Friday, Apr 3 2020 | Time 22:41 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • सीवान के चार कोरोना संक्रमितों की रिपोर्ट निगेटिव, पॉजिटिव मरीजों की संख्या बढ़कर 30
  • मोइत्रा के पत्र पर स्वत: संज्ञान लेकर ‘सुप्रीम’ सुनवाई, केंद्र को नोटिस
  • समस्तीपुर में काेरोना संदिग्ध की मौत
  • राजस्थान हाईकोर्ट के आदेश पर सुप्रीम कोर्ट ने लगायी रोक
  • शुक्रवार को भी कोरोना वायरस संक्रमण के मामले तेजी से बढ़े, संक्रमित बढ़कर 2547 हुए
  • मनी लॉण्ड्रिंग के मामले में एनडीटीवी को सुप्रीम कोर्ट से राहत
  • उत्तराखंड में कोरोना के छह नए मामले, कुल 16 संक्रमित
  • फोटो कैप्शन पहला/दूसरा सेट
  • कुशीनगर में पकड़े गये 14 नेपाली जमाती , सभी को क्वारंटीन किया
  • कोरोना जैसे शत्रु के साथ लड़ाई में शिथिलता की गुंजाइश नहीं : कोविंद
  • दिल्ली से सहारनपुर आये व्यक्ति की जांच कोराना पॉजिटिव
  • माईटीम11 ने प्रधानमंत्री राहत कोष में दिए पांच लाख
  • लाॅकडाउन का उल्लंघन करने वालों पर एनएसए एवं गैंगेस्टर के तहत हो कार्रवाई
  • रिश्वत मामले में करमलाल को मिली जमानत
  • इंदौर जिले के डॉक्टर्स एवं पैरामेडिकल स्टाफ के अवकाश निरस्त
राज्य » पंजाब / हरियाणा / हिमाचल


पिछली सरकार में खेल किट वितरण में अनियमितताओं की जांच 30 दिन में

पिछली सरकार में खेल किट वितरण में अनियमितताओं की जांच 30 दिन में

चंडीगढ़, 27 फरवरी(वार्ता)पंजाब के खेल मंत्री राणा गुरमीत सिंह सोढी ने कहा है कि राज्य में खेल किटों और जिम के सामान के वितरण में अनियमितताओं की जांच तीस दिन में करवाई जायेगी।

उन्होंने आज विधानसभा में प्रश्नकाल के दौरान अकाली सदस्य पवन कुमार टीनू की ओर से खेल किटों के वितरण में देरी को लेकर पूछे गये सवाल के जवाब में यह जानकारी दी । उन्होंने पिछली बादल सरकार के दौरान 30 करोड़ रुपए मूल्य के खऱीदे खेल सामान के मामले में तथ्यों की जांच की जिम्मेदारी खेल विभाग को सौंपने का ऐलान करते हुए कहा कि यह जाँच 30 दिनों में पूरी कर ली जायेगी ।

श्री सोढी ने कहा कि पिछली अकाली दल-भाजपा सरकार के कार्यकाल के दौरान राज्य में खेल किटों और जिम के सामान के वितरण में गड़बड़ी होने के कई मामले सामने आए हैं जिस कारण खेल सामान के वितरण की जांच करानी आवश्यक है।

खेल मंत्री ने कहा कि पिछली सरकार के समय जो खेल किटें और जिम का सामान बाँटा गया ,उसके बारे में शिकायतें मिली हैं। यह खेल किटें और जिम का सामान किस-किस क्लब को दिया गया और किस आधार पर दिया गया, इसका कोई रिकॉर्ड नहीं है और मामले की गंभीरता तथा 30 करोड़ रुपए की बड़ी राशि से हुई खऱीद की जांच करवानी ज़रूरी है।

उन्होंने कहा कि वर्ष 2019-20 सैशन के दौरान खेल विंगों में कुल 4140 खिलाडिय़ों को जुलाई, 2019 और इसके बाद दाखि़ल किया गया। उन्होंने बताया कि विंगों में शामिल रैज़ीडैंशियल खिलाडिय़ों को 200 रुपए और डे-स्कॉलर खिलाडिय़ों को 100 रुपए प्रति खिलाड़ी प्रति दिन की दर से ख़ुराक/रिफ्रैशमैंट, प्रशिक्षण और खिलाडिय़ों के विभिन्न खेलों से सम्बन्धी सामान मुहैया करवाया जाता है। खिलाडिय़ों को रहने, खाने-पीने, डॉक्टरी सहायता और पढऩे-लिखने की मुफ़्त सुविधा भी मुहैया करवाई जाती है।

शर्मा

वार्ता

image