Wednesday, Nov 21 2018 | Time 13:04 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
दुनिया Share

भारत की अनदेखी कर चीन के साथ सैन्य अभ्यास करेगा नेपाल

काठमांडू 12 सितंबर (वार्ता) नेपाल ने बिम्सटेक देशों के साथ सैन्य अभ्यास में हिस्सा नहीं लेने की घोषणा कर भारत की अनदेखी की है और चीन के साथ 12 दिवसीय सैन्य अभ्यास में हिस्सा लेने का फैसला किया है। मीडिया रिपोर्टों में यह जानकारी दी गयी है।
गौरतलब है कि पुणे में बिम्सटेक देशों के संयुक्त सैन्य अभ्यास में नेपाल शामिल नहीं हो रहा है और कुछ दिन बाद ही चीन की सेना के साथ नेपाली सेना 12 दिनों तक सैन्य अभ्यास करेंगी। नेपाल के अलावा बिम्सटेक सदस्य देशों की सेनाओं ने सोमवार से पुणे के पास औंध में एक सप्ताह का आतंक-विरोधी सैन्य अभ्यास शुरू किया। इस अभ्यास का मकसद इस क्षेत्र में आतंकवाद की चुनौती से निपटने में सहयोग में बढ़ोतरी करना है। बिम्सटेक में भारत, बंगलादेश, म्यांमार, श्रीलंका, थाइलैंड, भूटान और नेपाल जैसे देश शामिल हैं ।
नेपाली सेना के प्रवक्ता ब्रिगेडियर जनरल गोकुल भंडारी ने बताया कि चीन के साथ यह अभ्यास 17 से 28 सितंबर तक छेंगदू में किया जाएगा और इसका मुख्य मकसद आतंकवाद विरोधी अभ्यास करना है।
चीन के साथ सैन्य अभ्यास का फैसला नेपाल सरकार ने सत्तारूढ़ नेपाली कम्युनिस्ट पार्टी के शीर्ष नेताओं के विरोध तथा अन्य लोगों की आलोचना के बाद लिया है। नेपाल सरकार ने यह निर्णय ऐसे समय लिया है जब उसने चीन के साथ पारगमन एवं यातायात संबंधी समझौते को अंतिम रूप दे दिया है और इसके बदले उसकी पहुंच चीन के समुद्री बंदरगाहों तथा जमीनी रास्ते तक हो जाएगी।
इस समझौते में कहा गया कि अब नेपाल चीन के शुष्क बंदरगाहों लांझहू, ल्हासा तथा शिगात्सी और इन्हें जोड़ने वाली सड़कोें का भी इस्तेमाल कर सकेगा।
इस बीच, भारत ने नेपाल के इस फैसले पर नाखुशी जाहिर की है और उसे स्पष्ट कर दिया कि यह फैसला उचित नहीं है
एक अन्य रिपोर्ट में कहा गया है,“ भारत सरकार ने नेपाली नेतृत्व को स्पष्ट कर दिया है कि आंतरिक राजनीतिक दबाव का उसका स्पष्टीकरण यकीन करने लायक नहीं है।”
वाणिज्य मंत्रालय के एक अधिकारी रवि शंकर सैंजू ने बताया कि जापान, दक्षिण कोरिया और अन्य उत्तर एशियाई देशों से नेपाल आने वाला सामान अब चीन के रास्ते से होकर आएगा जिससे सामान लागत तथा समय दोनों की बचत होगी। नेपाल का जमीनी व्यापार कोलकाता के पूर्वी बंदरगाह से मुख्यत: होता है जिसमें कम से कम तीन महीने का समय लगता है।
जानकारों का मानना है कि चीन के साथ जाकर नेपाल व्यापार के क्षेत्र में भारत के प्रभुत्व को कम करना चाहता है क्योंकि ईंधन और अन्य जरूरी सामानों के लिए वह भारत के बंदरगाह पर अधिक निर्भर रहता है।
दरअसल 2015 और 2016 में नेपाल और भारत सीमा पर काफी लंबे समय तक जारी आर्थिक नाकेबंदी से नेपाल को बहुत दिक्कतों का सामना करना पड़ा था अौर यहां ईंधन तथा दवाओं की किल्लत हो गयी थी। नेपाल के इस फैसले को इस लिहाज से भी आश्चर्यजनक नहीं कहा जा सकता है क्योंकि प्रधानमंत्री के पी शर्मा ओली का झुकाव काफी हद तक चीन की तरफ है।
जितेन्द्र.श्रवण
वार्ता
More News
अफगानिस्तान हवाई हमले में 14 आतंकवादी ढेर

अफगानिस्तान हवाई हमले में 14 आतंकवादी ढेर

20 Nov 2018 | 4:06 PM

मजार-ए-शरीफ 20 नवंबर (शिन्हुआ) अफगानिस्तान की उत्तरी प्रांत के चारबोलक और बलख जिलों में पिछले 24 घंटों के दौरान हवाई हमलों में कम से कम 14 आतंकवादी मारे गये और 20 अन्य घायल हो गये।

 Sharesee more..

चीन में सड़क हादसे में नौ मरे, नौ घायल

20 Nov 2018 | 4:13 PM

 Sharesee more..

पाकिस्तान को यूएई से मिले एक अरब डालर

20 Nov 2018 | 4:13 PM

 Sharesee more..
image