Tuesday, Jul 23 2019 | Time 21:31 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • ग्वालियर मामले में कमलनाथ ने दिए तुरंत कार्रवाई के निर्देश
  • बिहार विधानसभा में चालू वित्त वर्ष का प्रथम अनुपूरक बजट पारित
  • कर्नाटक के मुख्यमंत्री कुमार स्वामी ने राज्यपाल को इस्तीफा सौंपा
  • चंदौली में असलहा तस्कर गिरफ्तार, बड़ी संख्या में हथियार बरामद
  • कर्नाटक में सियासी नाटक का पटाक्षेप,कुमारस्वामी सरकार गिरी
  • दलित मुस्लिम आरक्षण की मांग को लेकर सुप्रीम कोर्ट का घेराव
  • कर्नाटक में सियासी नाटक का पटाक्षेप,कुमारस्मामी सरकार गिरी
  • जलवायु परिवर्तन पर लक्ष्य से बेहतर कर सकता है भारत : एल्बा
  • उत्तर प्रदेश में अगले तीन दिन में भी कुछ जिलों में होगी भारी बारिश
  • जलवायु परिवर्तन पर लक्ष्य से बेहतर कर सकता है भारत : एल्बा
  • हिमाचल में भूकंप के हल्के झटके
  • जैसन, स्टोन आयरलैंड के खिलाफ करेंगे टेस्ट क्रिकेट में पदार्पण
  • दिल्ली पुलिस ने कुंडली से बरामद की 50 किलो हेरोइन
  • वन प्रबंधन में स्थानीय लोगों की भागीदारी आवश्यक: कोविंद
  • ‘फेसबुक लाइव’ ने ली युवक की जान
राज्य » राजस्थान


मूक-बधिरों की व्यथा समझने के लिए कार्मिकों को मिलेगा प्रशिक्षण

मूक-बधिरों की व्यथा समझने के लिए कार्मिकों को मिलेगा प्रशिक्षण

जयपुर, 17 जून (वार्ता) राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा है कि अस्पतालों, थानों और अन्य सरकारी विभागों में अधिकारी मूक-बधिरों की सुनवाई संवेदनशीलता के साथ कर सकें इसके लिए आमजन से जुड़े सरकारी कार्यालयों के कार्मिकों को सांकेतिक भाषा का विशेष प्रशिक्षण दिलाया जाएगा।

श्री गहलोत ने आज उनसे मिलने आय मूकबधिरों के प्रतिनिधिमंडल से संवाद करते हुए कहा कि मूक-बधिरों के लिए दिव्यांग प्रमाण-पत्र बनाने की प्रक्रिया को अधिक प्रामाणिक बनाने के लिए जिला अस्पतालों में बेरा डिवाइस लगाये जायेंगे इससे नकली प्रमाण-पत्र बनाने पर रोक लगेगी। उन्हाेंने कहा कि मूक-बधिरों की सांकेतिक भाषा समझने वाले विशेषज्ञों और अध्यापकों को उनके लिए स्थापित शिक्षण संस्थाओं में पदस्थापित किया जाए।

संवाद के दौरान श्री गहलोत ने दिव्यांगजनों के प्रतिनिधिमंडल से कहा कि हमारी सरकार ने सरकारी नौकरियों में दिव्यांगजनों का आरक्षण तीन प्रतिशत से बढ़ाकर चार प्रतिशत किया था। इसके साथ ही उनके लिए आरक्षित सीटों पर उपयुक्त अभ्यर्थी नहीं मिल पाने से खाली रही सीटों को दो साल बाद अन्य कोटे से भरने के प्रावधान को समाप्त करने की मांग का भी परीक्षण किया जाएगा। इससे दिव्यांगजनों का बैकलॉग अन्य कोटे से नहीं भरा जा सकेगा।

इस अवसर पर श्री गहलोत नवे ग्रामीण विकास एवं पंचायतीराज विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव को निर्देश दिए कि दिव्यांगजनों को मनरेगा में व्यक्तिगत लाभ के कार्याें में तथा योग्यता के आधार पर मेट आदि के लिए नियोजित करने में प्राथमिकता दी जाए। साथ ही, अधिकारियों को डेयरी बूथ आंवटन में भी दिव्यांगों को प्राथमिकता देने के निर्देश दिए।

More News
प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के प्रचार हेतु प्रचार रथ रवाना

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के प्रचार हेतु प्रचार रथ रवाना

23 Jul 2019 | 8:47 PM

अजमेर 23 जुलाई (वार्ता) राजस्थान के अजमेर में प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के प्रचार प्रसार के लिए आज जिला कलेक्टर विश्व मोहन शर्मा ने हरी झंडी दिखाकर तीन प्रचार रथों को रवाना किया।

see more..
image