Wednesday, Nov 25 2020 | Time 16:47 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • न्यूजीलैंड में लगभग सौ पायलट व्हेल मछलियों की मौत
  • भारत-ऑस्ट्रेलिया वनडे इतिहास के 40 साल पूरे
  • गुरुग्रंथ साहिब अपमान मामले को स्थानांतरित करने संबंधी याचिका खारिज
  • अफगानिस्तान में कार बम विस्फोट, 18 घायल
  • कर्नाटक के पूर्व मंत्री रोशन बेग अस्पताल में भर्ती
  • मंत्रिमंडल ने लक्ष्‍मी विलास बैंक के डीबीएस बैंक में विलय को दी मंजूरी
  • मुनाफावसूली से घरेलू शेयर बाजार धड़ाम
  • एक राजनीतिज्ञ तथा एक इंसान के तौर पर याद किए
  • नवीन ने केन्द्र से बोर्ड परीक्षाओं की समय सीमा स्पष्ट करने का अनुरोध किया
  • फ्रांसिसी संसद में विवादित वैश्विक सुरक्षा बिल पास
  • बस पलटने से एक युवक की मौत और 15 यात्री घायल
  • केमिकल कंपनी में लगी भीषण आग
  • उधमसिंह नगर में किन्नर से लूट के आरोप में दो गिरफ्तार
  • रुपया 10 पैसे उछला
राज्य » उत्तर प्रदेश


पीएम स्वनिधि योजना गरीबों के श्रम का सम्मान: मोदी

पीएम स्वनिधि योजना गरीबों के श्रम का सम्मान: मोदी

लखनऊ 27 अक्टूबर (वार्ता) प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि पीएम स्वनिधि योजना गरीबों के श्रम का सम्मान है और आत्मनिर्भर भारत बनाने में गरीबों के योगदान को इसके माध्यम से पहचान मिल रही है।

श्री मोदी ने मंगलवार को पीएम स्वनिधि लाभार्थियों के साथ वर्चुअल संवाद के दौरान कहा कि उनकी सरकार देश के गरीबों के उत्थान के लिए लगातार काम कर रही है जिसका परिणाम है कि गरीबों के लिए बनाई गई योजनाओं का लाभ उन्हें त्वरित गति से मिल रहा है। इन योजनाओं का लाभ लेने में आने वाली दिक्कतों को तकनीकी का प्रयोग कर खत्म किया जा रहा है। उत्तर प्रदेश की सरकार केन्द्रीय योजनाओं के साथ-साथ अपनी योजनाओं को प्रभावी ढंग से लागू कर गरीबों को लाभ पहुंचाकर उनका जीवन सुगम बना रही है।

उन्होने कहा कि लाभार्थियों से बात करने पर पता चला कि आज बैंक खुद उनके पास पहुंचकर इस योजना का लाभ उपलब्ध करा रहे हैं। उन्होंने गरीब रेहड़ी, ठेले वालों, पटरी दुकानदारों को ऋण के रूप में आर्थिक मदद पहुंचाने के लिए बैंकों की प्रशंसा करते हुए कहा कि इस योजना को सफल बनाने के लिए बैंक कर्मियों ने बहुत मेहनत की है। आज का दिन आत्मनिर्भर भारत के लिए अत्यन्त महत्वपूर्ण है। यह दिन कठिन परिस्थितियों पर उत्तर प्रदेश के गरीब कैसे विजय प्राप्त करते हैं, इस बात को प्रदर्शित करता है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि कोरोना काल के दौरान रेहड़ी, ठेले वालों और पटरी दुकानदारों के ऊपर रोजगार का संकट आ गया था। सरकार इनकी आर्थिक दशा सुधारने और इन्हें फिर से रोजगार मुहैया कराने की दिशा में लगातार कार्य कर रही थी, जिसका प्रतिफल यह योजना है। कोरोना काल में गरीबों की सहायता के लिए 1.70 लाख करोड़ रुपये की प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना शुरू की गई। इसके अलावा 20 लाख करोड़ रुपये के विशेष अर्थिक पैकेज को भी लागू किया गया। इस पैकेज के माध्यम से कोविड-19 से उत्पन्न परिस्थितियों से निपटने तथा देश को आत्मनिर्भर बनाने में काफी मदद मिल रही है। इसके तहत गरीबों को रोजगार उपलब्ध कराने पर विशेष रूप से फोकस किया जा रहा है।

प्रदीप

जारी वार्ता

image