Monday, Aug 19 2019 | Time 11:36 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री डॉ जगन्नाथ मिश्रा का निधन
  • उन्नाव दुष्कर्म पीड़िता और उसके वकील की सड़क दुर्घटना की जांच दो सप्ताह में पूरी करे सीबीआई: सुप्रीम कोर्ट
  • बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जगन्नाथ मिश्र का निधन
  • सड़क 2 को खास फिल्म मानती है आलिया भट्ट
  • बलात्कार दोषी निरस्त करने संबंधी तरुण तेजपाल की याचिका सुप्रीम कोर्ट ने की खारिज
  • दिल्ली में मंडराया बाढ़ का खतरा, यमुना नदी का जलस्तर खतरे के निशान के पार
  • तमिलनाडु सरकार मृतकों के परिवारों को देगी को दो-दो लाख रुपये
  • दिल्ली में मंडराया बाढ़ का खतरा, यमुना नदी का जलस्तर खतरे के निशान के पार
  • पुलिस मुठभेड़ में दो कुख्यात बदमाश ढेर
  • काबुल में आत्मघाती हमले की अमेरिका ने की निंदा
  • एंटोनियो गुटेरस से मिलेंगे माइक पोम्पियो
  • रामगढ़ के चुट्टुपालु घाटी मे ट्रक पलटा , दो की मौत
  • पश्चिमी प्रशांत महासागर में भूकंप के झटके
  • युगांडा में तेल टैंकर में आग लगने से 20 की मौत, कई घायल
  • हांगकांग में हिंसा का असर अमेरिका-चीन व्यापारिक समझौते पर: ट्रम्प
राज्य » गुजरात / महाराष्ट्र


निजी जिंदगी में बेहद संवेदनशील इंसान थे मुकेश

..जन्मदिवस 22 जुलाई के अवसर पर ..
मुंबई 21 जुलाई(वार्ता) दर्द भरे नगमों के बेताज बादशाह मुकेश के गाये गीतो मे जहां संवेदनशीलता दिखाई देती है वहीं निजी जिंदगी मे भी वह बेहद संवेदनशील इंसान थे और दूसरों के दुख-दर्द को अपना समझकर उसे दूर करने का प्रयास करते थे।
एक बार एक लड़की बीमार हो गई। उसने अपनी मां से कहा कि यदि मुकेश उन्हें कोई गाना गाकर सुनाएं तो वह ठीक हो सकती है। मां ने जवाब दिया कि मुकेश बहुत बड़े गायक हैं, भला उनके पास तुम्हारे लिए कहां समय है। यदि वह आते भी हैं तो इसके लिए काफी पैसे लेंगे। तब उसके डाक्टर ने मुकेश को उस लड़की की बीमारी के बारे में बताया।
मुकेश तुरंत लड़की से मिलने अस्पताल गए और उसके गाना गाकर सुनाया और इसके लिए उन्होंने कोई पैसा भी नहीं लिया। लड़की को खुश देखकर मुकेश ने कहा.. यह लड़की जितनी खुश है..उससे ज्यादा खुशी मुझे मिली है।
मुकेश चंद माथुर का जन्म 22 जुलाई 1923 को दिल्ली में हुआ था। उनके पिता लाला जोरावर चंद माथुर एक इंजीनियर थे और वह चाहते थे कि मुकेश उनके नक्शे कदम पर चलें लेकिन वह अपने जमाने के प्रसिद्ध गायक अभिनेता
कुंदनलाल सहगल के प्रशंसक थे और उन्हीं की तरह गायक अभिनेता बनने का ख्वाब देखा करते थे। मुकेश ने दसवीं तक पढ़ाई करने के बाद स्कूल छोड़ दिया और दिल्ली लोक निर्माण विभाग में सहायक सर्वेयर की नौकरी कर ली। जहां
उन्होंने सात महीने तक काम किया। इसी दौरान अपनी बहन की शादी में गीत गाते समय उनके दूर के रिश्तेदार मशहूर अभिनेता मोतीलाल ने उनकी आवाज सुनी और प्रभावित होकर वह उन्हें 1940 में वह मुंबई ले आए और उन्हें अपने साथ
रखकर पंडित जगन्नाथ प्रसाद से संगीत सिखाने का भी प्रबंध किया ।
इसी दौरान मुकेश को एक हिन्दी फिल्म ‘निर्दोष 1941’ में अभिनेता बनने का मौका मिल गया जिसमें उन्होंने अभिनेता-गायक के रूप में संगीतकार अशोक घोष के निर्देशन में अपना पहला गीत..दिल ही बुझा हुआ हो तो..भी गाया।
हालांकि यह फिल्म टिकट खिड़की पर बुरी तरह से नकार दी गयी। इसके बाद मुकेश ने दुख,सुख,आदाब अर्ज जैसी कुछ और फिल्मों में भी काम किया लेकिन पहचान बनाने में कामयाब नही हो सके। मोतीलाल प्रसिद्ध संगीतकार अनिल विश्वास के पास मुकेश को लेकर गये और उनसे अनुरोध किया कि वह अपनी फिल्म में मुकेश से कोई गीत गवाएं। वर्ष 1945 में प्रदर्शित फिल्म पहली नजर में अनिल विश्वास के संगीत निर्देशन में .. दिल जलता है तो जलने दे..गीत के बाद मुकेश कुछ हद तक अपनी पहचान बनाने में कामयाब हो गये।
प्रेम.संजय
जारी.वार्ता
More News
सोनिया को अनुच्छेद 370 पर अपनी राय स्पष्ट करनी चाहिए :शिवराज

सोनिया को अनुच्छेद 370 पर अपनी राय स्पष्ट करनी चाहिए :शिवराज

18 Aug 2019 | 11:33 PM

पणजी 18 अगस्त(वार्ता) मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री एवं भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के वरिष्ठ नेता शिवराज सिंह चौहान ने रविवार को कहा कि कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी को अनुच्छेद 370 पर अपनी राय स्पष्ट करनी चाहिए।

see more..
प्रकाश अंबेडकर का महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव में वीबीए की जीत का दावा

प्रकाश अंबेडकर का महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव में वीबीए की जीत का दावा

18 Aug 2019 | 2:34 PM

औरंगाबाद 18 अगस्त (वार्ता) वंचित बहुजन अगाधि (वीबीए) के अध्यक्ष प्रकाश अंबेडकर ने दावा किया है कि यदि सभी अल्पसंख्यक एकजुट हो जाएं और अपना समर्थन दें तो महाराष्ट्र में वीबीए की जीत होगी।

see more..
image