Wednesday, Jan 20 2021 | Time 09:42 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • अमेरिकी हितों के लिए रूस के साथ नयी स्टार्ट संधि का विस्तार : ऑस्टिन
  • मराठवाड़ा में कोरोना के 215 नये मामले
  • बिडेन के शपथग्रहण समारोह में शामिल होंगे पेंस
  • आज का इतिहास (प्रकाशनार्थ 21 जनवरी)
  • अमेरिका करेगा जर्मनी से सैनिकों की संख्या कम करने के फैसले की समीक्षा
  • बिडेन प्रशासन रखेगा यमन के हौती पदनाम की समीक्षा करने का प्रस्ताव
  • इटली में कोंटे ने हासिल किया विश्वास मत
  • बिडेन के शपथग्रहण समारोह में शामिल होंगे माइक पेंस
  • जर्मनी में दुकानों- परिवहनों में फेस मास्क पहनना अनिवार्य
  • बिडेन प्रशासन उ कोरिया को लेकर अमेरिका के दृष्टिकोण की करेगा समीक्षा
  • जर्मनी में दुकानों- परिवहनों में फेस मास्क पहनना अनिवार्य
  • सऊदी अरब 10 हजार विदेशियों श्रमिकों को देगा नागरिकता
  • मोरक्को में कोरोना वायरस से संबंधित कर्फ्यू की मियाद
  • सिन्हा ने गुरु गोविंद सिंह की जयंती की दी बधाई
राज्य » अन्य राज्य


नवीन ने केन्द्र से बोर्ड परीक्षाओं की समय सीमा स्पष्ट करने का अनुरोध किया

नवीन ने केन्द्र से बोर्ड परीक्षाओं की समय सीमा स्पष्ट करने का अनुरोध किया

भुवनेश्वर ,25 नवंबर (वार्ता) ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने बुधवार को केन्द्र सरकार से बोर्ड और उच्चतर माध्यमिक परीक्षा और शैक्षिक सत्र 2020-2021 अवधि के लिए समय सीमा स्पष्ट करने का अनुरोध किया है।

श्री पटनायक ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को एक पत्र लिखकर कहा कि छात्रों, उनके शिक्षकों और अभिभावकों को शैक्षणिक सत्र ,दसवीं और बारहवीं दोनों बोर्ड परीक्षाओं तिथियों का पता नहीं चल पा रहा है और इस परीक्षा के आयोजित होने में उनमें अनिश्चितता की स्थिति बनी हुई है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि सभी प्रतियोगी परीक्षाओं और उच्च शिक्षा के संस्थानों में प्रवेश राष्ट्रीय दिशा-निर्देशों के अनुसार होता है जिससे समय सीमा के साथ राज्यों को उचित रणनीति तैयार करने में मदद मिलती है।

श्री पटनायक ने कहा कि राज्य में कोरोना वायरस (काेविड-19) महामारी के कारण गत 17 मार्च से सभी शिक्षण संस्थान बंद हैं। उन्होंने कहा कि विभिन्न हितधारकों और विशेषज्ञों से परामर्श करने के बाद छात्रों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए सरकार ने 31 दिसंबर तक सभी शैक्षणिक संस्थानों को बंद रखने का फैसला किया।



उन्हाेंने कहा कि राज्य में विभिन्न तरीकों और डिजिटल के माध्यम से अधिकतम छात्रों तक पहुंचने का प्रयास किया जा रहा है, लेकिन सभी छात्रों तक पहुंचना और उन्हें बोर्ड और विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए तैयारी करवाना संभव नहीं है।

उप्रेती जितेन्द्र

वार्ता

image