Friday, Dec 6 2019 | Time 08:05 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • फ्रांस में पेंशन सुधारों के खिलाफ बड़े पैमाने पर विरोध प्रदर्शन
  • ईरान में शादी समारोह में विस्फोट, 11 लोगों की मौत, 30 घायल
  • व्यापार को लेकर चीन के साथ हो रही बेहतर बातचीत : ट्रम्प
  • इराक और सीरिया में अमेरिकी गठबंधन सेना के हमलों में 1347 लोगों की मौत
  • मैक्सिको में बस दुर्घटना में 13 लोगों की मौत, 50 घायल
  • उन्नाव दुष्कर्म पीड़िता को इलाज के लिए दिल्ली लाया गया
  • जल्द पूरी हो महाभियोग की प्रक्रिया : ट्रम्प
राज्य » बिहार / झारखण्ड


देवशिल्पी विश्वकर्मा ने किया है देव के सूर्यमंदिर का निर्माण

देवशिल्पी विश्वकर्मा ने किया है देव के सूर्यमंदिर का निर्माण

औरंगाबाद 01 नवंबर (वार्ता) बिहार के औरंगाबाद जिले में देव स्थित ऐतिहासिक त्रेतायुगीन पश्चिमाभिमुख सूर्य मंदिर अपनी कलात्मक भव्यता के लिए सर्वविदित और प्रख्यात होने के साथ ही सदियों से देश-विदेश के पर्यटकों, श्रद्धालुओं और छठव्रतियों की अटूट आस्था का केंद्र बना हुआ है।

मंदिर की अभूतपूर्व स्थापत्य कला, शिल्प, कलात्मक भव्यता और धार्मिक महत्ता के कारण ही जनमानस में यह किंवदंति प्रसिद्ध है कि इसका निर्माण देवशिल्पी भगवान विश्वकर्मा ने स्वयं अपने हाथों से किया है। देव स्थित भगवान भास्कर का विशाल मंदिर अपने अप्रतिम सौंदर्य और शिल्प के कारण सदियों से श्रद्धालुओं, वैज्ञानिकों, मूर्तिचोरों, तस्करों एवं आमजनों के लिए आकर्षण का केंद्र है। काले और भूरे पत्थरों की अति सुंदर कृति जिस तरह ओडिशा के पुरी स्थित जगन्नाथ मंदिर का शिल्प है, ठीक उसी से मिलता-जुलता शिल्प देव के प्राचीन सूर्य मंदिर का भी है।

मंदिर के निर्माणकाल के संबंध में उसके बाहर ब्राह्मी लिपि में लिखित और संस्कृत में अनुवादित एक श्लोक उत्कीर्ण है, जिसके अनुसार 12 लाख 16 हजार वर्ष त्रेता युग के बीत जाने के बाद इलापुत्र पुरूर्वा ऐल ने देव सूर्य मंदिर का निर्माण आरंभ करवाया। शिलालेख से पता चलता है कि वर्ष 2018 तक इस पौराणिक मंदिर के निर्माण काल के एक लाख पचास हजार अठारह वर्ष पूरे हो गये हैं।

देव मंदिर में सात रथों से सूर्य की उत्कीर्ण प्रस्तर मूर्तियां अपने तीनों रूपों- उदयाचल-प्रात: सूर्य, मध्याचल- मध्य सूर्य और अस्ताचल -अस्त सूर्य के रूप में विद्यमान है। पूरे देश में देव का मंदिर ही एकमात्र ऐसा सूर्य मंदिर है, जो पूर्वाभिमुख न होकर पश्चिमाभिमुख है। करीब एक सौ फुट ऊंचा यह सूर्य मंदिर स्थापत्य और वास्तुकला का अद्भुत उदाहरण है। बिना सीमेंट अथवा चूना-गारा का प्रयोग किये आयताकार, वर्गाकार, अर्द्धवृत्ताकार, गोलाकार, त्रिभुजाकार आदि कई रूपों और आकारों में काटे गये पत्थरों को जोड़कर बनाया गया यह मंदिर अत्यंत आकर्षक एवं विस्मयकारी है।

जनश्रुतियों के आधार पर इस मंदिर के निर्माण के संबंध में कई किंवदंतियां प्रसिद्ध हैं, जिससे मंदिर के अति प्राचीन होने का स्पष्ट पता तो चलता है लेकिन इसके निर्माण के संबंध में अभी भी भ्रामक स्थिति बनी हुई है। निर्माण के मुद्दे को लेकर इतिहासकारों और पुरातत्व विशेषज्ञों के बीच चली बहस से भी इस संबंध में ठोस परिणाम प्राप्त नहीं हो सके हैं।

प्रेम सूरज

जारी वार्ता

image