Wednesday, Jan 27 2021 | Time 08:56 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • अमेरिकी सीनेट ने ट्रम्प पर महाभियोग को रोकने वाले प्रस्ताव को किया खारिज
  • अमेरिका में कोविड-19 से 4 24 लाख से अधिक लोगों की मौत
  • चीन में कोरोना संक्रमण के 20 नये मामले
  • विश्व में कोरोना संक्रमितों की संख्या 10 करोड़ के पार
  • अमेरिका में गर्मी के मौसम तक 30 करोड़ लोगों को दी जायेगी कोरोना वैक्सीन
  • बिडेन और पुतिन ने की कई महत्वपूर्ण मुद्दों पर चर्चा
  • जी-7 समूह के सदस्य देशों ने किया नवेलनी की गिरफ्तारी का विरोध
  • सनी देयोल ने दीप सिद्धू से खुद को किया अलग
राज्य » उत्तर प्रदेश


फैजाबाद अयोध्या हो सकता है तो हैदराबाद ‘भाग्य नगर’ क्यों नहीं: योगी

फैजाबाद अयोध्या हो सकता है तो हैदराबाद ‘भाग्य नगर’ क्यों नहीं: योगी

लखनऊ 28 नवम्बर (वार्ता) उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने हैदराबाद में एक जनसभा को संबोधित करते हुये कहा कि फैजाबाद का नाम अयोध्या हो सकता है तो हैदराबाद का नामकरण भाग्यनगर क्यों नहीं हो सकता।

श्री योगी ने शनिवार को कहा “लोग मुझसे पूछ रहे थे क्या हैदराबाद भाग्य नगर हो सकता है। मैंने कहा क्यों नहीं, हमने कहा देखिए, उत्तर प्रदेश में भाजपा की सरकार आई, हमने फैजाबाद को अयोध्या कर दिया। इलाहाबाद को प्रयागराज कर दिया। गंगा यमुना दो पवित्र नदियां मिलती हैं। कुंभ का आयोजन होता है, तो फिर यहां का वास्तविक नाम भाग्य नगर क्यों नहीं हो सकता। भाग्य नगर का मतलब संप्रति का प्रतीक भाग्य नगर का मतलब विकास का प्रतीक। ”

उन्होंने कहा कि अयोध्या में भगवान श्रीराम के भव्य मंदिर के निर्माण के लिए तेलंगाना और हैदराबाद से भारी संख्या में कारसेवक गए थे। आपके पूर्वज लगातार आंदोलन करते रहे, लेकिन कुछ लोग थे, जो आपकी आस्था का अपमान करते थे। वह हर प्रयास कर रहे थे कि किसी भी स्थिति में अयोध्या में मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्रीराम के निर्माण का मार्ग न प्रशस्त हो, उनका एक ही प्रयास था। लेकिन हम सब आभारी हैं पीएम मोदी जी के। 492 वर्षों में जो कार्य नहीं हो पाया, प्रधानमंत्री ने शांतिपूर्ण तरीके से मंदिर निर्माण का मार्ग प्रशस्त कर राष्ट्र गौरव के लिए हम सबको अवसर दिया।

तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) और आल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लिममीन (एआईएमआईएम) पर बरसते हुये उन्होंने कहा कि एआईएमआईएम के दो भाई हमेशा उलटा बोलते हैं और टीआरएस को एआईएमआईएम जैसे नमूने अराजकता फैलाने के लिए मिल गए हैं। उन्होंने कहा कि जब देश के सारे नेता सो रहे थे तो प्रधानमंत्री कोविड वैक्सिन के लिए अहमदाबाद हैदराबाद और पुणे की लैब का दौरा कर रहे थे। आपके बीच भी आए थे। टीआरएस के मुख्यमंत्री तो आज तक हैदराबाद की लैब में गए भी नहीं होंगे।

हैदराबाद के मलकजगिरि में और शालीबंदा लाल दरवाजा के अलका थिएटर ग्राउंड में आयोजित जनसभा के दौरान श्री योगी ने हाल ही में हुए बिहार विधानसभा चुनाव का जिक्र करते हुए कहा कि एआईएमआईएम का एक विधायक बना, लेकिन जब संविधान की शपथ लेने की बात आई, तो उन्होंने हिंदुस्तान बोलने से इनकार कर दिया। हिंदुस्तान के नाम पर शपथ नहीं ली। हिंदुस्तान में रहेंगे, हिंदुस्तान का खाएंगे, लेकिन जब संविधान की शपथ हिंदुस्तान के नाम पर लेने की बात आएगी, तो हिंदुस्तान नाम बोलने में संकोच करेंगे, यह एआईएमआईएम की असलियत को बताने का कार्य करता है।

