Tuesday, Jan 28 2020 | Time 16:34 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • प्रोत्साहन आधारित स्क्रैपेज नीति बने : सियाम
  • थाईलैंड में कोरोना वायरस के छह नये मामले, 20000 चीनी पर्यटक फंसे
  • पैनासोनिक ने विद्यार्थियों के लिए लाँच किये दो प्लेटफार्म
  • उ अफगानिस्तान में तालिबान के साथ झड़पोंं में 10 पुलिसकर्मियों की मौत
  • दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी पिज्जा आउटलेट शृंखला कंपनी लिटिल सीजर्स भारत में खोलगी 500 स्टोर
  • संधू होंगे अमेरिका में भारत के नये राजूदत
  • 40 काले हिरण, चिंकारा का शिकार करने वालों की तुरंत गिरफ्तारी हो: बिश्नोई
  • सीएए के विरोध में गांधी के शहादत दिवस पर बनायी जाएगी मानव श्रृखंला
  • रहस्यमयी बुखार से बंगलादेश में दो मरे
  • देशद्रोह मामले में शरजील इमाम बिहार के जहानाबाद से गिरफ्तार
  • निर्भया: मुकेश की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट बुधवार को सुनाएगा फैसला
  • तमिलनाडु में कोई भी काेरोना वायरस से प्रभावित नहीं:मंत्री
  • शरजील इमाम बिहार से गिरफ्तार
  • कश्मीर में ताजा हिमपात, श्रीनगर-जम्मू राजमार्ग फिर बंद
राज्य » गुजरात / महाराष्ट्र


पार्षद जामसंडेकर हत्या मामले में गवली के उम्रकैद की पुष्टि

मुंबई, 09 दिसंबर (वार्ता) महाराष्ट्र संगठित अपराध नियंत्रण कानून (मकोका) की विशेष अदालत ने वर्ष 2012 में शिव सेना के पार्षद की हत्या मामले में कुख्यात गिरोहबाज अरुण गवली को उम्रकैद की सजा सुनायी थी जिसकी बम्बई उच्च न्यायालय ने सोमवार को पुष्टि कर दी।
खंडपीठ के न्यायाधीश बी पी धर्माधिकारी और न्यायाधीश स्वप्ना जोशी ने अरुण गवली और अन्य की सजा की पुष्टि की।
शिव सेना के पार्षद कमलाकर जामसंडेकर की मार्च 2008 में गवली गिरोह के सदस्यों ने हत्या कर दी थी।
गवली ने जामसंडेकर की हत्या की ‘सुपारी’ ली थी और विशेष अदालत ने वर्ष 2012 में गवली को उम्रकैद की सजा सुनायी थी जिस पर आज उच्च न्यायालय ने पुष्टि कर दी। हत्या के बाद अरुण गवली को गिरफ्तार किया गया था और तब से वह जेल में है। गवली को नागपुर की सेंट्रल जेल में रखा गया है।
मकोका अदालत ने गवली को उम्रकैद के साथ ही 17 लाख रुपये का दंड भी लगाया था और दंड की रकम नहीं भरने पर तीन वर्ष और सजा काटने का आदेश सुनाया था।
इस मामले में अदालत ने सुनील घाटे के अलावा नौ अन्य लोगों को भी उम्रकैद की सजा सुनायी थी। अदालत ने घाटे को शस्त्र अधिनियम के तहत तीन वर्ष की सजा सुनायी थी।
सरकारी वकील ने अदालत को बताया कि गवली और10 अन्य लोगों ने श्री जामसंडेकर की हत्या करने के लिए 30 लाख रूपये का ठेका लिया था। श्री जामसंडेकर वर्ष 2007 में बृहन्मुंबई महानगर पालिका का चुनाव जीता था। श्री जामसंडेकर की हत्या के मामले में गवली और अन्य आरोपियों पर हत्या का षडयंत्र रचने का आरोप लगाया गया था। रिपोर्ट के अनुसार श्री जामसंडेकर अपने व्यवसाय विरोधी साहबराव बिंताड़े और बाला सुर्वे को सहयोग नहीं कर रहे थे।
इक्कीस मई 2008 को गवली को गिरफ्तार किया गया और अक्टूबर 2010 को गवली के खिलाफ आरोप पत्र दाखिल किया गया। गवली और अन्य पर आपराधिक षडयंत्र रचने का आरोप पत्र में आरोप लगाया गया था। सरकारी वकील ने इस मामले में अपराधियों को मृत्यु दंड देने की मांग की थी लेकिन गवली के वकील ने अदालत को बताया था कि गवली को राजनीतिक कारणों से निशाना बनाया गया।
गवली वर्ष 2004 में विधायक बना लेकिन मई 2008 में हत्या के मामले में उसे गिरफ्तार किया गया और तब से ही वह जेल में है।
गवली के वकील एस पाटिल ने बाद में कहा कि उच्च न्यायालय के आदेश के खिलाफ अपील करेंगे।
त्रिपाठी.श्रवण
वार्ता
image