Monday, Dec 9 2019 | Time 07:19 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • बगदाद हवाई अड्डा के पास गिरे दो रॉकेट
  • सीरिया में रॉकेट हमले में एक की मौत, एक घायल
  • ‘विकासशील देशों के समर्थन के लिए बनी सहमतियों की प्रतिबद्धताओं का मूल्यांक महत्वपूर्ण’
  • पेरू में तेल चोरी के आरोप में 27 सैन्यकर्मी गिरफ्तार
  • ओडेसा कॉलेज में आग से 10 की मौत, आठ लापता: ओलेक्सी
  • फिनलैंड में सन्ना बनी सबसे कम उम्र में प्रधानमंत्री निर्वाचित होने वाली महिला
  • महाभियोग लेख इस सप्ताह पेश किया जा सकता है: जेरी
  • कोस्टा रिका में मध्य स्तर के भूकंप के झटके
  • ईरान में सीमा रक्षकों ने 500 किलोग्राम अफीम जब्त किया
  • नेतन्याहू ने गाजा पट्टी में संभावित सैन्य अभियान की तैयारी का दिया आदेश
  • उत्तर कोरिया को परमाणु निरस्त्रीकरण के समझौत पर अमल करना चाहिए:ट्रम्प
लोकरुचि


पन्ना में बाघों का ही नहीं दुर्लभ चौसिंगा का भी बढ़ रहा कुनबा

पन्ना में बाघों का ही नहीं दुर्लभ चौसिंगा का भी बढ़ रहा कुनबा

पन्ना, 14 जुलाई (वार्ता) मध्यप्रदेश के पन्ना टाइगर रिजर्व में सिर्फ बाघों का ही कुनबा नहीं बढ़ा अपितु यहां के सुरक्षित वन क्षेत्र में शर्मीले स्वभाव वाले नाजुक आैर खूबसूरत वन्य प्राणी चौसिंगा की भी अच्छी खासी तादाद है।

चौसिंगा प्रजाति का हिरण भारत के अलावा दुनिया के अन्य किसी भी देश में प्राकृतिक रूप से नहीं पाया जाता है। सिर्फ नेपाल में बहुत ही कम संख्या में छिटपुट रूप से चौसिंगा मिलता है। तेजी के साथ विलुप्त हो रहे इस प्रजाति की सबसे अच्छी संख्या पन्ना टाइगर रिजर्व के जंगल में है। आश्चर्य की बात यह है कि इस लुप्त प्राय प्रजाति के बारे में बहुत ही कम लोगों को यह पता है कि एक नाजुक और खूबसूरत वन्य प्राणी लुप्त होने की कगार पर है।

लुप्त हो रहे चौसिंगा के आचार-व्यवहार, आदतों और संख्या के संबंध में पहली बार यहां कौस्तुभ शर्मा ने गहन अध्ययन व शोध किया था, तब इस अनूठे वन्य जीवन के बारे में लोगों को जानकारी हुई। शोधार्थी कौस्तुभ शर्मा के मुताबिक चौसिंगा का महत्व टाइगर से कम नहीं है। चूँकि यह प्रजाति अन्यत्र कहीं नहीं पाई जाती, इसलिये वन्य प्राणी संरक्षण अधिनियम 1972 के अन्तर्गत बाघ व चौसिंगा को एक ही श्रेणी में रखा गया है।

श्री शर्मा ने बताया कि खुशी और गौरव की बात है कि दुनिया से लुप्त हो चुके वन्य प्राणी की यह दुर्लभ प्रजाति पन्ना टाईगर रिजर्व के जंगल में अभी भी अच्छी खासी संख्या में है। वर्ष 2009 में पन्ना का जंगल बाघ विहीन हो गया था, फलस्वरूप यहां उजड़ चुके बाघों के संसार को फिर से आबाद करने के लिये बाघ पुनर्स्थापना योजना शुरू की गई थी, जिसे चमत्कारिक सफलता मिली।

मौजूदा समय पन्ना का जंगल बाघों से आबाद हो चुका है और यहां पन्ना टाइगर रिजर्व के कोर क्षेत्र सहित बफर व आस-पास के जंगल में लगभग 55 बाघ स्वच्छन्द रूप से विचरण कर रहे हैं। प्रकृति व वन्य जीव प्रेमियों का यह

मानना है कि चौसिंगा की उपलब्धता के कारण आने वाले समय में पन्ना टाइगर रिजर्व की ख्याति पूरी दुनिया में फैलेगी और पर्यावरण प्रेमियों व पर्यटकों का आकर्षण इस पार्क की ओर बढ़ेगा।

कौस्तुभ शर्मा की अध्ययन रिपोर्ट के मुताबिक पन्ना टाईगर रिजर्व के कोर क्षेत्र में (543 वर्ग किमी.) उस समय 600 से भी अधिक चौसिंगा पाये गये थे। मौजूदा समय इनकी संख्या कितनी है, इस संबंध में अधिकृत रूप से गणना के कोई आँकड़े उपलब्ध नहीं हैं, लेकिन वन अधिकारियों के बताये अनुसार चौसिंगा की संख्या में इजाफा हुआ है।