उन्होंने कहा कि लोकतंत्र में परिवारवाद के लिए जगह नहीं होनी चाहिए, लेकिन दुर्भाग्य से यहां पर टीआरएस सरकार ने एआईएमआईएम के साथ एक गठबंधन कर जनता की भावना के साथ खिलवाड़ किया है। उन्होंने कहा “ मैं पूछना चाहता हूं टीआरएस की सरकार से हाल ही में यहां बाढ़ आई थी। अगर प्रधानमंत्री देश के अंदर 12 करोड़ किसानों को प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि का छह हजार रुपए सालाना डीबीटी के माध्यम से आनलाइन उनके अकाउंट में डाल सकते हैं, तो फिर हैदराबाद में बाढ़ पीड़ितों की दी जाने वाली धनराशि गरीबों के खाते में क्यों नहीं पहुंच पाई है।”

श्री योगी ने कहा कि ये भ्रष्टाचार फैलाने की चोट और लूट खसोट की छूट यहां पर आखिर क्यों दी गई। ये चीजें एक बात को बताती हैं, जिस हैदराबाद के सामने विकास की बहुत संभावनाएं थीं, आज उन सपनों को धूल धूसरित करने का कार्य कर रहा है यहां पर एक परिवार और उनकी मित्र मंडली। इसमें कोई संदेह नहीं होना चाहिए। एक तरफ आपके पूर्वजों ने निजामशाही के खिलाफ एक लड़ाई लड़ी थी और निजाम के रूप में एक परिवार फिर से आकर इस पूरे तेलंगाना और हैदराबाद में लूट खसोट का एक नया जरिया बनाने का दुस्साहस करे, यह स्वीकार नहीं होना चाहिए।

उन्होंने कहा “ मैंने आज देखा कि यहां पर एक नदी के अतिक्रमण को न हटाने के कारण लोगों को बाढ़ की त्रासदी का सामना करना पड़ रहा है। मैं पूछना चाहता हूं कि एक नदी यहां पर भी है, लेकिन टीआरएस की सरकार उस नदी को और भी प्रदूषित कर दी है। उस नदी की अविरलता, निर्मलता इसलिए नहीं बन सकती, क्योंकि एआईएमआईएम से जुड़े हुए लोगों ने अवैध कब्जे कर यहां के लोगों को बाढ़ से पूरी तरह से डूबोने की साजिश का हिस्सा बनाकर कब्जा किया है। टीआरएस और एआईएमआईएम की मित्रता इस पवित्र नदी की अविरलता और निर्मलता में बाधक है। ये जो नापाक गठबंधन बना है यह यहां के विकास को अवरूद्ध कर रहा है।”

प्रदीप

वार्ता

More News
अधिकारों के साथ कर्तव्य बोध भी कराता है संविधान : योगी

अधिकारों के साथ कर्तव्य बोध भी कराता है संविधान : योगी

26 Jan 2021 | 11:53 PM

लखनऊ 26 जनवरी,(वार्ता) उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मंगलवार को कहा कि संविधान के प्रति श्रद्धा और सम्मान का भाव प्रत्येक व्यक्ति का दायित्व है। संविधान अधिकारों के साथ-साथ अपने उन कर्तव्यों के प्रति भी जागरूक करता है, जो एक नागरिक के रूप में देश के प्रति आवश्यक हैं।

see more..
नागरिकों के संविधान प्रदत्त अधिकार छीनने की साजिश: अखिलेश

नागरिकों के संविधान प्रदत्त अधिकार छीनने की साजिश: अखिलेश

26 Jan 2021 | 10:49 PM

लखनऊ 26 जनवरी (वार्ता) किसान आंदोलन को बदनाम करने का आरोप लगाते हुये समाजवादी पार्टी (सपा) अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि नागरिकों के संविधान प्रदत्त अधिकार छीनने की साजिशें हो रही हैं।

see more..
आनंदीबेन ने राजभवन में तिरंगा फहराया

आनंदीबेन ने राजभवन में तिरंगा फहराया

26 Jan 2021 | 10:33 PM

लखनऊ 26 जनवरी (वार्ता) उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने 72वें गणतंत्र दिवस के अवसर पर राजभवन में ध्वजारोहण किया तथा राजभवन के अधिकारियों, कर्मचारियों एवं सुरक्षाकर्मियों को शुभकामनाएं दी।

see more..
image