Thursday, Aug 22 2019 | Time 19:37 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • महिलाओं के सशक्त होने से देश बढ़ेगा आगे : द्रौपदी
  • नीतीश ने लोगों को जन्माष्टमी दी बधाई
  • हरियाणा में दो एचसीएस अधिकरियों के तबादले
  • पी चिदंबरम को पांच दिन की सीबीआई हिरासत
  • ला पेगासस पोलो ने अर्जेंटीना पोलो के साथ फिर किया करार
  • पच्चीस उर्दू साहित्यकार लगभग 22 लाख रूपये की पुरस्कार राशि से सम्मानित
  • समग्र जल प्रबंधन सूचकांक रिपोर्ट कल होगी जारी
  • प्रधानमंत्री किसान मानधन योजना: झांसी में लक्ष्य के सापेक्ष 701 का पंजीकरण
  • उप्र पुलिस ने मुठभेड़ में किए छह इनामी बरामद गिरफ्तार
  • मुकदमों के तीव्र निष्पादन में सहयोग करें वकील : मुख्य न्यायाधीश
  • विदेशियों के लिए 137 पर्वत शिखर खोले गए
  • हाईकोर्ट ने केन्द्र एवं राज्य सरकार से मांगा जवाब
  • नंदग्राम कृष्णाकुंज कॉलोनी में हुई दुर्घटना के मजिस्ट्रेट जांच के आदेश
  • जींद-हांसी रेल लाईन का प्रस्ताव केंद्र सरकार को, हिसार हवाई अड्डे से उड़ानें जल्द: अभिमन्यु
  • संचार साधनों के अभाव में स्थानीय अखबारों ने पृष्ठों की संख्या घटायी
राज्य » राजस्थान


देश की तरक्की के लिए गांवों का स्मार्ट होना जरूरी-सिंह

देश की तरक्की के लिए गांवों का स्मार्ट होना जरूरी-सिंह

जोधपुर 17 जुलाई (वार्ता) राजस्थान के राज्यपाल कल्याणसिंह ने कहा है कि देश की तरक्की के लिए गांव का स्मार्ट होना जरूरी है। इसके लिए ध्येय और जज्बा जरूरी है।

श्री सिंह ने आज यहां सर्किट हाऊस में ग्रामीणों से संवाद में कहा कि गांव की तरक्की के लिए मेरी कुछ कल्पनाएं हैं और मैं खुद भी गांव का हॅूं। अगर गांव को स्मार्ट बनाना है तो ये आठ कार्य करने होंगे। उन्होंने कहा कि इसके अंतर्गत सड़क, खेतों की सिंचाई, शिक्षा, बिजली, स्वास्थ्य, सुरक्षा, स्वरोजगार एवं स्वावलबंन है। जिस दिन ये आठ कार्य पूरे हो जाएंगे उस दिन गांव स्मार्ट ही नहीं बल्कि गांवों से शहर का पलायन भी रूक जाएगा।

उन्होंने कहा है कि विश्वविद्यालय द्वारा गांव गोद लेने के बाद पहले क्या था और अब क्या बदलाव हुआ। ग्रामीणों ने कहा कि विश्वविद्यालय का पूर्ण सहयोग मिला तथा अधिकारियों एवं स्टाफ ने लगातार संपर्क बनाए रखा और गांव-गांव, गली-गली घूमकर स्वच्छता व शौचालय बनाने के कार्य भी किए। ग्रामीणों ने बताया कि विश्वविद्यालय ने पौधारोपण के लिए एक लाख रूपए की राशि भी दी। सीमा से लगते रोड़ के कनेक्शन हो गए। पानी तो नमकीन है मगर वर्षा जल संग्रहण के लिए तालाब वगैरह बने हुए है।

श्री सिंह ने कहा कि संवेदनशीलता एवं गांवों के प्रति उनका बेहतरीन सोच है और इसीलिए उन्होंने गांवों के पांच नौजवान मौके पर ही चयनित किए। उन नौजवानों को यह जिम्मेदारी दी कि आप लोग ध्यान रखेंगे कि गांव में गंदगी नहीं हो, किसी प्रकार का नशा नहीं हो तथा निरक्षरता नहीं रहे। बेटियों के पढ़ाने के सवाल पर छात्राओं ने कहा कि 10 वीं तक तो काफी छात्राएं है तथा 11 वीं एवं 12 वीं कक्षाएं तो खुल गई मगर अभी घरवालों में भेजने पर हिचकिचाहट है। इस पर राज्यपाल ने कहा कि कन्या की शिक्षाओं पर ज्यादा ध्यान दें।

image