ता) केन्द्रीय वित्त एवं कंपनी मामलों की कंपनी निर्मला सीतारमण ने 57 वर्ष पूर्व चोरी हुयी और ब्रिटेन में एक नीलामी के दौरान बरामद की गयी 12वीं सदी की भगवान बुद्ध की प्रतिमा को संस्कृति मंत्री प्रह्लाद पटेल को सौंप दिया है।

see more..
कर्तव्य पालन के दौरान मारे गये पुलिस कर्मियों के परिजनों को मिलेंगे एक करोड़

कर्तव्य पालन के दौरान मारे गये पुलिस कर्मियों के परिजनों को मिलेंगे एक करोड़

17 Sep 2019 | 9:21 PM

नयी दिल्ली, 17 सितम्बर (वार्ता) दिल्ली सरकार ने ड्यूटी के दौरान मारे गये आठ पुलिस कर्मियों के परिजनों के लिए सहायता राशि बढ़ाकर प्रति परिवार एक करोड़ रुपये करने का फैसला किया है।

see more..
आकृति से नहीं पता चलता कि विवादित भूमि पर देवता ही थे: धवन

आकृति से नहीं पता चलता कि विवादित भूमि पर देवता ही थे: धवन

17 Sep 2019 | 8:36 PM

नयी दिल्ली, 17 सितम्बर (वार्ता) उच्चतम न्यायालय में अयोध्या विवाद की आज 25वें दिन की सुनवाई के दौरान मुस्लिम पक्षकार ने कहा कि कोई आकृति या चिह्न मिलने से यह पुष्टि नहीं हो जाती कि विवादित स्थल पर देवता ही थे।

see more..
image