Wednesday, Jul 8 2020 | Time 13:04 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • पेट्रोल-डीजल के दाम स्थिर
  • गोपालगंज तालाब में डूबकर युवक की मौत
  • भागलपुर में भारी मात्रा में शराब बरामद, कारोबारी गिरफ्तार
  • गांधी प्रतिष्ठानों में वित्तीय अनियमिताओं की जांच में समन्वय के लिये समिति गठित
  • अमीश देवगन के खिलाफ दंडात्मक कार्रवाई पर रोक बढ़ाई गयी
  • खगड़िया में किराना दुकानदार की हत्या
  • भागलपुर में युवक का शव बरामद
  • आठ पुलिस वालों के हत्यारे विकास पर अब पांच लाख का इनाम
  • चंपावत-टनकपुर राष्ट्रीय राजमार्ग भूस्खलन के कारण हुआ बंद
  • औरैया में कोरोना जंग जीतने वालों ने लगाया शतक
  • उत्तराखंड में कार खाई में गिरने से एक की मौत
  • दुर्लभ नारियल पेड़ को बचाने के प्रयास तेज
  • हाईकोर्ट यादव सिंह की जमानत याचिका का आज ही निपटारा करे: सुप्रीम कोर्ट
  • अल्मोड़ा में बारिश के कारण मकान ढहने एक ही परिवार के तीन लोगों की मौत
  • चीन के हुबेई में भूस्खलन से नौ की मौत
फीचर्स


मुगलकालीन चित्रकला और रागमाला का बेजोड़ संगम है रजा लाइब्रेरी

मुगलकालीन चित्रकला और रागमाला का बेजोड़ संगम है रजा लाइब्रेरी

रामपुर 01 अप्रैल (वार्ता) सदियों तक नवाबी सभ्यता के केन्द्र रहे उत्तर प्रदेश के रामपुर में स्थित रजा लाइब्रेरी में संग्रहित पांडुलिपियां मुगलकालीन चित्रकला की अनूठी दास्तां बयां कर रही है वहीं रागमाला पर आधारित अलबम किसी का भी ध्यान बरबस अपनी ओर खींच लेता है।

लाइब्रेरी में हस्तनिर्मित लगभग 5000 लघुचित्र हैं जिसमें सबसे बड़ा भाग मुगल चित्रकला पर आधारित है। इन चित्रों अकबर एलबम, जहाँगीर एलबम एवं रागमाला पर्यटकों के आकर्षण का केन्द्र बने रहते है। इन चित्रों को गुजरे जमाने के मशहूर चित्रकार मनोहर, फतेहचंद, बिशनदास, कान्हा, फर्रूखचेला, साँवला, नरसिंह, गोवर्धन, मुहम्मद आबिद आदि ने बनाया है।

लाइब्रेरी में सुरक्षित 35 रागमाला चित्रों का महत्वपूर्ण एलबम संकलित है, जिसका एक चित्र एलबम में नहीं है क्योंकि यह रागमाला एलबम 36 राग एवं रागनियों के आधार पर चित्रित है जिसमें राग व रागनियाँ सुंदर चित्रों, प्राकृतिक दृश्यों, देवी-देवताओं, युवा संगीतज्ञ पुरुष एवं महिलाएं, विभिन्न वस्तुएँ समय परिस्थितियों के माध्यम से दर्शाये गए हैं।

रागमाला एलबम में किसी चित्रकार अथवा समय का उल्लेख नही है लेकिन मुगल काल के अन्य चित्रों के साथ विश्लेषण कर इन चित्रों का समय भी 16वीं और 17वीं सदी का ज्ञात होता है। चित्र रचना का ढंग उस समय के बने अन्य चित्रों से मिलता है।

सं प्रदीप

जारी वार्ता

More News
‘कोरोना’ के डर ने प्रकृति को दिया संवरने का मौका

‘कोरोना’ के डर ने प्रकृति को दिया संवरने का मौका

22 Apr 2020 | 12:01 AM

लखनऊ 21 अप्रैल (वार्ता) मानव जीवन के इन दिनों दहशत का पर्याय बने नोवल कोरोना वायरस के खतरे से निपटने के लिये पूरी दुनिया एकजुट होकर उपाय खोज रही है वहीं लाकडाउन के इस मौके का फायदा उठाते हुये प्रकृति भी अपने बिगड़े स्वरूप को संवारने में व्यस्त है।

see more..
लाकडाउन के दौरान दिनोदिन निर्मल हो रही है श्यामल यमुना

लाकडाउन के दौरान दिनोदिन निर्मल हो रही है श्यामल यमुना

12 Apr 2020 | 2:11 PM

मथुरा, 12 अप्रैल (वार्ता) पतित पावनी श्याम वर्ण यमुना की निर्मलता को वापस लाने के लिए जो काम न्यायपालिका, सरकार और स्वयंसेवी संस्थायें न कर सकी, उस काज को दुनिया के लिये काल बन कर विचरण कर रहे अनचाहे सूक्ष्म विषाणु ‘कोरोना’ के डर ने कर दिखाया है।

see more..
मुगलकालीन चित्रकला और रागमाला का बेजोड़ संगम है रजा लाइब्रेरी

मुगलकालीन चित्रकला और रागमाला का बेजोड़ संगम है रजा लाइब्रेरी

01 Apr 2020 | 4:46 PM

रामपुर 01 अप्रैल (वार्ता) सदियों तक नवाबी सभ्यता के केन्द्र रहे उत्तर प्रदेश के रामपुर में स्थित रजा लाइब्रेरी में संग्रहित पांडुलिपियां मुगलकालीन चित्रकला की अनूठी दास्तां बयां कर रही है वहीं रागमाला पर आधारित अलबम किसी का भी ध्यान बरबस अपनी ओर खींच लेता है।

see more..
हमीरपुर के 37 गावों के मिट्टी के टीलों की खुदायी पर लगायी रोक

हमीरपुर के 37 गावों के मिट्टी के टीलों की खुदायी पर लगायी रोक

21 Mar 2020 | 8:24 PM

हमीरपुर,21 माच्र (वार्ता) पुरातत्व विभाग ने उत्तर प्रदेश में हमीरपुर जिले के तीन ब्लाकों के 32 गांव में सर्वे करने के बाद दस हजार साल पुरानी सभ्यता के कई अवशेष मिलने के बाद 37 गांवों के मिट्टी के टीलाें को खोदने पर रोक लगाने के आदेश दिये है।

see more..
मुलायम के इटावा में आज भी शिद्दत से याद किये जाते हैं कांशीराम

मुलायम के इटावा में आज भी शिद्दत से याद किये जाते हैं कांशीराम

14 Mar 2020 | 11:34 AM

इटावा, 14 मार्च (वार्ता) दलितों की राजनीति की बदौलत देश के लोकप्रिय नेताओं में शुमार रहे बहुजन समाज पार्टी (बसपा) संस्थापक कांशीराम को आज भी समाजवादी पार्टी (सपा) संस्थापक मुलायम सिंह यादव के गृह जिले इटावा में पूरे आदर भाव के साथ याद किया जाता है।

see more..
image