Friday, Mar 5 2021 | Time 12:42 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • विश्व में कोरोना संक्रमितों की संख्या 11 56 करोड़ के पार
  • महाराष्ट्र में कोरोना के सक्रिय मामलों में लगातार वृद्धि, केरल में घटे
  • मोदी ने बीजू पटनायक को उनकी जयंती पर श्रद्धांजलि अर्पित की
  • बारामूला में तलाश एवं घेराबंदी अभियान शुरू
  • कोरोना के सक्रिय मामले और मृतकों की संख्या में बढ़ोतरी
  • शिवराज को मोदी समेत वरिष्ठ भाजपा नेताओं ने दीं जन्मदिन की शुभकामनाएं
  • नायडू ने की देश दुनिया में शांति समृद्धि की कामना
  • विदेशों में उबाल, देश में छठवें दिन ईंधन की कीमतों में टिकाव
  • अमेरिका में अर्थव्यवस्था के लिए 1 9 ट्रिलियन डॉलर का राहत पैकेज
  • ब्राजील में कोविड-19 से 2 60 लाख से अधिक लोगों की मौत
  • ताइवान को हथियारों की आपूर्ति करना आवश्यक : एडमिरल डैविडसन
  • न्यूजीलैंड में तेज भूकंप के बाद सुनामी की चेतावनी
  • तुर्की हेलीकॉप्टर दुर्घटना : मृतकों की संख्या 11 हुई
  • अमेरिका में कोविड-19 से 5 20 लाख से अधिक लोगों की मौत
राज्य » अन्य राज्य


पलानीस्वामी ने विभिन्न परियोजनाओं और उड़ान सेवा को लेकर मोदी को सौंपा ज्ञापन

चेन्नई, 19 जनवरी (वार्ता) तमिलनाडु के मुख्यमंत्री ई के पलानीस्वामी ने प्रायद्वीपीय नदियों को जोड़ने के काम में तेजी लाने , विभिन्न परियोजनाओं और कोयम्बटूर से संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) तक सीधी उड़ान सेवा शुरू करने के लिए धन की मांग संबंधी ज्ञापन मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को सौंपा।
श्री पलानीस्वामी ने प्रधानमंत्री को सौंपे ज्ञापन की प्रतियां मीडिया के साथ साझा करते हुए कहा कि उन्होंने प्रधानमंत्री से उड़ान योजना के तहत सलेम और चेन्नई के बीच शाम की उड़ान सेवाओं को शुरू करने का आग्रह किया है, क्योंकि भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण ने सलेम हवाई अड्डे पर रात में विमानों के उतरने का काम पूरा कर लिया है।
श्री मोदी से कोयम्बटूर हवाई अड्डे से यूएई तक उड़ान सेवा शुरू करने का भी आग्रह किया है।उन्होंने कहा कि कोयम्बटूर, इरोड और तिरुप्पूर जिलों के यात्री संयुक्त अरब अमीरात के दुबई की यात्रा करते हैं और उनकी मांग है कि कोयम्बटूर और दुबई के बीच सीधी उड़ान सेवा शुरू की जाए। ऐसे में प्रधानमंत्री से मेरा आग्रह है कि वे नागरिक उड्डयन मंत्रालय को कोयम्बटूर अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे और दुबई के बीच सीधी उड़ान सेवा शुरू करने का निर्देश दें।
उन्होंने कहा कि प्रायद्वीपीय नदियों के पहले चरण की परियोजना के रूप में राष्ट्रीय जल विकास एजेंसी (एनडब्ल्यूडीए) ने गोदावरी-कावेरी (ग्रैंड एनीकट) लिंक के लिए एक विस्तृत परियोजना रिपोर्ट (डीपीआर) तैयार की है, जिसे मार्च 2019 में संबंधित राज्यों को भेज दिया गया है। तमिलनाडु की यह अपील एनडब्ल्यूडीए के विचाराधीन है।
श्री पलानीस्वामी ने महानदी को गोदावरी नदी के साथ जोड़े जाने के समय प्रधानमंत्री को पहले चरण की इस परियोजना से तमिलनाडु को कम से कम 200 अरब घन फुट पानी और दूसरे चरण में 300 अरब घन फुट पानी उपलब्ध कराने संबंधी पत्रों को याद कराते हुए कहा कि नदियों को जोड़ने के बाद से हमारे देश के विकास के एजेंडे में बदलाव आया है।
उन्होंने प्रधानमंत्री से इस परियोजना की विस्तृत परियोजना रिपोर्ट को अंतिम रूप देने और काम को प्राथमिकता के आधार पर पूरा करने के लिए केंद्रीय जल शक्ति मंत्री को निर्देश देने का आग्रह किया था, ताकि बाढ़ के पानी के एक जलाशय से दूसरे जलाशय में हस्तांतरण से दक्षिणी राज्यों को फायदा हो सके।
मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्होंने श्री मोदी से कावेरी-गुंडर लिंकेज परियोजना को प्राथमिकता के आधार पर एक राष्ट्रीय परियोजना के रूप में मंजूरी देने और तमिलनाडु के विशाल सूखा प्रभावित क्षेत्रों पर इसके अधिक प्रभाव को देखते हुए वित्तीय सहायता प्रदान करने का भी आग्रह किया था।
उन्होंने श्री मोदी की घोषणा कि कावेरी नदी को ' नमामि गंगे ' परियोजना की तर्ज पर स्वच्छ बनाया जाएगा, पर कहा कि श्री मोदी से इस परियोजना पर नमामि गंगे की तरह एक विशेष परियोजना के रूप में विचार करने , मंजूरी देने और जल्द तमिलनाडु द्वारा मांगी गई 713.39 करोड़ रुपये की वित्तीय सहायता को बढ़ाने का आग्रह किया गया था।
उन्होंने चेन्नई मेट्रो रेल परियोजना पर श्री मोदी से 50-50 प्रतिशत संयुक्त उद्यम भागीदारी के तहत पहले और दूसरे चरण की संशोधित परियोजना लागत को मंजूरी देने का आग्रह किया जो अनुमानित 6 करोड़ 81 लाख रुपये की लागत से 118.9 किलोमीटर के क्षेत्र को कवर करती है।
सं जितेन्द्र
वार्ता
image