जानकारी के मुताबिक यह सबसे प्राचीन प्रजातियों में से एक है, ऐसा कहा जाता है कि नीलगाय व चौसिंगा दोनों ही प्राचीन प्रजाति के वन्य प्राणी हैं। पन्ना टाइगर रिजर्व में नीलगाय, चिंकारा व चौसिंगा का एक ही जगह पर प्रचुर संख्या में पाया जाना आश्चर्यजनक और दुर्लभ घटना है। कोमल और नाजुक सा दिखने वाला यह वन्य प्राणी इतना अहिंसक होता है कि अभी तक इन्हें लड़ते हुये नहीं देखा गया।

प्राय: मनुष्य की आबादी वाले क्षेत्रों से दूर रहने वाला यह वन्य प्राणी खुले शुष्क पतझड़ी वनों के ऊबड़-खाबड़ पहाड़ी इलाके अधिक पसंद करता है। पौधों की कोमल पत्तियां, आँवला तथा महुआ का फूल इसका पसंदीदा भोजन है। हिंसक पशुओं से बचने का मुख्य हथियार इनका छिपने की कला में पारंगत होना है। लम्बी दूरी का धावक न होने के कारण चौसिंगा अपना बचाव छिपकर करता है।

यह 30 से 40 मीटर की दूरी तक ही आमतौर पर दौड़ता है और फिर रुककर छिप जाता है। इस तरह से हिंसक जानवरों को चकमा देकर चौसिंगा अपने प्राणों की रक्षा करता है। इस अनूठे वन्य जीव की एक विशेषता यह भी है कि यह एकाकी प्राणी है और यदा कदा ही दो-चार के समूह में दिखता है। यह अपने इलाके में ही रहना पसंद करता है तथा ज्यादा विचरण नहीं करता।

प्रजनन काल (मई से जुलाई) के दौरान नर चौसिंगा अन्य नरों के प्रति आक्रामक भी हो जाता है। यहां यह जानना जरूरी है कि सिर्फ नर चौसिंगा में ही सींग होता है। जिस चौसिंगा के आगे के सींग बड़े होते हैं, उसमें प्रजनन की क्षमता अधिक होती है। नर चौसिंगा में 15 माह के बाद ही सींग बढऩा शुरू होता है तथा मादा चौसिंगा आमतौर पर दो शावकों को जन्म देती है। बच्चे जब तक बड़े नहीं हो जाते तब तक सुरक्षा की दृष्टि से उन्हें पृथक-पृथक कुछ दूरी पर रखकर पालती है। चौसिंगा के बच्चे अपनी माँ के साथ लगभग एक साल तक रहते हैं।

सं बघेल

वार्ता

More News
जनकपुर से  21 को निकलेगी राम बारात

जनकपुर से 21 को निकलेगी राम बारात

15 Nov 2019 | 3:54 PM

अयोध्या, 15 नवम्बर (वार्ता) उच्चतम न्यायालय का फैसला रामजन्मभूमि के पक्ष में आने से उत्साहित अयोध्या के बाशिंदे 21 नवम्बर को धूमधाम से राम बारात मां जानकी की नगरी नेपाल के जनकपुर ले जाने के लिये निकलेंगे।

see more..
देव दीपावली पर राेशन होंगे मथुरा के घाट

देव दीपावली पर राेशन होंगे मथुरा के घाट

10 Nov 2019 | 2:34 PM

मथुरा, 10 नवम्बर (वार्ता) तीन लोक से न्यारी मथुरा में यमुना के घाट मंगलवार को देव दीपावली के मौके पर एक बार फिर टिमटिमाते दीपकों से रोशन होंगे।

see more..
मूंछे हो तो नत्थूलाल जैसी वरना न हों

मूंछे हो तो नत्थूलाल जैसी वरना न हों

06 Nov 2019 | 11:55 AM

जौनपुर, 06 नवम्बर (वार्ता) 90 के दशक की चर्चित हिन्दी फिल्म शराबी का मशहूर डायलाग ‘मूंछे हो तो नत्थूलाल जैसी वरना न हो’ ने यहां हजारों लोगों के चेहरों पर मुस्कान ला दी जब बदलापुर महोत्सव में इसी डायलाग पर आधारित अनूठी प्रतियोगिता में 18 से अधिक मूंछधारियों में हिस्सा लिया।

see more..
छठमय हुयी राजधानी पटना

छठमय हुयी राजधानी पटना

02 Nov 2019 | 2:26 PM

पटना 02 नवंबर (वार्ता) लोक आस्था के महापर्व छठ को लेकर राजधानी पटना भक्तिमय हो गयी है।

see more..
image