Friday, Dec 6 2019 | Time 19:23 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • निर्माता वैकल्पिक ईंधन से संचालित वाहन बनाएं : गडकरी
  • विदेशी मुद्रा भंडार पहली बार 450 अरब डॉलर के पार
  • साइबर अपराधियों ने जौहरी के 2़ 98 करोड़ रुपये उड़ाये
  • जम्मू-कश्मीर नेशनल पैंथर्स पार्टी ने शनिवार को पूर्ण जम्मू बंद की अपील की
  • राष्ट्रव्यापी जीएसटी हितधारक फीडबैक दिवस का आयोजन कल
  • जनहित के मुद्दों को लेकर फरवरी में होगी खाप महापंचायत
  • रेणुका सिंह गिनायेंगी 100 दिन की उपलब्धि
  • जल और हरियाली के बिना जीवन की परिकल्पना बेमानी : नीतीश
  • अविनाश खन्ना हरियाणा और गोवा प्रदेशाध्यक्षों के चुनाव हेतु पर्यवेक्षक नियुक्त
  • वित्त आयोग ने वर्ष 2020-21 के लिए रिपोर्ट वित्त मंत्री को सौंपी
  • आदि महोत्सव में 20 करोड़ रुपए की बिक्री
  • संवाद से रखी जाती है बेहतर भविष्य की नींव : मोदी
  • अजहरुद्दीन के नाम पर स्टैंड का अनावरण
  • अजहरुद्दीन के नाम पर स्टैंड का अनावरण
  • कारागार सुधार गृह हैं, इन्हें अपराध का गढ़ नहीं बनने दिया जाएगा:योगी
भारत


पर्यावरण संरक्षण के इंदिरा के सपने को आगे बढाएंगे : सोनिया

पर्यावरण संरक्षण के इंदिरा के सपने को आगे बढाएंगे : सोनिया

नयी दिल्ली, 19 नवंबर (वार्ता) कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने कहा है कि पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने पर्यावरण, वन्य जीव तथा वन भूमि संरक्षण के लिए असाधारण योगदान दिया और उनके काम को आगे बढ़ाने के वास्ते निरंतर काम किया जाएगा।

श्रीमती गांधी ने यह बात मंगलवार को यहां सेंटर फार सांइस एंड एन्वायरोमेंट’ को वर्ष 2018 के प्रतिष्ठित ‘इंदिरा गांधी शांति, निरस्त्रीकरण तथा विकास’ पुरस्कार वितरण समारोह को संबोधित करते हुए कही। समारोह में पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी, पूर्व उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह सहित कई प्रमुख लोग मौजूद थे।

कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि यह संस्थान पूर्व प्रधानमंत्री की भावनाओं के अनुकूल पर्यावरण संरक्षण के लिए काम कर रहा है। उन्होंने कहा कि 1971 में जब देश के पूर्वी हिस्से में पाकिस्तान के कारण संकट खडा हुआ था उस संकटपूर्ण माहौल में भी उन्होंने वन्यजीव संरक्षण के लिए अहम भूमिका निभाई। उन्होंने बाध परियोजना शुरू की जिसने बाघों के संरक्षण में अहम भूमिका निभाई।

उन्होंने कहा कि श्रीमती गांधी एक मात्र विदेशी राष्ट्र प्रमुख थी जिन्होंने जून 1972 में पहले मानवीय प्रदूषण पर संयुक्त राष्ट्र सम्मेलन को संबोधित किया था। उन्होंने कहा कि श्रीमती गांधी जल, जंगल, वन्य जीव और पर्यावरण के संरक्षण के लिए चिंतित रहती थीं इसलिए उन्होंने वन संरक्षण विधेयक लेकर आयी।

श्री अंसारी ने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री ने स्टाकहोम में पर्यावरण संरक्षण को लेकर जो विजन दिया था उसी सोच के तहत दुनिया आज आगे बढ रही है। उन्होंने कहा कि यह पुरस्कार उनकी सोच को आगे बढाने के लिए दशकों से दिया जा रहा है और उम्मीद जताई कि आगे भी इसी तरह के व्यक्तियों तथा संस्थानों को सम्मानित किया जाता रहेगा।

सेंटर फार एन्वायरोमेंट की सुनीता नारायण ने हामिद अंसारी से पुरस्कार लेने के बाद कहा कि दिल्ली में प्रदूषण की जो स्थिति है उसके लिए हम ही जिम्मेदार हैं। उन्होंने कहा कि यहां की जमीन उसके बड़े हिस्से पर सड़कों का जाल बना हुआ है। उन्होंने कहा कि इस स्थिति पर गंभीरता से ध्यान देने की आवश्यकता है।

अभिनव.श्रवण

वार्ता

More News
मोदी-आबे वार्षिक बैठक 15-17 दिसंबर को पूर्वोत्तर में

मोदी-आबे वार्षिक बैठक 15-17 दिसंबर को पूर्वोत्तर में

06 Dec 2019 | 7:18 PM

नयी दिल्ली, 06 दिसंबर (वार्ता) भारत-जापान 14वीं वार्षिक शिखर बैठक 15 से 17 दिसंबर के बीच होगी जिसमें शामिल होने के लिए जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे भारत आएंगे।

see more..
नित्यानंद के बारे में सभी देशों को सूचना भेजी

नित्यानंद के बारे में सभी देशों को सूचना भेजी

06 Dec 2019 | 7:09 PM

नयी दिल्ली 06 दिसंबर (वार्ता) विदेश मंत्रालय ने भगोड़े संन्यासी नित्यानंद के बारे में दुनिया भर में अपने मिशनों के माध्यम से सभी देशों को जानकारी दे दी है और उसे शरण नहीं देने का अनुरोध किया है।

see more..
image