Monday, Dec 9 2019 | Time 08:01 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • सऊदी अरब ने की फ्लोरिडा हमले की जांच में सहयोग की पेशकश
  • बगदाद हवाई अड्डा के पास गिरे दो रॉकेट
  • सीरिया में रॉकेट हमले में एक की मौत, एक घायल
  • ‘विकासशील देशों के समर्थन के लिए बनी सहमतियों की प्रतिबद्धताओं का मूल्यांकन महत्वपूर्ण’
  • पेरू में तेल चोरी के आरोप में 27 सैन्यकर्मी गिरफ्तार
  • ओडेसा कॉलेज में आग से 10 की मौत, आठ लापता: ओलेक्सी
  • फिनलैंड में सन्ना बनी सबसे कम उम्र में प्रधानमंत्री निर्वाचित होने वाली महिला
  • महाभियोग लेख इस सप्ताह पेश किया जा सकता है: जेरी
  • कोस्टा रिका में मध्य स्तर के भूकंप के झटके
  • ईरान में सीमा रक्षकों ने 500 किलोग्राम अफीम जब्त किया
  • नेतन्याहू ने गाजा पट्टी में संभावित सैन्य अभियान की तैयारी का दिया आदेश
  • उत्तर कोरिया को परमाणु निरस्त्रीकरण के समझौत पर अमल करना चाहिए:ट्रम्प
राज्य » गुजरात / महाराष्ट्र


निजी जिंदगी में बेहद संवेदनशील इंसान थे मुकेश

..जन्मदिवस 22 जुलाई के अवसर पर ..
मुंबई 21 जुलाई(वार्ता) दर्द भरे नगमों के बेताज बादशाह मुकेश के गाये गीतो मे जहां संवेदनशीलता दिखाई देती है वहीं निजी जिंदगी मे भी वह बेहद संवेदनशील इंसान थे और दूसरों के दुख-दर्द को अपना समझकर उसे दूर करने का प्रयास करते थे।
एक बार एक लड़की बीमार हो गई। उसने अपनी मां से कहा कि यदि मुकेश उन्हें कोई गाना गाकर सुनाएं तो वह ठीक हो सकती है। मां ने जवाब दिया कि मुकेश बहुत बड़े गायक हैं, भला उनके पास तुम्हारे लिए कहां समय है। यदि वह आते भी हैं तो इसके लिए काफी पैसे लेंगे। तब उसके डाक्टर ने मुकेश को उस लड़की की बीमारी के बारे में बताया।
मुकेश तुरंत लड़की से मिलने अस्पताल गए और उसके गाना गाकर सुनाया और इसके लिए उन्होंने कोई पैसा भी नहीं लिया। लड़की को खुश देखकर मुकेश ने कहा.. यह लड़की जितनी खुश है..उससे ज्यादा खुशी मुझे मिली है।
मुकेश चंद माथुर का जन्म 22 जुलाई 1923 को दिल्ली में हुआ था। उनके पिता लाला जोरावर चंद माथुर एक इंजीनियर थे और वह चाहते थे कि मुकेश उनके नक्शे कदम पर चलें लेकिन वह अपने जमाने के प्रसिद्ध गायक अभिनेता
कुंदनलाल सहगल के प्रशंसक थे और उन्हीं की तरह गायक अभिनेता बनने का ख्वाब देखा करते थे। मुकेश ने दसवीं तक पढ़ाई करने के बाद स्कूल छोड़ दिया और दिल्ली लोक निर्माण विभाग में सहायक सर्वेयर की नौकरी कर ली। जहां
उन्होंने सात महीने तक काम किया। इसी दौरान अपनी बहन की शादी में गीत गाते समय उनके दूर के रिश्तेदार मशहूर अभिनेता मोतीलाल ने उनकी आवाज सुनी और प्रभावित होकर वह उन्हें 1940 में वह मुंबई ले आए और उन्हें अपने साथ
रखकर पंडित जगन्नाथ प्रसाद से संगीत सिखाने का भी प्रबंध किया ।
इसी दौरान मुकेश को एक हिन्दी फिल्म ‘निर्दोष 1941’ में अभिनेता बनने का मौका मिल गया जिसमें उन्होंने अभिनेता-गायक के रूप में संगीतकार अशोक घोष के निर्देशन में अपना पहला गीत..दिल ही बुझा हुआ हो तो..भी गाया।
हालांकि यह फिल्म टिकट खिड़की पर बुरी तरह से नकार दी गयी। इसके बाद मुकेश ने दुख,सुख,आदाब अर्ज जैसी कुछ और फिल्मों में भी काम किया लेकिन पहचान बनाने में कामयाब नही हो सके। मोतीलाल प्रसिद्ध संगीतकार अनिल विश्वास के पास मुकेश को लेकर गये और उनसे अनुरोध किया कि वह अपनी फिल्म में मुकेश से कोई गीत गवाएं। वर्ष 1945 में प्रदर्शित फिल्म पहली नजर में अनिल विश्वास के संगीत निर्देशन में .. दिल जलता है तो जलने दे..गीत के बाद मुकेश कुछ हद तक अपनी पहचान बनाने में कामयाब हो गये।
प्रेम.संजय
जारी.वार्ता
image