Thursday, Feb 20 2020 | Time 16:20 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • सोना 325 रुपये टूटा, चांदी 420 रुपये उछली
  • सिखों का नेपाल से है सदियों पुराना नाता:राजा ज्ञानेन्द्र
  • सुरेन्द्रनगर में मिल में लगी आग, कोई हताहत नहीं
  • शिक्षकों पर कुठाराघात कर रही नीतीश सरकार : कांग्रेस
  • पूसा किसान मेला में किसानों के भी स्वास्थ्य की जांच होगी
  • एशियाई हाथी, गोडावण विलुप्त हो रही प्रजातियों की सूची में शामिल होंगे
  • जमशेदपुर को हरा गोवा ने एएफसी चैंपियंस लीग के ग्रुप चरण में किया प्रवेश
  • निर्भया कांड के दोषी विनय ने गंभीर मानसिक रोगी बता कर दायर की याचिका
  • महिला विश्व कप में विजयी शुरुआत करने उतरेगा भारत
  • मोदी ने मिजोरम, अरुणाचल प्रदेश के स्‍थापना दिवस पर बधाई दी
  • बस हादसे में मारे गये यात्रियों की मौत पर मोदी ने जताया शोक
  • ट्राईसाईक्लाजोल और बूप्रोफेजिन पर रोक के फैसले को वापस ले सरकार: एसीएफआई
  • हर घर में शुद्ध पेेयजल पहुंचाया जायेगा
  • दिव्या ने जीता स्वर्ण, भारत की झोली में छठा पदक
भारत


दिल्ली पर मंडराया बाढ़ का खतरा

दिल्ली पर मंडराया बाढ़ का खतरा

नयी दिल्ली, 19 अगस्त (वार्ता) हरियाणा के हथिनीकुंड बैराज से 40 साल बाद यमुना नदी में सबसे अधिक पानी छोड़े जाने के बाद दिल्ली में बाढ़ का खतरा पैदा हो गया है और जल स्तर 207 मीटर तक जाने का अनुमान है जिससे निचले इलाकों में स्थिति भयावह हो सकती है।

पहाड़ी क्षेत्रों और यमुना नदी के दायरे में आने वाले क्षेत्रों में पिछले कुछ दिनों से मूसलाधार बारिश से हथिनीकुंड बैराज से रविवार को 8.72 लाख क्यूसेक पानी छोड़ा गया है। राष्ट्रीय राजधानी में यमुना नदी पर बने लोहे वाले पुल पर सोमवार सुबह जल स्तर खतरे के निशान को पार कर गया। इसे देखते हुए लोहे वाले पुल को यातायात के लिए बंद कर दिया गया है। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने स्थिति की गंभीरता को देखते हुए सभी संबंधित विभागों की आपात बैठक बुलाई है, जिसमें खतरे से निपटने के लिए उठाये जाने वाले कदमों पर विचार किया जाएगा। उल्लेखनीय है कि लोहे वाले पुल पर जल स्तर पर चेतावनी का निशान 204.50 मीटर है और आज अपराह्न 10 बजे तक यहां पर जल स्तर 204.80 मीटर हो गया। इसके कारण यमुना की तलहटी में रहने वाले लोगों को सुरक्षित जगहों पर जाने के लिए कहा गया है। बारह बजे जल स्तर 204.88 मीटर को पार कर गया है ।

केंद्रीय गृह मंत्रालय की प्रवक्ता ने ट्वीट कर कहा है कि यमुना के दायरे में आने वाले क्षेत्रों में भारी वर्षा से यमुना नदी में बाढ़ का खतरा उत्पन्न हो गया है। प्रवक्ता के अनुसार आज शाम छह बजे तक लोहे वाले पुल पर जल स्तर 205.33 मीटर तक पहुंच जाने की आशंका है। पानी में लगातार वृद्धि की आशंका जताते हुए प्रवक्ता ने कहा कि 21 अगस्त को सुबह जल स्तर 207 मीटर तक पहुंच जाने का अनुमान है।

वर्ष 1978 में हथिनीकुंड बैराज से सात लाख क्यूसेक पानी छोड़ा गया था जिससे दिल्ली में भयंकर बाढ़ आई थी। यमुना के निचले इलाकों के अलावा माडल टाउन समेत कई पाश इलाके भी लबालब हो गए थे।

यमुना में संभावित बाढ़ को देखते हुए प्रशासन सतर्क हो गया है। प्रशासन मुनादी कर यमुना की तलहटी में बसे लोगों को वहां से सुरक्षित स्थानों पर जाने के लिए कह रहा है। तलहटी से निकाले जाने वाले लोगों के लिए यमुना किनारे के पुश्तों पर टेंट लगाए गए हैं और करीब पांच हजार लोगों को निकाला जा चुका है।

प्रशासन ने 44 नावों के साथ ही 27 गोताखोरों की टीमों को अलग-अलग तैनात कर दिया है। अधिकारी खुद मौके पर जाकर स्थिति का जायजा ले रहे हैं जिससे कि किसी प्रकार की अनहोनी को टाला जा सके।

मिश्रा.श्रवण

वार्ता

More News
फसल बीमा प्रीमियम कटौती किसान के पेट पर लात : कांग्रेस

फसल बीमा प्रीमियम कटौती किसान के पेट पर लात : कांग्रेस

20 Feb 2020 | 4:03 PM

नयी दिल्ली, 20 फरवरी (वार्ता) कांग्रेस ने आरोप लगाया है कि सरकार ने किसान के लिए फसल बीमा योजना के तहत प्रीमियम राशि दो प्रतिशत से बढ़ाकर 27 फीसदी करने का निर्णय कर देश के अन्नदाता के पेट पर लात मारी है और किसान को उसके रहमोकरम पर छोड़ दिया है।

see more..
image