Wednesday, Dec 11 2019 | Time 19:27 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • हरियाणा के पांच जिलों में छात्राओं के लिये चलेंगी विशेष बसें: शर्मा
  • एनएचएआई निवेश ट्रस्ट बनाने के लिए अधिकृत
  • आधारभूत संरचना निवेश ट्रस्ट का गठन होगा
  • पुन: जारी राष्ट्रीय गुजरात दंगे रिपोर्ट पेश तीन अंतिम गांधीनगर
  • भारत और ब्राजील के बीच सामाजिक सुरक्षा समझौते को मंजूरी
  • पुन: जारी राष्ट्रीय गुजरात दंगे रिपोर्ट पेश दो गांधीनगर
  • पेयजल निगम में भ्रष्टाचार के मामले को चुनौती
  • अंतरराष्ट्रीय वित्तीय सेवा केन्द्र प्राधिकरण विधेयक लोकसभा से पारित
  • सम्भल में क्राइम ब्रांच का निरीक्षक 40 हजार की घूस लेते रंगे हाथ गिरफ्तार
  • सीडीएससीओ और सऊदी खाद्य एवं औषधि प्राधिकरण के बीच समझौता को मंजूरी
  • हरियाणा में कैदियों की हाेगी हेेपेटाइटिस-बी जांच
  • आईआईएफसीएल की अधिकृत पूंजी 25 हजार करोड़ रुपए
  • अनुच्छेद 370 हटाए जाने के मामले की सुप्रीम कोर्ट में गुरुवार को होगी लगातार सुनवाई
  • महिलाओं को स्वयं स्थापित करनी होगी अपनी गरिमा
  • असम में छात्रों ने सीएबी के विरोध में सचिवालय की घेराबंदी की
भारत


प्याज को लेकर अमित शाह ने की बैठक

प्याज को लेकर अमित शाह ने की बैठक

नयी दिल्ली, 22 नवंबर (वार्ता) पिछले दो माह से देश में जारी प्याज के संकट को देखते हुए केन्द्रीय गृह मंत्री एवं भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष अमित शाह ने शुक्रवार को एक उच्च स्तरीय बैठक बुलाई।

संसद परिसर में आज शाम हुई बैठक में प्याज की बढ़ती कीमतों को देखते हुए इसकी कमी को दूर करने के लिए प्याज के आयात के क्रियान्वयन को लेकर गंभीर विचार विमर्श किया गया। सूत्रों के अनुसार बैठक में केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, केंद्रीय वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री पीयूष गोयल, केंद्रीय खाद्य एवं उपभोक्ता मामलों के मंत्री राम विलास पासवान आदि उपस्थित थे।

बैठक की समाप्ति पर श्री शाह या किसी भी मंत्री ने कोई जानकारी पत्रकारों को नहीं दी लेकिन सूत्रों का कहना है कि गत दिनों मंत्री मंडल ने एक लाख बीस हज़ार टन प्याज के आयात का फैसला किया था। उस फैसले के क्रियान्वयन के लिए यह बैठक बुलाई गई थी। श्री शाह ने निर्देश किया कि प्याज का आयात जितना जल्द हो सके ,किया जाए। सूत्रों का कहना है कि अगले एक सप्ताह के भीतर मिस्र आदि देशों से प्याज का आयात होना शुरू हो जाएगा।

गौरतलब है कि इन दिनों प्याज की कीमतें 80-90 रुपये तक पहुंच गई हैं जिससे गहरा संकट पैदा हो गया है। झारखंड में हो रहे चुनाव पर भी यह मूल्य वृद्धि असर डाल सकती है और दिल्ली में भी अगले वर्ष चुनाव होने हैं। मोदी सरकार दिल्ली में तत्काल इस संकट को दूर करने का प्रयाय कर रही है।

अरविंद आशा

वार्ता

More News
जापान के साथ इस्पात के क्षेत्र में सहयोग ज्ञापन पर हस्‍ताक्षर को मंजूरी

जापान के साथ इस्पात के क्षेत्र में सहयोग ज्ञापन पर हस्‍ताक्षर को मंजूरी

11 Dec 2019 | 7:22 PM

नयी दिल्ली 11 दिसंबर (वार्ता) केंद्रीय मंत्रिमंडल ने इस्‍पात क्षेत्र में सहयोग मजबूत करने के लिए ‘भारत-जापान इस्‍पात संवाद’ के गठन के लिए जापान के साथ सहयोग ज्ञापन (एमओसी) पर हस्‍ताक्षर किये जाने को मंजूरी दे दी है।

see more..
image