Tuesday, Jan 21 2020 | Time 14:15 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • अगले वित्त वर्ष में बढ़ेगी ग्रामीण माँग : रिपोर्ट
  • आईसीआईसीआई की ‘कार्डलेस कैश निकासी’ की पेशकश
  • राजीव हत्याकांड: सुप्रीम कोर्ट ने तमिलनाडु सरकार से मांगी यथास्थिति रिपोर्ट
  • भारत को सर्बिया में हुये नेशंस कप में 6 पदक
  • केजरीवाल के नामांकन के दौरान हंगामा
  • शाहजहांपुर में बस पलटी,13 घायल
  • बिजली परियोजनाओं में विलंब पर संगमा ने जतायी चिंता
  • जेम सिलेक्शंस की किश्तों में भुगतान पर रत्न खरीदने की पेशकश
  • ट्रेन में महिला के साथ सामूहिक दुष्कर्म, एक गिरफ्तार
  • भिलाई में अबोध बच्चे सहित तीन लोगो की हत्या कर शव को जलाया
  • गोंडा में नाव पलटने से 11 के डूबने की आशंका
  • कनाडा और आॅस्ट्रेलिया ने कोरोनावायरस को लेकर चेताया
  • बैंककर्मी को गोली मारकर 80 हजार की लूट
  • अक्षय कुमार ने ली 120 करोड़ की फीस !
  • अक्षय कुमार ने ली 120 करोड़ की फीस !
राज्य » राजस्थान


पानीपत मामले में सेंसर बोर्ड को हस्तक्षेप करना चाहिए-गहलोत

पानीपत मामले में सेंसर बोर्ड को हस्तक्षेप करना चाहिए-गहलोत

जयपुर 09 दिसम्बर (वार्ता) राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा है कि पानीपत फिल्म मामले में सेंसर बोर्ड को हस्तक्षेप कर संज्ञान लेना चाहिए।

श्री गहलोत ने आज सोशल मीडिया के जरिए कहा कि फिल्म में महाराजा सूरजमल के चित्रण को लेकर जो प्रतिक्रियाएं आ रही हैं, ऐसी स्थिति पैदा नहीं होनी चाहिए थी। सेंसर बोर्ड इसमें हस्तक्षेप करे और संज्ञान ले।

उन्होंने कहा कि डिस्ट्रीब्यूटर्स को चाहिए कि फिल्म के प्रदर्शन को लेकर जाट समाज के लोगों से अविलम्ब संवाद करें। फिल्म बनाने से पहले किसी को भी किसी के व्यक्तित्व को सही परिप्रेक्ष्य में दिखाना सुनिश्चित करना चाहिए ताकि विवाद की नौबत नहीं आए।

मुख्यमंत्री ने कहा “मेरा मानना है कि कला का सम्मान होना चाहिए, कलाकार का सम्मान हो परंतु उनको भी ध्यान रखना चाहिए कि किसी भी जाति, धर्म या वर्ग के महापुरुषों का और देवताओं का अपमान नहीं होना चाहिए।

जोरा

वार्ता

image