Saturday, Aug 24 2019 | Time 21:00 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • मोबाइल लूटकांड का उद्भेदन, दो गिरफ्तार
  • मालगाड़ी के 17 डिब्बे पटरी से उतरे
  • मध्यप्रदेश में फिर भारी बारिश की चेतावनी
  • खेल जगत ने जेटली के निधन पर जताया शोक
  • खेल जगत ने जेटली के निधन पर जताया शोक
  • जन्माष्टमी पर द्वारका और डाकोर में उमड़ी श्रद्धालुओं की भीड़
  • आज साफ हो गया कि कश्मीर में हालात सामान्य नहीं हैं: राहुल
  • आदमपुर से तीन सगे भाई 22 अगस्त से लापता
  • अफगानिस्तान स्कूल ने छत्तीसगढ़ स्कूल को 8-1 से हराया
  • अफगानिस्तान स्कूल ने छत्तीसगढ़ स्कूल को 8-1 से हराया
  • जेटली के निधन पर उत्तराखंड में 25 अगस्त को राजकीय शोक
  • गुजरात के मुख्यमंत्री ने जेटली के निधन पर जतायाी शोक, अंतिम यात्रा में करेंगे शिरकत
  • जजपा प्रदेशाध्यक्ष बोले, टोहाना से ही लडूंगा विधानसभा चुनाव
  • पुड्डुचेरी में 150 रेहड़ी-पटरी वाले गिरफ्तार
  • जेटली के शोक में काली पट्टी बांध कर उतरे भारतीय खिलाड़ी
राज्य » मध्य प्रदेश / छत्तीसगढ़


बालिका की मृत्यु पर कार्रवाई की मांग

बड़वानी 19 जुलाई (वार्ता) मध्यप्रदेश के बड़वानी जिले के सेंधवा स्थित शासकीय सिविल अस्पताल में दस्तक अभियान के तहत खून चढ़ाए जाने के उपरांत ढाई वर्षीय बालिका की मृत्यु के बाद अस्पताल प्रबंधन पर कार्रवाई की मांग की गई है।
आज दोपहर ग्राम बाखरली के सुनील ने सेंधवा की एसडीएम अंशु जावला को दिए शिकायती पत्र में बताया कि स्वास्थ्य विभाग के दल ने 17 जुलाई को उसके घर आकर छोटी पुत्री वैशाली का वजन नापा और उसे अन्य चार बच्चों के साथ सेंधवा के शासकीय सिविल अस्पताल में ले जाया गया।
उसी रात उसे खून की बोतल चढ़ाए जाने की थोड़ी देर बाद ही उल्टी तथा दस्त आरंभ हो गए तथा नर्स ने 3 इंजेक्शन देकर उन्हें बच्ची को घर ले जाने को कहा। सुनील ने बताया कि वह अपनी बहन के घर मडगांव उस बच्ची को ले आया जहां अगले दिन वह बेहोश हो गई और उसकी मृत्यु हो गई। उसने अस्पताल प्रबंधन की कथित लापरवाही के विरुद्ध कार्रवाई की मांग की है।
सेंधवा के विकास खंड चिकित्सा अधिकारी डॉ जेपी पंडित ने बताया कि कम वजन होने के चलते एनीमिक बच्ची को शासकीय सिविल अस्पताल में खून चढ़ाने के लिए भर्ती कराया गया था। उसे करीब 24 घंटे तक रखा जाना था किंतु परिजन डॉक्टरी सलाह के विपरीत उसे अपने घर ले गए। आज बच्ची के शव का पोस्टमार्टम करवाकर विसरा सुरक्षित कर परीक्षण हेतु भेजा जा रहा है इससे बच्ची की मृत्यु का सही कारण पता चल सकेगा।
सं नाग
वार्ता
image